BREAKING NEWS
  • मायावती ने यूपी सरकार से पूछा- गलत आर्थिक नीतियों की सजा 25 हजार होमगार्ड्स को क्यों- Read More »
  • अपनी ही सरकार की अफसरशाही से परेशान कांग्रेस विधायक, मुख्यमंत्री से मिलकर लगाई गुहार- Read More »
  • Rupee Open Today 16th Oct 2019: डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपया कमजोर, 5 पैसे गिरकर खुला भाव- Read More »

13 सालों से फर्जी प्रमाण पत्रों के आधार पर नौकरी कर रहे थे 13 टीचर्स, जांच के बाद बर्खास्त

News State Bureau  | Reported By : आदित्य नामदेव |   Updated On : June 14, 2019 09:59:53 AM

(Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

छत्तीसगढ़ में आखिरकार फर्जी प्रमाण पत्रों के आधार नौकरी कर रहे शिक्षाकर्मियों पर बर्खास्तगी की गाज गिर गयी है. अभनपुर जनपद पंचायत ने 13 शिक्षाकर्मियों को बर्खास्त करने का आदेश जारी कर दिया गया है. इस बाबत सभी संबंधित BEO को निर्देश भी जारी कर दिया गया है. दरअसल, 13 शिक्षाकर्मी फर्जी प्रमाण पत्रों के आधार पर वर्ग 3 की नौकरी लेकर अभनपुर क्षेत्र की विभिन्न शालाओं में पिछले 13-14 वर्षों से पढ़ा रहे थे. उन सभी 13 शिक्षाकर्मियों को बर्खास्त कर दिया गया है.

यह भी पढ़ें- छत्तीसगढ़ में अब सभी शराब दुकानों में नए और पुराने रेट लिखना होगा अनिवार्य

मिली जानकारी के अनुसार, कलेक्टर रायपुर को इस संबंध में शिकायत की गई थी, वहीं पंचायत मंत्री सिंहदेव के पास भी इस बाबत लिखित शिकायत की गई थी. जिसके बाद पंचायत मंत्री ने भी इस मामले संज्ञान लेते हुए इसकी जांच करने और तत्काल कार्रवाई के आदेश दिए थे. जिला पंचायत रायपुर व विकासखंड शिक्षाधिकारी कार्यालय अभनपुर द्वारा संबंधित शिक्षाकर्मियों के फर्जी बताये जा रहे प्रमाण पत्रों की जांच करवाई गई.

यह भी पढ़ें- एसडीएम ने जेसीबी से तुड़वाए अवैध प्लाटिंग, सात लोगों पर मुकदमा दर्ज

बर्खास्त होने वाले शिक्षाकर्मी-जिन शिक्षाकर्मियों को बर्खास्त किया गया. उनमें तारण डहरिया, सुषमा सोनी , शिखा साहू, बिंदूलता साहू, चम्पा ध्रुव, यशवंत गायकवाड़, केशव कोसले, दिनेश साहू, वंदना साहू, बिन्दावती ध्रुव, गोमती साहू, डेमिन साहू, गोदावरी साहू शामिल हैं.

यह वीडियो देखें- 

First Published: Jun 14, 2019 09:59:49 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो