BREAKING NEWS
  • अधिकारियों से बचने के लिए कैदियों ने प्राइवेट पार्ट में डाल लिया मोबाइल फोन और चरस, ऐसे खुली पोल-पट्टी- Read More »
  • जम्मू-कश्मीर पर राहुल गांधी का ट्वीट, कहा- जल्द रिहा हो फारुक अब्दुल्ला समेत सभी नेता- Read More »

क्या है LEO Satellite System, यहां पढ़ें पूरी डिटेल

News state Bureau  |   Updated On : March 28, 2019 06:25:16 PM
LEO Satellite की पूरी जानकारी

LEO Satellite की पूरी जानकारी

नई दिल्ली:  

LEO Satellite यानि Low Earth Orbit Satellite ऐसा टेलिकम्युनिकेशन सेटेलाइट सिस्टम होता है. जो पृथ्वी की सतह से 400-2000 किलोमीट ऊपर पृथ्वी की निचली सतह (Low Orbit) कक्षा में स्थित होता है. LEO में गुरुत्वाकर्षण का खिंचाव पृथ्वी की सतह की तुलना में थोड़ा कम है. ऐसा इसलिए है क्योंकि पृथ्वी की सतह से LEO की दूरी पृथ्वी की त्रिज्या से काफी कम है. हालांकि, कक्षा में एक वस्तु है, परिभाषा के अनुसार, मुक्त रूप से, क्योंकि इसमें कोई बल नहीं है. परिणामस्वरूप, लोगों सहित कक्षा में वस्तुओं को भारहीनता की भावना का अनुभव होता है, भले ही वे वास्तव में वजन के बिना न हों.

यह भी पढ़ें: Space World में भारत को मिली बड़ी कामयाबी, स्‍वदेश निर्मित A-SET ने मार गिराई दुश्‍मन की LEO

LEO में ऑब्जेक्ट्स ऑर्बिट की ऊंचाई के आधार पर थर्मोस्फीयर (सतह से लगभग 80-500 किमी) या एक्सोस्फीयर (लगभग 500 किमी और ऊपर) में गैसों से वायुमंडलीय खींचें का सामना करते हैं. वायुमंडलीय खींचें के कारण, उपग्रह आमतौर पर 300 किमी से नीचे की कक्षा नहीं करते हैं. वायुमंडल के सघन भाग और आंतरिक वान एलन विकिरण बेल्ट के नीचे LEO पृथ्वी की कक्षा में वस्तुएं.

इक्वेटोरियल लो अर्थ ऑर्बिट (ELEO) LEO का सबसेट है. ये कक्षाएँ, भूमध्य रेखा के कम झुकाव के साथ, तेज़ी से घूमने के समय की अनुमति देती हैं और किसी भी कक्षा की सबसे कम डेल्टा-वी आवश्यकता (यानी, ईंधन खर्च) की आवश्यकता होती है. भूमध्य रेखा के लिए एक उच्च झुकाव कोण के साथ कक्षाओं को आमतौर पर ध्रुवीय कक्षा कहा जाता है.

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान से आए ड्रग से भरे जहाज को गुजरात ATS ने घेरा तो अरब सागर में माफिया ने उड़ाई बोट

उच्च कक्षाओं में मध्यम पृथ्वी की कक्षा (MEO) शामिल है, जिसे कभी-कभी मध्यवर्ती परिपत्र कक्षा (ICO) कहा जाता है, और इसके बाद के संस्करण, भूस्थैतिक कक्षा (GEO). कम कक्षा से अधिक की कक्षा तीव्र विकिरण और चार्ज संचय के कारण इलेक्ट्रॉनिक घटकों की प्रारंभिक विफलता का कारण बन सकती है.

2017 में, विनियामक बुराइयों में एक बहुत कम LEO कक्षा देखी जाने लगी. इस कक्षा को "VLEO" के रूप में संदर्भित किया जाता है, परिक्रमा के लिए उपन्यास प्रौद्योगिकियों के उपयोग की आवश्यकता होती है, क्योंकि वे उन कक्षाओं में काम करते हैं जो आमतौर पर आर्थिक रूप से उपयोगी होने के लिए जल्द ही क्षय हो जाते हैं.

क्या काम करती है LEO Satellite

एक कम पृथ्वी की कक्षा में उपग्रह प्लेसमेंट के लिए सबसे कम ऊर्जा की आवश्यकता होती है. यह उच्च बैंडविड्थ और कम संचार विलंबता प्रदान करता है. चालक दल और सर्विसिंग के लिए LEO में उपग्रह और अंतरिक्ष स्टेशन अधिक सुलभ हैं. चूँकि किसी उपग्रह को LEO में रखने के लिए कम ऊर्जा की आवश्यकता होती है, और एक उपग्रह को सफल संचरण के लिए कम शक्तिशाली एम्पलीफायरों की आवश्यकता होती है. LEO का उपयोग कई संचार अनुप्रयोगों के लिए किया जाता है, जैसे कि इरिडियम फोन सिस्टम. कुछ संचार उपग्रह बहुत अधिक भूस्थिर कक्षाओं का उपयोग करते हैं, और पृथ्वी पर उसी कोणीय वेग पर चलते हैं जैसे कि ग्रह पर एक स्थान के ऊपर स्थिर दिखाई देते हैं.

यह भी पढ़ें: भारत ने अंतरिक्ष में हासिल की बहुत बड़ी उपलब्धि, जानें A SAT की खूबियां

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कैबिनेट की सुरक्षा समिति की बैठक के बाद देश को संबोधित किया. संबोधन में उन्‍होंने देश के वैज्ञानिकों द्वारा हासिल महत्‍वपूर्ण उपलब्‍धि की ओर ध्‍यान दिलाया. पीएम नरेंद्र मोदी ने बताया- कुछ ही समय पहले भारत ने अभूतपूर्व सिद्धि हासिल की है. भारत खुद को अंतरिक्ष महादेश बन गया है. अमेरिका, चीन और रूस के बाद भारत अकेला देश है, जिसे यह बड़ी उपलब्‍धि हासिल हुई है. उन्‍होंने बताया, अब से कुछ ही देर पहले एलईओ (LEO) लो ऑर्विट सेटेलाइट को भारत द्वारा निर्मित A-SAT सेटेलाइट ने मार गिराया है.

First Published: Mar 27, 2019 12:34:18 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो