BREAKING NEWS
  • मुश्ताक अहमद बोले- भारत-पाकिस्तान के बीच संबंधों को सुधारने के लिए करना चाहिए ये काम- Read More »
  • अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला मुसलमानों को स्वीकार करना चाहिए: VHP- Read More »
  • Today History: आज ही के दिन WHO ने एशिया के चेचक मुक्त होने की घोषणा की थी, जानें आज का इतिहास- Read More »

बिहार (Bihar) में सधी हुई रणनीति के साथ आगे बढ़ रही बीजेपी (BJP), नीतीश कुमार (Nitish Kumar) पर बढ़ेगा दबाव

IANS  |   Updated On : October 22, 2019 10:00:12 AM
सीएम नीतीश कुमार और बिहार बीजेपी अध्‍यक्ष संजय जायसवाल

सीएम नीतीश कुमार और बिहार बीजेपी अध्‍यक्ष संजय जायसवाल (Photo Credit : File Photo )

पटना:  

बिहार सरकार में जनता दल (यूनाइटेड) के साथ शामिल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह ने अगले साल होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व को स्वीकृति देकर राजग के नेताओं में हो रही बयानबाजी को जरूर विराम कर दिया है, लेकिन राजग में सीट बंटवारे को लेकर आने वाली चुनौती को निपटना भी राजग के 'थिंकटैंक' के लिए आसान नहीं होगा. भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने इस आने वाले चुनौती के संकेत दे दिए हैं. जायसवाल ने कहा है कि विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बड़ा दिल दिखाएंगे.

यह भी पढ़ें : आज बैंक जाने की सोच रहे हैं तो ना जाएं, बैंकों के विलय के खिलाफ आज हड़ताल पर हैं कर्मचारी

जानकार भी कहते हैं कि अमित शाह ने बिहार के कई नेताओं के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार या सरकार के विरोध में दिए जाने वाले बयान के बीच 'बड़ा दिल' दिखाते हुए बिहार में नीतीश के नेतृत्व में आगामी चुनाव लड़ने की बात कहकर जद (यू) के पाले में गेंद डाल दी है.

बिहार के जाने-माने पत्रकार संतोष सिंह कहते हैं कि अमित शाह ने गेंद को नीतीश के पाले में डाल दिया है. लोकसभा चुनाव में भाजपा ने जद (यू) जैसी दो सांसदों की पार्टी को बराबर का साझीदार बनाते हुए सीट बंटवारे में बराबर सीट दी थी. ऐसे में विधानसभा चुनाव में भाजपा की मांग बराबर सीट की होगी, इसमें कोई दोमत नहीं है.

यह भी पढ़ें : अगर आप मिस कर गए हैं एग्‍जिट पोल तो यहां देखें महाराष्‍ट्र और हरियाणा में कौन बनेगा मुख्‍यमंत्री

भाजपा के एक नेता ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर कहा कि इस बार जद (यू) को भाजपा के दबाव का सामना करना पड़ सकता है. उन्होंने साफ कहा कि भाजपा ने उम्मीद पाल रखी है कि अगले विधानसभा चुनाव में भाजपा बराबर की साझेदार होगी.

पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा 160 और जद (यू) ने 101 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ा था. जद (यू) उस चुनाव में राजद के साथ थी. उस चुनाव में भाजपा ने 53, जद (यू) ने 71 तथा राजद ने 80 सीटों पर जीत दर्ज की थी.

यह भी पढ़ें : 55 साल के हुए अमित शाह, दिलचस्प रहा शेयर ब्रोकर से 'राजनीति के चाणक्य' बनने का सफर

बिहार की राजनीति पर नजर रखने वाले मनोज चौरसिया कहते हैं कि इसमें कोई दोराय नहीं कि बिहार के भाजपा के नेता अगले साल होने वाले चुनाव में जद (यू) के सामने बराबर सीट की दावेदारी रखेंगे. वे कहते हैं कि भाजपा नेतृत्व बिहार में सधी हुई रणनीति के साथ आगे बढ़ रहा है. उनका मानना है कि नीतीश के नेतृत्व में चुनाव लड़ने की घोषणा के बाद भाजपा ने नीतीश के महागठबंधन में जाने की किसी भी संभावना पर ब्रेक लगा दिया, वहीं सीट बंटवारे में बराबर साझेदारी मांग कर दबाव बढ़ाएगी.

चौरसिया कहते हैं कि चुनाव में भाजपा अगर बेहतर प्रदर्शन कर गई, तो बिहार के समीकरण बदलने से भी इनकार नहीं किया जा सकता. हालांकि, राजग में अभी तक सीट बंटवारे को लेकर जद (यू) और भाजपा के नेता अभी तक खुलकर आमने-सामने भले नहीं हुए हैं, लेकिन भीतरखाने भाजपा में बराबर की साझेदारी की मांग जोर पकड़ चुकी है.

यह भी पढ़ें : Flipkart Big Diwali Sale 2019: इन स्मार्टफोन्स पर मिल रहे हैं धामकेदार ऑफर्स, यहां जानें पूरी Details

इधर, जद (यू) के नेता खुद को 'बड़ा भाई' बताने से अभी भी पीछे नहीं हट रहे हैं. बहरहाल, राजग में नेतृत्व को लेकर बादल भले छंट गए हों, लेकिन चुनाव तक राजग में एक-बार फिर से भाजपा और जद (यू) के नेता आमने-सामने आ जाएं, तो कोई बड़ी बात नहीं होगी.

First Published: Oct 22, 2019 10:00:12 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो