BREAKING NEWS
  • झारखंड विधानसभा चुनाव (Jharkhand Assembly Elections 2019) में कुल 18 रैलियों को संबोधित करेंगें गृहमंत्री अमित शाह- Read More »
  • केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे ने खोया आपा, प्रदर्शनकारियों पर भड़के, कही ये बड़ी बात - Read More »
  • आयकर ट्रिब्यूनल ने गांधी परिवार को दिया झटका, यंग इंडिया को चैरिटेबल ट्रस्ट बनाने की अर्जी खारिज- Read More »

AyodhyaVerdict: मुस्‍लिम देशों में सबसे ज्‍यादा सर्च किया गया अयोध्‍या, जानें क्‍या खोज रहा था पाकिस्‍तान

दृगराज मद्धेशिया  |   Updated On : November 09, 2019 04:04:20 PM
अयोध्‍या पर थी पूरी दुनिया की निगाहें

अयोध्‍या पर थी पूरी दुनिया की निगाहें (Photo Credit : न्‍यूज स्‍टेट )

नई दिल्‍ली:  

सैकड़ों साल से चल रहा रामजन्‍म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद अब खत्‍म हो चुका है. अयोध्‍या विवाद पर जब सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को फैसला सुनाना शुरू किया तो पूरी दुनिया की नजरें इस सबसे बड़े मुकदमे पर थी. गूगल पर देखते-देखते ayodhya, ayodhya verdict, ayodhya dispute ट्रेंड करने लगा. वैसे तो भारत में सबसे ज्‍यादा सर्च करने वाला ये टॉपिक थे, लेकिन दुनिया के मुस्‍लिम देशों की नजर सबसे अधिक इस पर थी. ayodhya dispute से कतर, सऊदी अरब यूएई और कनाडा में सबसे ज्‍यादा सर्च किया जाने लगा.

वहीं ayodhya को सर्च करने में ओमान और कतर के लोग भी थे. इन देशों में aimplb, Zafaryab jilani, Iqbal ansari, ayodhya case judgement copy, owaisi को लोग ज्‍यादा सर्च कर रहे थे.

जहां तक पाकिस्‍तान की बात है तो वहां पंजाब, सिंध और लाहौर के लोगों की नजरें भी अयोध्‍या पर थीं. गूगल ट्रेंड के मुताबिक यहां इंडियन सुप्रीम कोर्ट और बाबरी मस्‍जिद को ज्‍यादा खोज रहे थे.

अगर अमेरिका की बात करें तो न्‍यूजर्सी, कोलंबिया, कैलीफोर्निया और वाशिंगटन की भी नजरें अयोध्‍या के फैसले पर थीं.

यहां सबसे ज्‍यादा लो अयोध्‍या को सर्च कर रहे थे

वहीं भारत में लोग यह जानने में बेकरार थे कि इस अयोध्‍या के फैसले पर लोगों का रिएक्‍शन क्‍या रहा. ayodhya verdict reaction को लोगों ने इतना खोजा कि वो ब्रेकआउट हो गया. 1250% लोगों ने ayodhya disputed land area खोज रहे थे. वहीं ayodhya verdict riots खोजने वाले भी कम नहीं थे.

बता दें सुप्रीम कोर्ट की 5 जजों की संविधान पीठ ने शनिवार को अयोध्या में विवादित जमीन पर राम मंदिर निर्माण का फैसला सुनाया. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के नेतृत्‍व में सर्वसम्‍मति से फैसला सुनाया गया जिसमे, विवादित 2.77 एकड़ जमीन रामलला विराजमान को , मंदिर निर्माण के लिए 3 महीने में ट्रस्ट बनाने और मस्जिद बनाने के लिए मुस्लिम पक्ष को 5 एकड़ वैकल्पिक जमीन दिए जाने का फैसला शामिल था. चीफ जस्टिस ने कहा कि ढहाया गया ढांचा ही भगवान राम का जन्मस्थान है और हिंदुओं की यह आस्था निर्विवादित है.

First Published: Nov 09, 2019 03:49:38 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो