मैं ऐसी जिंदगी नहीं जी सकता…मैं पढ़ना चाहता था, सुसाइड से पहले युवक ने हथेली पर लिखा था ये संदेश

News State Bureau  | Reported By : आदित्य नामदेव |   Updated On : July 26, 2019 02:22:28 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

मैं ऐसी जिंदगी नहीं जी सकता…मैं पढ़ना चाहता था, लेकिन मुझे...यह संदेश 18 साल के गणेश राम देवांगन ने खुदकुशी से पहले अपनी हथेली में मां के नाम लिखा था. मामला छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के धरसींवा के देवरी गांव का है, जिसने तंगहाली की तरफ इशारा कर खुद फांसी से झूल गया. जिस तरह की बातें गणेश ने अपनी हथेली में लिखा है, उससे एक बात साफ है कि वो अपने और अपने परिवार की गरीबी से बेहद नाखुश था. 

यह भी पढ़ें- तस्करों के आरोपों की सजा भुगत रहे हैं 3 कछुए, सालों से कर रहे हैं रिहाई का इंतजार

गणेश ने अपने घर पर गुरुवार की शाम 4 बजे फांसी लगा ली. ग्रामीणों के मुताबिक गणेश परिवार को चलाता था. मां बीमारी की वजह से काम नहीं कर पाती थी, लिहाजा गणेश मजदूरी का काम किया करता था. वो 12वीं की पढ़ाई करता था. मजदूरी की वजह से वो स्कूल भी नहीं जा पाता था. लोगों के मुताबिक, गणेश पढ़ने का शौक रखता था, लिहाजा जब भी मौका मिलता, वो पढ़ाई जरूर करता.

यह भी पढ़ें- बुखार से तप रहा छात्र छुट्टी मांगने पहुंचा तो टीचर ने बेरहमी से कर दी पिटाई

हालांकि पहले कभी ऐसा नहीं लगा कि वो खुदकुशी कर लेगा, हालांकि वो गरीबी और परिवार को लेकर हमेशा जरूर चिंतित रहा करता था. गुरुवार को अचानक से उसने ऐसा कदम उठा लिया. हथेली पर उसने मां को अपना ख्याल रखने और अपनी पढ़ाई नहीं कर पाने की बातों को लिखा है. फिलहाल पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है.

यह वीडियो देखें- 

First Published: Jul 26, 2019 02:22:28 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो