अहोई अष्टमी: संतान के लिए महिलाएं रखती हैं व्रत, जानें पूजा विधि

सुबह स्नान करने के बाद अहोई की पूजा का संकल्प लें। फिर गेरू या लाल रंग से दीवार पर अहोई माता की आकृति बनाएं।

  |   Updated On : October 12, 2017 07:34 AM
अहोई अष्टमी का व्रत संतान के लिए रखा जाता है (फाइल फोटो)

अहोई अष्टमी का व्रत संतान के लिए रखा जाता है (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

12 अक्टूबर को अहोई अष्टमी मनाई जा रही है। इस व्रत में वह महिलाएं पूजा करती हैं, जिनके बच्चे होते हैं। अपनी संतान के कल्याण के लिए महिलाएं यह त्योहार मनाती हैं।

धार्मिक मान्यता के मुताबिक, यह व्रत संतान की शिक्षा, करियर और कारोबार में आ रही बाधाओं को दूर करने के लिए रखा जाता है। साथ ही पारिवारिक बाधाएं भी दूर होती हैं। मां अपने बच्चों की रक्षा और दीर्घायु के लिए तो व्रत रखती हैं। लेकिन जो महिलाएं शादी के बाद मां नहीं बन पाई हैं, उनके लिए यह व्रत खास होता है।

ये भी पढ़ें: Diwali: मां लक्ष्मी को करना है प्रसन्न तो पूजा करते समय पढ़ें ये मंत्र

व्रत का महत्व

अहोई अष्टमी व्रत का बहुत महत्व है। यह व्रत कार्तिक कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को रखा जाता है। इस दिन अहोई माता यानि पार्वती की पूजा की जाती है।

ये है पूजन सामग्री

पूजा की सामग्री में चांदी या सफेद धातु की अहोई, मोती की माला, दूध, भात, हलवा, फूल, दीप और जल से भरा हुआ कलश रखें।

ऐसे करें पूजा

सुबह स्नान करने के बाद अहोई की पूजा का संकल्प लें। फिर गेरू या लाल रंग से दीवार पर अहोई माता की आकृति बनाएं। माता की प्रतिमा पर रोली, फूल अर्पित करें और फिर दूध, भात और हलवा का भोग लगाएं।

अहोई माता की कथा सुनने के बाद मोती की माला गले में पहनें और अपनी सासु मां का आशीर्वाद लें। रात में चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद खुद भोजन का ग्रहण करें।

ये भी पढ़ें: Birthday Special: 75 साल के Big B ने फिल्मों और TV ही नहीं, विज्ञापनों में भी बिखेरा जादू 

First Published: Wednesday, October 11, 2017 02:52 PM

RELATED TAG: Ahoi Ashtami 2017,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो