बेगूसराय में छठ की खास तैयारियां, आज नहाय खाय से हुई छठ पर्व की शुरूआत

कन्हैया झां  |   Updated On : October 31, 2019 11:27:28 AM
छठ पूजा की हुई शुरूआत

छठ पूजा की हुई शुरूआत (Photo Credit : फाइल फोटो )

ख़ास बातें

  •  आज नहाय खाय से हो रही है छठ पर्व की शुरूआत. 
  •  बिहार के बेगूसराय के घाटों पर श्रद्धालुओं का हुजूम.
  •  इसे दिल्ली (Delhi) और मुंबई (Mumbai) जैसे शहरों में भी बड़े धूमधाम से मनाया जाने लगा है.

बेगूसराय:  

बेगूसराय (Begusarai) में आज नहाए खाए के साथ ही लोकआस्था का महापर्व छठ (Chhath 2019) की शुरुआत हो गई है. नहाए खाए के मौके पर बेगूसराय के प्रसिद्ध झमटिया, सिमरिया सहित विभिन्न गंगा घाटों पर दूर-दूर से श्रद्धालुओं का हुजूम उमड़ पड़ा. श्रद्धालु सर्वप्रथम रेल तथा रोड मार्ग से गंगा घाट पहुंचे और श्रद्धा की डुबकी लगाई. गंगा स्नान के बाद श्रद्धालु गंगा की पूजन के साथ ही इस महापर्व के लिए संकल्प लिया.

गौरतलब है कि जिले के प्रसिद्ध घाटों में से एक सिमरिया एवं झमटिया में बिहार के विभिन्न जिले ही नहीं वरन नेपाल तक से श्रद्धालु आते हैं तथा पूजा-अर्चना करते हैं.

यह भी पढ़ें: Chhath Puja 2019: छठ पूजा में अर्घ्य देते समय इन बातों का रखें ख्‍याल, वर्ना नहीं मिलेगा व्रत का फल

बावजूद इसके इस भारी भीड़ के बाद भी प्रशासन के द्वारा कोई खास व्यवस्था नहीं की गई थी और कहीं भी पर्याप्त संख्या में पुलिस बल की मौजूदगी दिखाई नहीं दी.
बता दें कि बिहार (Bihar) और पूर्वांचल (Purvanchal) के कुछ हिस्सों में छठ पूजा का काफी महत्व है. छठ पूजा (Chhath Puja) 2 नवंबर को है और इसकी शुरुआत 31 अक्‍टूबर से नहाय खाए हो रही है. चार दिनों तक चलने वाले इस महापर्व में आखिरी दो दिन बेहद महत्‍वपूर्ण होता है. इस साल 2 नवंबर शनिवार की शाम को अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा.

यह भी पढ़ें: Chhath 2019: पहली बार रख रहे हैं छठ का व्रत तो इन बातों का रखें खास ध्यान

वैसे तो ये त्योहार मुख्य रूप से बिहार में मनाया जाता है लेकिन अब इसे दिल्ली (Delhi) और मुंबई (Mumbai) जैसे शहरों में भी बड़े धूमधाम से मनाया जाने लगा है. कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी से सप्तमी की तिथि तक भगवान सूर्यदेव (Lord Surya) की अटल आस्था का पर्व 'छठ पूजा' (Chhath Puja) मनाया जाता है.

इसमें व्रती का मन और तन दोनों ही शुद्ध और सात्विक होंगे. इस दिन व्रती शुद्ध सात्विक भोजन करेंगे. व्रती सुबह स्नान करने के बाद चावल, चने की दाल और कद्दू की सब्जी ग्रहण करेंगी.

First Published: Oct 31, 2019 11:01:04 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो