Teenager लड़कों से ज्‍यादा लड़कियों में सोशल मीडिया का चस्‍का, बना रहा भुलक्‍कड़

एक शोध के अनुसार सोशल मीडिया का सबसे ज्‍यादा चस्‍का एक ही आयु वर्ग के लड़कों की अपेक्षा लड़कियों में ज्‍यादा है.

ANI  |   Updated On : January 06, 2019 10:12 AM
14 साल तक के बच्‍चों में लड़कियां लड़कों से ज्‍यादा सोशल मीडिया पर समय बिताती हैं

14 साल तक के बच्‍चों में लड़कियां लड़कों से ज्‍यादा सोशल मीडिया पर समय बिताती हैं

वाशिंगटन डीसी:  

एक शोध के अनुसार सोशल मीडिया का सबसे ज्‍यादा चस्‍का एक ही आयु वर्ग के लड़कों की अपेक्षा लड़कियों में ज्‍यादा है. Teenagers को सीखने के लिए सोशल मीडिया (Social Media) बहुत सारे उपयोगी टूल हैं. लेकिन विशेज्ञ Snapchatting या Instagram पर ज्‍यादा समय नहीं बिताने की सलाह दे रहे हैं. यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन द्वारा किए गए एक अध्‍ययन से पता चलता है कि 14 साल तक के बच्‍चों में लड़कियां लड़कों से ज्‍यादा सोशल मीडिया पर समय बिताती हैं.

यह भी पढ़ेंः New Year Resolution 2019: सिगरेट की कीमत पर खरीदिए घर और लाइए सपनों की कार

ऐसे किशोर जो एक दिन में 5 घंटे से ज्‍यादा समय सोशल मीडिया पर बिताते हैं उनमें अवसाद के मामेल ज्‍यादा पाए जाते हैं. खासकर 50 फीसद लड़कियां अवसाद की शिकार हो जाती हैं. जबकि इसी आयु वर्ग के लड़कों की बात करें तो केवल 35 फीसद लड़के सोशल मीडिया के चलते अवसाद की चपेट में आते हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि यह अंतर चिंताजनक है.फेसबुक और ट्विटर का प्रयोग भले ही आपको दोस्‍तों के संपर्क में रहने के लिए अच्‍छा लगता हो. लेकिन इनका ज्‍यादा इस्‍तेमाल आपकी याद्दाश्‍त पर विपरीत असर डालता है. हाल ही में हुए एक शोध के मुताबिक सोशल मीडिया की लत आपको भुलक्‍कड़ बना सकती है.

यह भी पढ़ेंः Positive Communication: क्‍या आपने डर में एक अलग तरह का सुख महसूस किया है

एक और अध्‍ययन के मुताबिक सोशल मीडिया का अधिक इस्‍तेमाल याद्दाश्‍त पर विपरीत असर डालता है. ऐसे लोगों के दिमाग में महत्‍वपूर्ण जानकारी सुरक्षित नहीं रह पाती. इससे उन्‍हें अपने दैनिक जीवन में परेशानी होती है. स्‍टॉकहोम के केटीएच रॉयल इंस्‍टीट्यूट ऑफ टेक्‍नोलॉजी के शोधकर्ताओं के मुताबिक दिमाग खाली समय में जानकारियों को सुरक्षित करने का काम करता है.

यह भी पढ़ेंः घर ही नहीं, ऑफिस का माहौल भी ऐसे बनाएं मजेदार, गायब हो जाएगा तनाव

उन्‍होंने बताया कि सोशल मीडिया के इस युग में लोग हर समय ऑनलाइन रहते हैं या अन्‍य किसी काम में लगे रहते हैं, इससे उनका दिमाग हर समय व्‍यस्‍त रहता है और उसे आराम भी नहीं मिल पाता. ऐसे में उनके दिमाग को जानकारियों को सुरक्षित रखने की प्रक्रिया पूरी करने के लिए समय नहीं मिल पाता. जिसका सीधा असर उनकी याद्दाश्‍त पर पड़ता है.

यह भी पढ़ेंः Research: थोड़ी-थोड़ी पीने से नहीं कोई खतरा, दिल नहीं देगा दगा

ऐसे में शोधकर्ताओं की सलाह है कि सोशल मीडिया के आदी लोगों को बीच-बीच में ऑफलाइन होते रहना चाहिए. शोधकर्ता इरिक फ्रांसेन के मुताबिक सोशल मीडिया के अधिक इस्‍तेमाल से मस्तिष्‍क पर जानकारियों का बोझ बढ़ जाता है. जिससे दिमाग कम जानकारियों को ही लंबे समय तक याद रख पाता है. फ्रांसेन के मुता‍बिक मनुष्‍य के दिमाग में स्‍मृतियों के दो कोष होते हैं, पहला अल्‍पकालिक और दूसरा दीर्घकालिक. कोई भी सूचना पहले अल्‍पकालिक स्‍मृति में आती है, उसके बाद यह दीर्घकालिक स्‍मृति में जाती है. (ANI)

First Published: Sunday, January 06, 2019 10:11 AM

RELATED TAG: Teenage Girls, Social Media, Habit Of Social Media, Facebook, Snapchat, Instagram,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें
Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो