पद्म विभूषण के बाद मेरीकाम का सपना ‘भारत रत्न’, कही ये बड़ी बात

News State Bureau  |   Updated On : January 26, 2020 04:33:24 PM
पद्म विभूषण के बाद मेरीकाम का सपना ‘भारत रत्न’, कही ये बड़ी बात

मुक्केबाज मेरी कॉम (Photo Credit : फाइल फोटो )

दिल्ली:  

पद्म विभूषण के लिए चुनी गयी पहली महिला खिलाड़ी एमसी मेरीकाम ने रविवार को कहा कि वह तोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतकर ‘भारत रत्न’ बनना चाहती हैं. छह बार की विश्व चैम्पियन मुक्केबाज मेरीकाम ने दिल्ली में पत्रकारों से कहा कि भारत रत्न हासिल करना सपना है. इस पुरस्कार (पद्म विभूषण) से मुझे और बेहतर करने की प्रेरणा मिलेगी, ताकि मैं भारत रत्न बन सकूं.

यह भी पढ़ेंःIND VS NZ 1st T20i Highlights : भारत ने न्‍यूजीलैंड को सात विकेट से हराया, सीरीज में 2-0 की बढ़त

मुक्केबाज मेरीकाम ने कहा कि सचिन तेंदुलकर ही एकमात्र खिलाड़ी हैं जिन्हें इस पुरस्कार से नवाजा गया है और मैं भी इससे हासिल करना चाहती हूं और ऐसा करने वाली पहली महिला बनना चाहती हूं. मैं तेंदुलकर की राह पर चलना चाहती हूं और मुझे उनसे प्रेरणा मिलती है. छत्तीस साल की मेरीकाम ने हालांकि कहा कि उनका लक्ष्य पहले ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करना है और फिर वह ‘पदक के रंग’ के बारे में सोचेंगी.

उन्होंने आगे कहा कि मेरा अभी लक्ष्य ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करना है और फिर मैं पदक के रंग के बारे में सोचूंगी. अगर मैं क्वालीफाई कर लेती हूं और तोक्यो में स्वर्ण पदक जीत लेती हूं तो मैं भारत रत्न हासिल करने की उम्मीद कर सकती हूं. भारत रत्न से नवाजा जाना सिर्फ एक खिलाड़ी के लिये ही नहीं बल्कि किसी भी भारतीय की उपलब्धियों का शीर्ष सम्मान है. भारत रत्न देश का सर्वश्रेष्ठ नागरिक सम्मान है.

बता दें कि छह बार की विश्व चैम्पियन मुक्केबाज एमसी मेरीकाम को शनिवार को देश के दूसरे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार ‘पद्म विभूषण’ के लिए और बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधू को पद्म भूषण सम्मान के लिए चुना गया. पद्म पुरस्कारों के लिए कुल 8 खिलाड़ियों को चुना गया है, जिसमें पद्म श्री के लिए छह नामों की घोषणा की गई है. सरकार ने 71वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर पद्म पुरस्कारों की घोषणा की. 36 साल की मुक्केबाज मेरीकाम राज्यसभा की सदस्य भी है.

यह भी पढ़ेंःIND vs NZ 2nd T20 Final Report: गणतंत्र दिवस पर टीम इंडिया का देश को तोहफा, सात विकेट से जीता मैच

मेरीकाम ने अपने शानदार करियर में छह बार विश्व चैम्पियन बनने के अलावा 2012 लंदन ओलंपिक में कांस्य पदक जीता है. मणिपुर की इस मुक्केबाज को इससे पहले 2013 में पद्म भूषण और 2006 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया था. वह शतरंज के जादूगर विश्वनाथन आनंद, पर्वतारोही एडमंड हिलेरी और महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर के बाद पद्म विभूषण हासिल करने वाली देश की चौथी खिलाड़ी हैं. तेंदुलकर को बाद में 2014 में देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न से सम्मानित किया गया था.

चौबीस साल की सिंधू ने 2016 में रियो ओलंपिक में रजत पदक जीता था और वह विश्व चैम्पियन बनने वाली इकलौती भारतीय खिलाड़ी हैं. विश्व चैम्पियनशिप में पिछले साल स्वर्ण जीतने वाली सिंधू ने इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में दो रजत और कांस्य पदक भी हासिल की है. सिंधू को 2015 में पद्म श्री से सम्मानित किया जा चुका है. पद्म श्री पुरस्कार के लिए जिन छह नामों की घोषणा की गई है, उनमें क्रिकेटर जहीर खान, भारतीय महिला हॉकी कप्तान रानी रामपाल, पूर्व हाकी खिलाड़ी एमपी गणेश, निशानेबाज जीतू राय, भारतीय महिला फुटबाल टीम की पूर्व कप्तान ओनाम बेमबेम देवी और तीरंदाज तरुणदीप राय शामिल हैं.

First Published: Jan 26, 2020 04:28:56 PM

न्यूज़ फीचर

वीडियो