BREAKING NEWS
  • उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड से जुड़ी आज की ताजा खबरें पढ़िए- Read More »
  • बौखलाया पाकिस्तान, हैरान इमरान,अब ये करने उतरे हैं- Read More »
  • RBI गवर्नर का बड़ा बयान, कहा-वैश्विक विकास धीमा, लेकिन दुनिया में नहीं है कोई मंदी- Read More »

लालचंद राजपूत की दावेदारी से दिलचस्प हुई बल्लेबाजी कोच की दौड़

PTI  |   Updated On : August 20, 2019 05:00:00 AM
लालचंद राजपूत की दावेदारी से दिलचस्प हुई बल्लेबाजी कोच की दौड़

लालचंद राजपूत की दावेदारी से दिलचस्प हुई बल्लेबाजी कोच की दौड़

नई दिल्ली:  

भारतीय टीम के मुख्य कोच के पद के लिए नजरअंदाज किये गये लालचंद राजपूत अब बल्लेबाजी कोच बनने की दौड़ में शामिल हो गये हैं जिसके लिए उन्होंने सोमवार को अन्य दावेदारों के साथ साक्षात्कार दिया. एमएसके प्रसाद की अगुवाई वाली चयन समिति टीम के सहयोगी सदस्यों को चुनाव करेगी. सोमवार को बल्लेबाजी कोच के लिए 13 जबकि वेंकटेश प्रसाद सहित पांच उम्मीदवारों ने गेंदबाजी कोच के लिए साक्षात्कार दिया. टीम के मौजूदा सहयोगी सदस्यों बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़, गेंदबाजी कोच भरत अरूण और क्षेत्ररक्षण कोच आर श्रीधर का मंगलवार को साक्षात्कार होगा.

बल्लेबाजी कोच के लिए 57 साल के राजपूत के दावेदारी पेश करने से मुकाबला दिलचस्प हो गया है. पूर्व टेस्ट बल्लेबाज विक्रम राठौर को पहले से ही संजय बांगड़ की जगह लेने के लिए मजबूत दावेदार माना जा रहा था. एक बार फिर से टीम के मुख्य कोच चुने गये रवि शास्त्री ने मौजूदा सहयोगी सदस्यों को बरकरार रखने की ओर इशारा किया जिससे यह माना जा रहा कि अरूण और श्रीधर का दावा काफी मजबूत रहेगा.

और पढ़ें: World Badminton Championship: श्रीकांत, प्रणीत और प्रणॉय ने जीत से की शुरुआत, दूसरे दौर में पहुंचे

बांगड़ को हालांकि कड़ी चुनौती मिलेगी क्योंकि सबसे ज्यादा आवेदन इस पद के लिए आए हैं. बांगड़ 2014 से टीम से जुड़े हुए हैं जिनके बल्लेबाजी कोच रहते हुए भारतीय टीम ने 50 टेस्ट और 119 एकदिवसीय खेले हैं. सहयोगी सदस्यों के चयन की पूरी प्रक्रिया के हालांकि गुरुवार तक चलने की संभावना है.

इस दौरान बल्लेबाजी, गेंदबाजी और क्षेत्ररक्षण कोच के साक्षात्कार लिये जाएंगे. बीसीसीआई ने बांगड़, अरूण, श्रीधर और टीम के प्रशासनिक प्रबंधक सुनील सुब्रमण्यम का करार वेस्टइंडीज दौरे तक बढ़ा दिया था. बल्लेबाजी कोच के लिए प्रवीण आमरे, मुंबई के दिग्गज अमोल मजूमदार और सौराष्ट्र के सितांशु कोटक ने भी दावेदारी पेश की है.

यह पता चला है कि भारत के पूर्व बल्लेबाज ऋषिकेश कानिटकर और दिल्ली के पूर्व बल्लेबाज मिथुन मिन्हास भी पांच सदस्यीय पैनल के समक्ष साक्षात्कार के लिए उपस्थित हुए. साक्षात्कार देने वाले एक उम्मीदवार ने कहा कि यहां प्रस्तुती देना जरूरी नहीं था.

और पढ़ें: IND vs WI: अभ्यास मैच में कुलदीप यादव, इशांत शर्मा की बदौलत भारत की पकड़ मजबूत

गेंदबाजी कोच के लिए पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद, पारस महाम्ब्रे और अमित भंडारी साक्षात्कार के लिए उपस्थित हुए. पिछले सप्ताह कपिल देव की अगुवाई वाली क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) ने 2021 विश्व कप तक के लिए रवि शास्त्री को फिर से भारतीय टीम का मुख्य कोच चुना था.

तीन सदस्यीय सीएसी में कपिल के अलावा पूर्व भारतीय कोच अंशुमन गायकवाड़ और पूर्व महिला कप्तान शांता रंगास्वामी शामिल थे. मुख्य कोच के चयन के बाद सीएसी ने कहा कि टीम के सहयोगी सदस्यों के चयन में भी इस समिति की भूमिका होनी चाहिए लेकिन बीसीसीआई का संविधान इसकी अनुमति नहीं देता है.

और पढ़ें: IND vs WI: अभ्यास मैच में कुलदीप यादव, इशांत शर्मा की बदौलत भारत की पकड़ मजबूत

मापदंड के अनुसार बल्लेबाजी, गेंदबाजी, और क्षेत्ररक्षण कोच के लिए दावेदारी करने वाले के पास कम से कम 10 टेस्ट या 25 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच का अनुभव होना चाहिये और उसकी उम्र 60 साल से कम होनी चाहिए.

First Published: Aug 20, 2019 05:00:00 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो