BREAKING NEWS
  • झारखंड विधानसभा चुनाव (Jharkhand Assembly Elections 2019) में कुल 18 रैलियों को संबोधित करेंगें गृहमंत्री अमित शाह- Read More »
  • केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे ने खोया आपा, प्रदर्शनकारियों पर भड़के, कही ये बड़ी बात - Read More »
  • आयकर ट्रिब्यूनल ने गांधी परिवार को दिया झटका, यंग इंडिया को चैरिटेबल ट्रस्ट बनाने की अर्जी खारिज- Read More »

ब्रेस्‍ट कैंसर का अब और कारगर तरीके से होगा इलाज, भारतीय और अमेरिकी वैज्ञानिकों ने खोजा नया तरीका

पीटीआई  |   Updated On : November 05, 2019 06:58:38 PM
प्रतीकात्‍मक चित्र

प्रतीकात्‍मक चित्र (Photo Credit : फाइल )

टेक्‍सॉस:  

भारतीय और अमेरिकन शोधकर्ताओं ने ब्रेस्‍ट कैंसर (Breast Cancer) का बेहतर इलाज का तरीका खोज निकाला है. शोधकर्ताओं ने एक ऐसे प्रथम श्रेणी के अणु की पहचान की है जो एस्ट्रोजन के प्रति संवेदनशील स्तन कैंसर (Breast Cancer) को दूर कर देते हैं. इस शोध के बाद उन मरीजों में उम्‍मीद की किरण जगी है, जिनका परंपरागत तरीके से अबतक इलाज होता रहा है और ये पारंपरिक उपचार कैंसर (Breast Cancer) प्रतिरोधी बन गए हैं.

प्रथम श्रेणी के अणु अलग तरह से काम करते हैं. ब्रेस्‍ट कैंसर (Breast Cancer) से प्रभावित ट्यूमर कोशिकाओं के एस्ट्रोजन रिसेप्टर पर यह अणु एक प्रोटीन को लक्षित करता है. यह दवा उन रोगियों के लिए आशा प्रदान करती है जिनके स्तन कैंसर (Breast Cancer) पारंपरिक उपचारों के लिए प्रतिरोधी बन गए हैं.

यह भी पढ़ेंः दिल्‍ली पुलिस Vs वकीलः प्रदर्शन में गूंजे दिल्‍ली का CP कैसा हो, किरण बेदी जैसा हो के नारे, ऐसा क्‍या किया था बेदी ने, जानें यहां

टेक्सास साउथवेस्टर्न (यूटी साउथवेस्टर्न) सीमन्स कैंसर (Breast Cancer) सेंटर के प्रोफेसर गणेश राज ने इस शोध के बारे में बताते हुए पीटीआई से कहा कि यह मौलिक रूप से बिल्‍कुल अलग है, एस्ट्रोजेन-रिसेप्टर पॉजिटिव स्तन कैंसर (Breast Cancer) के लिए यह एजेंटों का एक नया वर्ग है.

यह भी पढ़ेंः प्रेमी की मौत के बाद उसकी फोटो से प्रेमिका रचाने चली विवाह तो..

राज ने कहा, " इसका अपना अनूठा तंत्र मौजूदा समय में ब्रेस्‍ट कैंसर (Breast Cancer) के इलाज की सीमा से परे है." राज आगे बताते हैं कि सभी स्तन कैंसर (Breast Cancer) का परीक्षण यह निर्धारित करने के लिए किया जाता है कि क्या उन्हें एस्ट्रोजन विकसित करने की आवश्यकता है और लगभग 80 प्रतिशत एस्ट्रोजन के प्रति संवेदनशील पाए जाते हैं.

यह भी पढ़ेंः शिवसेना (Shiv Sena) ने RSS प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) से लगाई गुहार, महाराष्ट्र में सरकार गठन में दखल की अपील

राज ने कहा कि इस तरह के कैंसर (Breast Cancer) को अक्सर हार्मोन थेरेपी के साथ प्रभावी रूप से इलाज किया जा सकता है, जैसे कि टेमोक्सीफेन, लेकिन इनमें से एक तिहाई कैंसर (Breast Cancer) अंततः प्रतिरोधी बन जाते हैं. नया कंपाउंड इन मरीजों के लिए अत्यधिक प्रभावी और नेक्‍स्‍ट जेनरेशन का इलाज है.

यह भी पढ़ेंः इस बड़ी कंपनी ने कर्मचारियों को हफ्ते में दी 3 छुट्टी तो बढ़ गई उत्पादकता

पारंपरिक हार्मोनल ड्रग्स, जैसे कि टेमोक्सीफेन, कैंसर (Breast Cancer) कोशिकाओं में एस्ट्रोजन रिसेप्टर नामक एक अणु को संलग्न करके काम करते हैं. ये अणु एस्ट्रोजन को रिसेप्टर से बांधने से रोकते हैं. जिससे कैंसर (Breast Cancer) कोशिकाओं को बढ़ने से रोका जा सकता है. हालांकि, एस्ट्रोजन रिसेप्टर समय के साथ अपने आकार को बदल सकता है ताकि उपचार दवा अब रिसेप्टर के साथ बड़े करीने से फिट न हो. जब ऐसा होता है तो कैंसर (Breast Cancer) कोशिकाएं फिर से बढ़ने लगती हैं.

यह भी पढ़ेंः 8 नवंबर को जाग रहे हैं भगवान विष्णु, देवोत्थान एकादशी से बजने लगेंगी शहनाई

यूटी साउथवेस्टर्न के प्रोफेसर डेविड मैंगेल्सडॉर्फ ने कहा, "दवा को विकसित करने के पीछे जो उद्देश्‍य है वो एस्ट्रोजेन रिसेप्टर की क्षमता को रोकना है. अधिकांश स्तन कैंसर (Breast Cancer) में सह-नियामक प्रोटीन दूसरे प्रोटीन से मिलकर ट्यूमर को तेजी से बढ़ाते हैं. इस तरह के प्रोटीन-प्रोटीन इंटरैक्शन को रोकना दशकों से कैंसर (Breast Cancer) शोधकर्ताओं का एक सपना रहा है. यह दवा प्रोटीन-प्रोटीन इंटरैक्शन को रोकने का काम करती है .

First Published: Nov 05, 2019 06:47:15 PM

RELATED TAG: Breast Cancer,

Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो