जयपुर: इस मंदिर में रात को नहीं दिन में 12 बजे मनाया गया कृष्ण जन्म, जानें क्यों

अजय शर्मा  |   Updated On : August 22, 2019 10:25:00 PM
जयपुर मंदिर में 12 बजे दिन में मनाया जाता है जन्माष्टमी

जयपुर मंदिर में 12 बजे दिन में मनाया जाता है जन्माष्टमी (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

इस बार 23 और 24 अगस्त दो दिन जन्माष्टमी मनाया जाएगा. रात के 12 बजे भगवान कृष्ण जन्म लेंगे. लेकिन गुलाबी नगरी जयपुर में एक मंदिर ऐसा है जहां भगवान कृष्ण का जन्म रात की बजाए दिन में 12 बजे मनाया जाता है. भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है. छोटी काशी जयपुर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी बड़े धूमधाम से मनाई जाती है. जयपुर ऐसा प्राचीन मंदिर हैं जहां श्रीकृष्ण जन्माष्टमी हटकर मनाई जाती है. चौड़ा रास्ता स्थित राधा दामोदर मंदिर में रात को नहीं दिन के 12 बजे श्रीकृष्ण जन्माष्टमी मनाई जाती है.

इसे भी पढ़ें:कृष्‍ण जन्‍माष्‍टमी पर करें ये 8 विशेष उपाय, चमक जाएगी आपकी किस्‍मत

राधा दामोदर नाम से प्रसिद्ध इस मंदिर में करीब 500 सालों से ये परंपरा चली आ रही है.माना जाता है कि राधा दामोदर का ये मंदिर कृष्ण की बाल स्वरूप का है. जिसके कारण कृष्ण के सोने का समय रात को 12 बजे का होगा, न कि उठने का, जिसके कारण इस मंदिर में दिन में 12 बजे कृष्ण जन्म मनाया जाता है. वहीं रात को 12 बजे से पहले पट बंद कर दिए जाते हैं.

और पढ़ें:Janmashtami Special: क्यों खास है राजस्थान का श्रीनाथजी मंदिर और कैसे हुई इसकी स्थापना, जानें

बताया जाता है कि राधा-दामोदर जी की मूर्ति वृंदावन से तत्कालीन महाराजा सवाई जयसिंह जी के आग्रह पर जयपुर लाकर स्थापित की गई थी.

First Published: Aug 22, 2019 10:24:43 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो