BREAKING NEWS
  • पहले शिवसेना-NCP-कांग्रेस में निकाह होने दीजिए, बाद में सोचेंगे कि बेटा होगा या बेटी, बोले असदुद्दीन ओवैसी- Read More »

कुंभ मेले में पहुंचे सभी श्रद्धालुओं के दातों का रखा जा रहा खास ख्याल, जानें क्या है माजरा

IANS  |   Updated On : February 19, 2019 07:01:09 PM
 कुंभ में पहुंचा है कोलगेट पामोलिव इंडिया

कुंभ में पहुंचा है कोलगेट पामोलिव इंडिया (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

भारत में दातों की सुरक्षा एवं उसके स्वास्थ्य को लेकर जागरुकता की कमी है. इसी कमी को दूर करने के लिए कोलगेट पामोलिव इंडिया ने इलाहाबाद में जारी कुंभ मेले के माध्यम से एक नई पहल की शुरुआत की है. कोलगेट का लक्ष्य कुंभ में आने वाले हर पांच में से एक व्यक्ति की जिंदगी को प्रभावित करना है. अपने इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए कोलगेट ने 'कुंभ से सम्पूर्ण शुद्धि, कोलगेट वेदशक्ति से सम्पूर्ण सुरक्षा' कैम्पेन लॉन्च किया है.

यह कैम्पन पूरी तरह से स्थानीयकृत है और इसे श्रद्धालुओं को सम्पूर्ण एवं समग्र सुरक्षा उपलब्ध कराने के लिए खासतौर से तैयार किया गया है. इसके अंतर्गत कुंभ के लिये खासतौर से तैयार की गई सुविधाजनक तत्वों के माध्यम से सुरक्षा उपलब्ध कराई जाती है.

यह भी पढ़ें- Kumbh Mela 2019 : माघी पूर्णिमा के अवसर पर देखें दिव्य कुम्भ-भव्य कुम्भ की अद्भुत तस्वीरें

इसके लिए दांतों को ब्रश करने के लिए श्रद्धालुओं के लिए ब्रशिंग स्टेशन्स स्थापित किए गए हैं. साथ ही अच्छी मौखिक स्वच्छता के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए ओरल केयर की अहमियत के संबंध में अभियान भी चलाया जा रहा है. इस प्रयास के तहत कुंभ में आए लाखों लोगों के लिए कोलगेट वेदशक्ति के सैम्पल को नि:शुल्क और बड़े पैमाने पर उपलब्ध करा जा रहा है. साथ ही बच्चों के लिये सुरक्षा रिस्टबैंड्स जारी किया गया है, जिन पर उनके आपातकालीन कॉन्टैक्ट डिटेल को लिखकर उसे बच्चों को पहनाया जा सकता है.

इस पहल के बारे में कोलगेट-पामोलिव (इंडिया) लिमिटेड के प्रबंध निदेशक ईसाम बचलानी ने कहा, ''कोलगेट में, हम सभी भारतीयों को सर्वोत्कृष्ट ओरल केयर और सुरक्षा उपलब्ध कराने और हमारे समुदायों की देखभाल करने की दिशा में निरंतर काम कर रहे हैं. कुंभ मेला हमें बड़े पैमाने पर हमारे प्रमुख लक्षित वर्गों के साथ इन दोनों ही उद्देश्यों को पूरा करने का एक अवसर देता है.

बचलानी का कहना है कि कोलगेट का उद्देश्य मेले में आने वाले कम से कम पांच में से एक श्रद्धालु की जिंदगी को प्रभावित करना है.

First Published: Feb 19, 2019 07:00:26 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो