BREAKING NEWS
  • करवाचौथ पर सेल्फी पोस्ट कीजिए, यहां फ्री में टॉयलेट बनवाएगा प्रशासन- Read More »
  • Karva Chauth 2019: सुहागिन महिलाएं आज मना रही है प्यार का त्यौहार, यहां जानें करवचौथ का महत्व- Read More »
  • सौरव गांगुली पर अमित शाह का बड़ा बयान, बोले कोई डील नहीं हुई- Read More »

आरक्षण के मुद्दे पर किसी भी तरह की बहस नहीं होगी: रामविलास पासवान

भाषा  |   Updated On : August 20, 2019 07:37:10 PM
रामविलास पासवान। (फाइल फोटो)

रामविलास पासवान। (फाइल फोटो) (Photo Credit : )

पटना:  

भाजपा के सहयोगी और केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने मंगलवार को कहा कि आरक्षण के मुद्दे पर किसी भी ‘‘बहस’’ की जरूरत नहीं है और यह समाज के कमजोर वर्गों का संवैधानिक अधिकार है. राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने कहा था कि जो आरक्षण के समर्थन में हैं और जो विरोध में हैं, उनके बीच सौहार्दपूर्ण माहौल में चर्चा होनी चाहिए.

यह भी पढ़ें- गिरिराज का नया नारा, 'जय कश्मीर, जय भारत, अबकी बार उस पार'

उनके इस बयान के बाद लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष की यह प्रतिक्रिया आई है. पासवान ने कहा कि आरक्षण संवैधानिक अधिकार है और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कई बार दोहराया है कि इसमें छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है. उन्होंने पत्रकारों से कहा, ‘‘आरक्षण पर किसी तरह की बहस की जरूरत नहीं है. यह अब ऊंची जातियों के गरीबों के लिए भी उपलब्ध है इसलिए यह असंभव है कि इसे समाप्त कर दिया जाएगा.’’

यह भी पढ़ें- बिहार : तेजस्वी नदारद, राजद नेताओं में संशय

पासवान ने हालांकि भागवत के बयान पर सीधे प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की और कहा कि उन्हें उनके (भागवत) बयान की विस्तृत जानकारी नहीं है. उन्होंने विपक्षी पार्टियों पर इस मुद्दे पर राजनीति करने का आरोप लगाया. पासवान ने कहा, ‘‘विपक्षी दल विवाद को तूल देने की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन मेरा मानना है कि उनके झूठ पर लोग विश्वास नहीं करेंगे.’’

यह भी पढ़ें- अब इस राज्य में हो रही है किराना की दुकानों पर शराब बेचने की तैयारी

वहीं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत द्वारा आरक्षण पर चर्चा करने के आह्वान को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने खतरनाक बताया है. प्रियंका ने मंगलवार को कहा कि यह बयान उस समय आया है, जब भाजपा सरकार कई कानूनों को खत्म कर रही है. प्रियंका ने ट्वीट किया, "आरएसएस का इरादा और उसकी योजनाएं खतरनाक हैं. ऐसे समय में, जब भाजपा सरकार कई कानूनों को खत्म कर रही है, आरएसएस ने आरक्षण पर बहस का मुद्दा उठाया है."

First Published: Aug 20, 2019 05:45:01 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो