BREAKING NEWS
  • NASA Asteroid Alert! तबाह होने से बाल-बाल बच गई धरती, पृथ्वी के बेहद करीब से गुजर गया Asteroid 2019 QQ- Read More »
  • पाकिस्तान में छाए राहुल गांधी, पाक मीडिया ने बनाया पोस्टर बॉय, ये है वजह- Read More »
  • शानदार : इंग्‍लैंड के बल्‍लेबाज बेन स्‍टोक्‍स के सिर पर लगी गेंद, टूटा हेलमेट, फिर न डरे न डिगे- Read More »

हमारी पृथ्वी के बेहद करीब मिले 2 नए ग्रह, यहां जीवन के आसार

IANS  |   Updated On : June 22, 2019 06:17 AM
आकाश गंगा (Social Media)

आकाश गंगा (Social Media)

ख़ास बातें

  •  पृथ्वी के बहुत करीब होने के बावजूद इसे 2003 तक खोजा नहीं गया था
  •  अब ग्रहों टेगार्डन बी और टेगार्डन सी के रूप में पहचाना गया है
  •  टेगार्डन की सतह पर बहुत अच्छी तरह से पानी हो सकता है.

मैड्रिड :  

दो ऐसे ग्रहों की खोजे की गई है, जो पृथ्वी के समान गर्म हैं और उनमें पानी हो सकता है. साथ ही यह जीवन का समर्थन करने के लिए अच्छा विकल्प हो सकते हैं. यह एक शोध में पता चला. वैज्ञानिक 2016 के बाद से 3.5-मीटर टेलीस्कोप का उपयोग करके पास के सितारों के पास मौजूद ग्रहों पर जीवन की खोज कर रहे हैं.एफे न्यूज के अनुसार, अलमेरिया, दक्षिणी स्पेन में कैलार ऑल्टो वेधशाला और दो अन्य स्पैनिश दूरबीनों में कैद की गई छवियों में शोधकर्ताओं को हमारे सौर मंडल से लगभग 12.5 प्रकाश वर्ष दूर टेगेर्डन स्टार (एक ठंडा लाल बौना सितारे) से जुड़ी बड़ी महत्वपूर्ण जानकारी मिली है.

शोधपत्र के सह-लेखक इग्नासी रिबास ने कहा, "टेगार्डन हमारे सूरज के द्रव्यमान का केवल आठ प्रतिशत है. यह सूर्य की तुलना में बहुत छोटा और बहुत कम चमकीला है. वास्तव में, पृथ्वी के बहुत करीब होने के बावजूद इसे 2003 तक खोजा नहीं गया था. "सूर्य का तापमान जहां 5,500 सेल्सियस है, वहीं सितारे का तापमान लगभग 2,600 सेल्सियस है. यह हमारे सूर्य की तुलना में 10 गुना छोटा है, इसलिए यह 1,500 गुना कमजोर है और ज्यादातर अवरक्त तरंगों को प्रसारित करता है.

यह भी पढ़ेंः अंतरिक्ष में युद्धाभ्यास करने जा रहा है भारत, विरोधियों की आंखें खुली की खुली रह जाएंगी

एक बार तारे के मिल जाने के बाद वैज्ञानिकों ने डॉपलर तकनीक का इस्तेमाल किया, जिसे वोबबल विधि के रूप में भी जाना जाता है, जो अपने चारों ओर ग्रहों का पता लगाने के लिए मूल तारे के रेडियल-वेग माप का उपयोग करता है.डॉपलर तकनीक ने कम से कम दो संकेतों का पता लगाया, जिन्हें अब ग्रहों टेगार्डन बी और टेगार्डन सी के रूप में पहचाना गया है.

टेगार्डन बी का द्रव्यमान पृथ्वी के समान है और प्रत्येक 4.9 दिनों में सितारे की परिक्रमा करता है. दूसरे ग्रह कक्षा को पूरा करने में 11.4 दिन का समय लेता है, जो उसके वर्ष की लंबाई है.रिबास ने कहा, "दूसरे शब्दों में, यह अपने सितारे के बेहद नजदीक है. "

यह भी पढ़ेंः रॉकेट वुमन ऑफ इंडिया: दो महिलाओं के हाथ में है चंद्रयान-2 की कमान

उन्होंने कहा, "जितना प्रकाश हम सूर्य से प्राप्त करते हैं, उससे 10 प्रतिशत अधिक प्रकाश टेगार्डन एक प्राप्त करता हैं, इसलिए हम सोचते हैं कि यह बहुत गर्म हो सकता है और इसमें पानी नहीं हो सकता है. लेकिन यह सिर्फ अटकलें हैं, क्योंकि इसके जलवायु के तत्व हैं जो हमें नहीं पता है और इसका मतलब यह हो सकता है कि यहां क्या पता तरल पानी हो. "

टेगार्डन एक रहने योग्य क्षेत्र के बीच में घूमता है, जिसका अर्थ है कि इसकी सतह पर तापमान 0 डिग्री सेल्युकस और 100 डिग्री सेल्यियस के बीच है, जिसका अर्थ है कि इसकी सतह पर बहुत अच्छी तरह से पानी हो सकता है.

यह भी पढ़ेंः बिना नंबर सेव किए WhatsApp में ऐसे जोड़ें नए मेंबर, देखें तरीका

इसके अलावा वैज्ञानिक इस बात से उत्साहित हैं कि इसके दूसरे दोनों गृह प्राक्सीमा के साथ-साथ जीवन का समर्थन करने के लिए सबसे अच्छा विकल्प हैं. ये वे ग्रह हैं, जिन्होंने अब तक खोजे गए सभी ग्रहों पर वास के लिए सबसे अच्छी स्थिति प्रस्तुत की.

First Published: Tuesday, June 18, 2019 09:15:01 PM
Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

RELATED TAG: New Planets, Earth, Life, Mars,

डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

न्यूज़ फीचर

वीडियो