गणतंत्र दिवस परेड के राजकीय अतिथि होंगे जायर बोल्सोनारो, मजबूत होंगे भारत-ब्राजील संबंध

Nihar Ranjan Saxena  |   Updated On : January 23, 2020 12:54:58 PM
गणतंत्र दिवस परेड के राजकीय अतिथि होंगे जायर बोल्सोनारो, मजबूत होंगे भारत-ब्राजील संबंध

बतौर राजकीय अतिथि पहली भारत यात्रा होगी जायर बोल्सोनारो की. (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

ख़ास बातें

  •  बतौर राजकीय अतिथि जायर बोल्सोनारो की यह पहली भारत यात्रा है.
  •  जायर बोल्सोनारो की भारत यात्रा 24 जनवरी से शुरू होगी.
  •  भारत-ब्राजील के बीच 8.2 बिलियन डॉलर का व्यापार है.

नई दिल्ली:  

भारत ने मंगलवार को गणतंत्र दिवस परेड में शामिल होने वाले राजकीय अतिथि बतौर ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो के नाम की घोषणा कर दी. गणतंत्र दिवस परेड का साक्षी बनने के लिए भारतीय कूटनीति के तहत मित्र देशों के राष्ट्राध्यक्षों को निमंत्रित किया जाता है. हाल के सालों में अमेरिका के भूतपूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा समेत आशियान के दस सदस्य देशों समेत दक्षिण अफ्रीका के सिरिल रोमफोसा को गणतंत्र दिवस में राजकीय अतिथि बतौर बुलाया जा चुका है. ब्राजील से आखिरी राष्ट्रपति बतौर माइकल टेमर अक्टूबर 2016 में भारत यात्रा पर आए थे. उस वक्त उनकी भारत यात्रा गोवा में आयोजित ब्रिक्स अधिवेशन को लेकर हुई थी. इससे इतर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी ब्रिक्स समिट में भाग लेने के लिए बीते साल नवंबर में ब्राजील गए थे. आइए जानते हैं ब्राजील के राष्ट्रपति जायर की भारत यात्रा से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें...

  • बतौर राजकीय अतिथि जायर बोल्सोनारो की यह पहली भारत यात्रा है. उनके पहले 1996 और 2004 में ब्राजील के तत्कालीन राष्ट्रपति गणतंत्र दिवस परेड के राजकीय अतिथि बन चुके हैं.
  • जायर बोल्सोनारो की भारत यात्रा 24 जनवरी से शुरू होगी. चार दिवसीय भारत यात्रा के लिए बोल्सोनारो को पीएम मोदी ने खुद न्योता भेजा था.
  • जायर बोल्सोनारो के साथ सात मंत्रियों का एक समूह भी होगा. इनके अलावा ब्राजील संसद में ब्राजील-भारत मैत्री समूह के अध्यक्ष, वरिष्ठ अधिकारी और एक बड़ा व्यावसायिक प्रतिनिधिमंडल भी शिरकत करेगा.
  • 25 जनवरी को जायर बोल्सोनारो भारतीय राष्ट्रपति रामनाथ कोबिंद के साथ मुलाकात करेंगे. भारतीय राष्ट्रपति ने जायर के सम्मान में भोज का आयोजन किया है. भोज के दौरान ही पीएम नरेंद्र मोदी, उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू औऱ विदेश मंत्री एस जयशंकर भी ब्राजीली राष्ट्रपति से मुलाकात करेंगे.
  • 27 जनवरी को जायर बोल्सोनारो भारत-ब्राजील बिजनेस फोरम के तहत भारतीय और ब्राजीली व्यावसायियों को संबोधित करेंगे.
  • विदेश मंत्रालय ने उनके स्वागत में आधिकारिक बयान जारी कर कहा है कि भारत-ब्राजील के बीच नजदीकी और बहुआयामी संबंध हैं. इन संबंधों का आधार दोनों देशों का वैश्विक नजरिया, साझा लोकतांत्रिक मूल्य और दोनों ही देशों की अर्थव्यवस्था को विकास पथ पर अग्रणी करने का संकल्प है.
  • भारत-ब्राजील के दि्वक्षीय संबंध 2006 में सामरिक संबंधों में तब्दील हुए. दोनों ही देश ब्रिक्स, इब्सा और जी-20 जैसे समूहों में साझेदार बने. खासकर संयुक्त राष्ट्र में दोनों देशों ने एक-दूसरे के हितों का खुलकर साथ दिया.
  • 2018-19 के दौरान भारत-ब्राजील के बीच 8.2 बिलियन डॉलर का व्यापार था. इसमें भारत से 3.8 बिलियन का निर्यात और 4.4 मिलियन डॉलर का आयात शामिल था.
  • भारत ब्राजील को मुख्यतः एग्रो-कैमिकल्स, सिंथेटिक यार्न, ऑटो कंपोनेंट्स, दवाएं और पेट्रो उत्पाद निर्यात करता है. इसके एवज में ब्राजील कच्चा तेल, वेजीटेबल तेल और खनिज-लवण आयात करता है.
  • ब्राजील में भारत का लगभग 6 बिलियन डॉलर का निवेश है. इसके उलट ब्राजील ने भारत में एक बिलियन डॉलर का निवेश कर रखा है. ब्राजील ने मुख्यतः ऑटोमोबाइल, आईटी, खनन, ऊर्जा औऱ बायो फ्यूल्स में निवेश कर रखा है. भारत ने ब्राजील में आईटी, फार्मास्यूटिकल्स, ऊर्जा, एग्रो-बिजनेस, खनन और इंजीनियरंग सेक्टर में निवेश किया हुआ है.
First Published: Jan 21, 2020 05:49:26 PM

न्यूज़ फीचर

वीडियो