BREAKING NEWS
  • शर्मनाक : भारत के सिर्फ चार बल्‍लेबाज ही दहाई के अंक पहुंच सके- Read More »
  • दक्षिण अफ्रीका ने भारत को नौ विकेट से हराया, सीरीज 1-1 की बराबरी पर खत्‍म- Read More »
  • Howdy Modi: पीएम मोदी Iron Man हैं, जानिए किसने कही ये बात- Read More »

बिहार: नहीं थमा दिमागी बुखार का कहर, मुज्फ्फरपुर के बाद अब गया में 6 बच्चों की मौत

IANS  |   Updated On : July 09, 2019 02:00:18 PM
बिहार के गया में 6 बच्चों की मौत (फोटो-IANS)

बिहार के गया में 6 बच्चों की मौत (फोटो-IANS)

गया:  

बिहार के मुजफ्फरपुर और इसके आसपास के जिलों में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) या दिमागी बुखार का कहर अभी पूरी तरह थमा भी नहीं है. गया में चमकी बुखार का कहर बच्चों पर टूट पड़ा है. गया में दिमागी बुखार से अब तक छह बच्चों की मौत हो गई है. इस बीच, जापानी इंसेफेलाइटिस से पीड़ित एक बच्चा सोमवार की रात इलाज के लिए अस्पताल पहुंचा है. इस बीमारी को बिहार में दिमागी बुखार और चमकी बुखार भी कहा जाता है.

ये भी पढ़ें: चमकी बुखार: नीतीश सरकार ने माना, बिहार में स्वास्थ्य सेवाएं खस्ताहाल, SC में दाखिल किया हलफनामा

गया के एक स्वास्थ्य अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि गया के अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (एएनएमसीएच) में दो जुलाई से अब तक 23 बच्चों को इलाज के लिए भर्ती कराया गया है, जिनमें से छह बच्चों की मौत हो चुकी है.

एएनएमसीएच के अधीक्षक डॉ. वी.के. प्रसाद ने बताया कि एईएस का मामला हो सकता है लेकिन अभी इसकी पुष्टि नहीं की जा सकी है और रिपोर्ट की प्रतीक्षा है. रिपोर्ट आने के बाद इसका पता चलेगा.

और पढ़ें: बिहार : बच्चों की मौत के बाद जागी सरकार, कुपोषण के खिलाफ चलेगा अभियान

उन्होंने बताया कि सोमवार की रात इलाज के लिए पहुंचे एक पीड़ित बच्चे में जापानी इंसेफेलाइटिस पॉजिटिव पाया गया है.  प्रसाद ने कहा कि फिलहाल अस्पताल में एईएस के 14 संदिग्ध पीड़ित बच्चों का इलाज चल रहा है, जिसमें चार की हालत गंभीर बनी हुई है.

उल्लेखनीय है कि बिहार के मुजफ्फरपुर और इसके आसपास के जिलों में एईएस से अब तक 160 से ज्यादा बच्चों की मौत हो गई है. केंद्रीय टीम भी यहां पहुंचकर एईएस के कारणों की जांच में जुटी है.

और पढ़ें: बिहार : चमकी बुखार से हुई मौतों पर बोले शाहनवाज हुसैन, बताया बड़ी त्रासदी

बिहार सरकार और केंद्रीय एजेंसियों की टीमें बच्चों की मौत के असली कारणों का पता लगाने की कोशिश कर रही हैं, लेकिन इसकी असल वजह का अब तक पता नहीं चल पाया है. उल्लेखनीय है कि 15 वर्ष तक की उम्र के बच्चे इस बीमारी की चपेट में आ रहे हैं और मरने वाले बच्चों में से अधिकांश की उम्र सात साल से कम है.

बिहार राज्य स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, प्रदेश के 38 जिलों में से करीब 20 जिलों में इस बार एईएस से 700 से ज्यादा बच्चे प्रभावित हुए हैं.

First Published: Jul 09, 2019 01:13:45 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो