हैदराबाद की तरह इन एनकाउंटरों ने भी रख दिया था हिला कर, जानें चर्चित मुठभेड़ जिस पर उठे सवाल

NITU KUMARI  |   Updated On : December 07, 2019 05:27:06 PM
एनकाउंटर जिसने देश को हिला कर रख दिया

एनकाउंटर जिसने देश को हिला कर रख दिया (Photo Credit : प्रतिकात्मक )

नई दिल्ली:  

हैदराबाद के बहुचर्चित गैंगरेप-हत्या मामले के चारों अभियुक्तों को पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया. इस एनकाउंटर पर देश दो भागों में बंट गया है. कुछ लोग पुलिस के इस कदम की सराहना कर रहे हैं, वहीं कई लोग इसपर सवाल उठा रहे हैं. कुछ लोगों का कहना है कि यह 'मानवाधिकार' का उल्लंघन है. वहीं कुछ लोग इसे इंसाफ के दायरे में ला रहे हैं. उनका कहना है कि पीड़िता के साथ इंसाफ हुआ है. ऐसे लोगों के साथ ऐसा ही होना चाहिए.

हैदराबाद एनकाउंटर पहला मामला नहीं है जो चर्चा में है. इससे पहले भी पुलिस के इस तरह के कदम पर सवाल उठे हैं. कई ऐसे चर्चित एनकाउंटर हुए हैं जिसपर लोगों की दो राय रही. चलिए जानते हैं कुछ चर्चित मुठभेड़ के बारे में.

बटला हाउस एनकाउंटर

19 सितंबर 2008 को दिल्ली के बटला हाउस में गोलियों की तड़तड़ाहट सुनी गई. इंडियन मुजाहीदीन के संदिग्ध आतंकियों और पुलिस के बीच मुठभेड़ हुई. इस एनकाउंटर में 2 संदिग्धों की मौत हो गई थी. मरने वालों की पहचान मोहम्मद आतिफ अमीन और साजिद के रूप में हुई थी. वहीं मौके से दो युवकों को गिरफ्तार किया गया था जबकि एक वहां से भाग निकला था. इस एनकाउंटर में टीम का नेतृत्व कर रहे मोहन चंद्र शर्मा को भी गोली लग गई थी. इलाज के दौरान मोहन चंद्र शर्मा की अस्पताल में मौत हो गई थी. बटला हाउस एनकाउंटर भी काफी चर्चा में रही. इसे लेकर खूब सियासत भी हुई.

इसे भी पढ़ें:उन्नाव मामला : राज्यपाल से मायावती ने की मुलाकात, कहा आप भी महिला हैं, आप हस्तक्षेप करें

इशरत जहां एनकाउंटर ने खींचा लोगों का ध्यान

15 जून 2004 में खालसा कॉलेज मुंबई की इशरत जहां और उनके तीन साथियों को पुलिस ने एनकाउंटर में मार दिया था. गुजरात पुलिस ने दावा किया कि इनका संबंध लश्कर-ए-तैयबा से था और ये लोग गोधरा दंगों का बदला लेने के लिए तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की योजना बना रहे थे. इस टीम की अगुवाई अहमदाबाद क्राइम ब्रांच के उपायुक्त डीजी वंजारा कर रहे थे. इस मुठभेड़ को फर्जी बताया गया. इस एनकाउंटर की सीबीआई जांच हुई.

सीबीआई ने जांच के बाद इस मुठभेड़ को इंटेलिजेंस ब्यूरो और गुजरात पुलिस के आला अफ़सरों की मिली भगत बताया था. हालांकि इस मामले में अभी कोर्ट का फैसला आना बाकी है.

सोहराबुद्दीन शेख़ एनकाउंटर मामला

साल 2005 जब सोहराबुद्दीन शेख अपनी पत्नी के साथ हैदराबाद से महाराष्ट्र जा रहे थे तब गुजरात पुलिस की एटीएस शाखा ने बस को बीच में रोक कर अपने साथ उन्हें ले गई. इसके घटना के तीन दिन बाद पुलिस ने मुठभेड़ में सोहराबुद्दीन को मार दिया. पुलिस ने सोहराबुद्दीन शेख को अंडरवर्ल्ड का अपराधी बताया था. लेकिन इस मामले में काफी हंगामा होने के बाद सीबीआई ने इसकी जांच की. जांच के बाद कई पुलिस अधिकारियों को गिरफ्तार किया गया था. सुप्रीम कोर्ट में दिए हलफनामे में गुजरात सरकार ने मना था कि ये फर्जी मुठभेड़ थी.

मुठभेड़ का सिलसिला यहीं नहीं थमा था. पुलिस ने सोहराबुद्दीन के सहयोगी तुलसी प्रजापति को हिरासत में लेकर मार दिया था. घटना 2006 की है. इस एनकाउंटर को भी फर्जी कहा गया. जिसे गुजरात पुलिस ने अंजाम दिया था.

लखन भैया का एनकाउंटर भी निकला था फर्जी

एनकाउंटर को लेकर महाराष्ट्र भी हमेशा चर्चा में रहा. यहां पर कई अंडरवर्ल्ड अपराधियों को एनकाउंटर में मारा गया. जिसमें एक नाम लखन भैया का था. लखन भैया को गैंगस्टर छोटा राजन का सहयोगी कहा जाता था. 11 नंवबर 2006 में मुंबई पुलिस ने उसे एनकाउंटर में मार दिया. लेकिन पुलिस उस वक्त घेरे में आ गई जब मारे गए लखन भैया का भाई राम प्रसाद मीडिया के सामने आकर कहा कि पुलिस उसके भाई को उठा कर ले गई थी. इसके बाद उसने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया. जांच के बाद यह एनकाउंटर भी फेक पाया गया. साल 2013 में मामले में मुंबई की सेशन कोर्ट ने 21 लोगों को दोषी पाया और उम्र क़ैद की सजा सुनाई, जिनमें कई पुलिस वाले भी थे.

जब कनॉट प्लेस गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंज उठा था

31 मार्च 1997 को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने कनॉट प्लेस इलाके में एक एनकाउंटर को अंजाम दिया था. इस एनकाउंटर में हरियाणा के कारोबारी प्रदीप गोयल और जगजीत सिंह को गैंगस्टर समझकर पुलिस ने गोली मार दी थी. एसीपी एसएस राठी के नेतृत्व में क्राइम ब्रांच ने इस एनकाउंटर को अंजाम दिया था. यह एनकाउंटर भी फर्जी निकला. फर्जी एनकाउंटर के इस मामले में 16 वर्ष तक सुनवाई चली. जिसके बाद अदालत ने आरोपी पुलिस और अन्य अधिकारियों पर कार्रवाई के निर्देश जारी किए थे.

इसे भी पढ़ें:दिल्ली के अजमेरी गेट रेलवे स्टेशन पर एक अज्ञात शख्स ने महिला पर केमिकल से किया हमला

मध्य प्रदेश में 8 सिमी सदस्यों का एनकाउंटर

अक्टूबर 2016 में पूरे देश में 8 सिमी के सदस्यों की मुठभेड़ में मारे जाने को लेकर चर्चा रहा. पुलिस ने सिमी से जुड़े 8 कैदियों को मार गिराय था. कहा जा रहा था कि सभी कैदी जेल से भाग रहे थे. इन कैदियों ने एक सुरक्षा गार्ड की गला रेत कर हत्या की थी. फिर चादरों की रस्सी बनाकर जेल से भाग निकले थे. पुलिस ने इन्हें ईंटखेड़ी के पास घेर कर एनकाउंटर में मार गिराया था.

एनकाउंटर में मारा गया था दारासिंह

23 अक्टूबर 2006 को राजस्थान के जयपुर में दारा सिंह का एनकाउंटर हुआ था. दारा सिंह की पत्नी सुशीला देवी ने इस एनकाउंटर को फर्जी बताया था. दारा सिंह की पत्नी ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को यह केस सौंपा था. 23 अप्रैल 2010 को सीबीआई ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की थी. इस मामले में मंत्री राजेन्द्र राठौड़, तत्कालीन एडीजी एके जैन सहित 17 लोगों को आरोपी बनाया था. इसके बाद सीबीआई ने जांच के बाद अदालत में चार्जशीट पेश की.

फर्जी एनकाउंटर को लेकर यूपी पुलिस का रिकॉर्ड पहले भी कुछ अच्छा नहीं रहा है. साल 1991 में पीलीभीत जिले में हुए 12 लोगों के फर्जी एनकाउंटर के मामले में हाईकोर्ट ने 47 पुलिसकर्मियों को उम्र कैद की सजा सुनाई थी.

यूपी में एप्पल के एरिया मैनेजर की पुलिस की गोली से मौत

पुलिस जो कानून का रक्षक होता है वहीं जोश में आकर उसका उल्लंघन कर बैठता है. लखनऊ में एप्पल के एरिया मैनेजर की मौत उसकी बानगी है. विवेक तिवारी की 28 सितंबर 2018 को पुलिस की गोली से मौत हो गई थी. रात के करीब डेढ़ बजे विवेक अपनी दोस्त सना के साथ गाड़ी से जा रहे थे. दो पुलिसकर्मियों प्रशांत चौधरी और संदीप कुमार ने उन्हें रुकने का इशारा किया था. जब ने नहीं रुके तो सिपाही प्रशांत चौधरी ने विवेक निशाना बनाकर गोली चला दी थी. जिसमें विवेक की मौत हो गई थी. यह मामला भी कोर्ट में चल रहा है.

आंध्र प्रदेश 'स्मगलर' एनकाउंटर

7 अप्रैल 2015 को आंध्र प्रदेश की पुलिस ने राज्य के चित्तूर जंगल में 20 कथित चंदन तस्करों को गोली मार दी. इस मामले में पुलिस ने कहा था कि अपराधियों ने उनपर हमला किया था. बार-बार चेतावनी देने के बाद भी वो नहीं रुके जिसकी वजह से गोली चलानी पड़ी थी. इस एनकाउंटर के भी चर्चे खूब हुए थे. इसकी सीबीआई जांच की मांग की गई थी.
यूपी के पीलीभीत में 10 सिख तीर्थ यात्रियों का हुआ था एनकाउंटर

पीलीभीत में 10 सिख तीर्थ यात्रियों का हुआ था एनकाउंटर

यूपी के पीलीभीत जिले में जून 1991 में 10 सिख तीर्थ यात्रियों को आतंकवादी बता कर एनकाउंटर किया गया था. सीबीआई की अदालत में इस एनकाउंटर को फर्जी पाया गया. लखनऊ की विशेष सीबीआई अदालत ने 47 पुलिसकर्मियों को उम्रकैदकी सजा सुनाई.

सिख तीर्थ यात्री बिहार में पटना साहिब और महाराष्ट्र में हुजूर साहिब के दर्शन कर वापस लौट रहे थे, तभी पीलीभीत के पास उन्हें पुलिस ने बस से उतारा और तीन अलग-अलग जंगलों में ले जाकर गोली मार दी.

और पढ़ें:रेप मामले पर बोले BJP सांसद साक्षी महाराज- उन्नाव का नाम बदनाम हो गया

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के मुताबिक 01 जनवरी 2015 से 20 मार्च 2019 के बीच उसे देशभर में फेक एनकाउंटर से जुड़ी 211 शिकायतें मिली हैं. इनमें से सबसे ज़्यादा फ़ेक एनकाउंटर की शिकायतें आंध्र प्रदेश में दर्ज की गई हैं. इस अवधि में कुल 57 मामले दर्ज किए गए हैं. वहीं, उत्तर प्रदेश दूसरे नंबर पर है. यहां इस अवधि में 39 मामले दर्ज किए गए हैं. देश भर में कथित फेक एनकाउंटर के 25 मामलों में इसने विभिन्न राज्य सरकारों को पीड़ितों के परिवारों को 1.7 करोड़ रुपए का मुआवज़ा देने की सिफारिश की है.

First Published: Dec 07, 2019 05:01:48 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो