स्पेशल

अन्य खबरें

Republic Day 2020: गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बोले- भारत के लोग ही गणतंत्र को चलाते हैं

राष्ट्रपति पहली बार 2018 में देश को संबोधित किया था. गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति देश को बधाई देंगे.

गांधीजी नहीं... नेताजी और उनकी फौज के डर से अंग्रेजों ने किया था भारत को आजाद

इस बात के पर्याप्त प्रमाण मौजूद है कि अगर दूसरे विश्व युद्ध के खात्मे के बाद अंग्रेजों ने भारत को आजाद करने की सोची, तो वह कांग्रेस या महात्मा गांधी का प्रभाव नहीं, वरन नेताजी के डर था.

RepublicDay: दिल्ली में फुल ड्रेस रिहर्सल को लेकर यातायात परामर्श जारी

रिहर्सल के दौरान उन्हीं मार्गों का इस्तेमाल किया जाएगा जिन पर 26 जनवरी को परेड होगी.

गणतंत्र दिवस: परेड में दिखेगा महिला CRPF कमांडो ये करतब, हैरान रह जाएंगे आप

महिला सीआरपीएफ की डेयरडेविल्स टीम पहली बार राजपथ पर 26 जनवरी के मौके पर मोटरसाइकिल के जरिए अलग-अलग करतब दिखाएगी.

Republic Day 2020: इस साल 22 बच्चों को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार से किया जाएगा सम्मानित

भारतीय बाल कल्याण परिषद (आईसीसीडब्ल्यू) राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार-2019 के लिए 12 राज्यों से 10 लड़कियों और 12 लड़कों सहित कुल 22 बच्चों को चुना गया है.

काम की खबर : फुल ड्रेस रिहर्सल और गणतंत्र दिवस के दिन आप फंस सकते हैं जाम के झाम में

23 जनवरी को होने वाले फुल ड्रेस रिहर्सल और फिर 26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस वाले दिन नई दिल्ली जिले में जाने से जहां तक संभव हो, बचने की कोशिश करें. वरना आपको जाम में फंसना पड़ सकता है.

गणतंत्र दिवस परेड के राजकीय अतिथि होंगे जायर बोल्सोनारो, मजबूत होंगे भारत-ब्राजील संबंध

बतौर राजकीय अतिथि जायर बोल्सोनारो की यह पहली भारत यात्रा है. उनके पहले 1996 और 2004 में ब्राजील के तत्कालीन राष्ट्रपति गणतंत्र दिवस परेड के राजकीय अतिथि बन चुके हैं.

Republic Day 2020: जानें भारतीय तिरंगा का इतिहास, इतनी बार किया गया था बदलाव

पहला राष्ट्रीय ध्वज 7 अगस्त 1906 को पारसी बागान चौक कोलकाता में फहराया गया. इस झंडे में केसरिया रंग सबसे उपर, बीच में पीला, और सबसे नीचे हरे रंग का इस्तेमाल किया गया था.

Republic Day 2020: गणतंत्र दिवस के मौके पर जानें भारतीय संविधान से जुड़ा रोचक तथ्य

हाथों से लिखे संविधान को 24 जनवरी 1950 को ही साइन किया गया था. इस पर 284 संसद सदस्यों ने हस्ताक्षर किया था. जिसमें सिर्फ 15 महिला सदस्य थीं. इसके बाद 26 जनवरी से ये संविधान पूरे देश में लागू हो गया.

Republic Day 2020: 26 जनवरी और 15 अगस्त के दिन होने वाले ध्वजारोहण में क्या है अंतर

झंडा 15 अगस्त के दिन भी फहराया जाता है लेकिन दोनों ही दिनों में इसको फहराए जाने के तरीके में काफी अंतर होता है

Exodus Day:'काफिरो को मारो ! हमें कश्मीर चाहिए... पंडित महिलाओं के साथ, यहां सिर्फ निजामे मुस्तफा चलेगा'

सन् 1989-1990 में जो हुआ, उसका उल्लेख करते-करते तीस साल बीत गए, लेकिन इस पीड़ित समुदाय के लिए कुछ नहीं बदला है.

न्यूज़ फीचर

मुख्य खबरें

वीडियो

फोटो