इस शुभ मुहूर्त में करें करवा चौथ की पूजा, पति की उम्र होगी लंबी

इस बार कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ का पर्व मनाया जा रहा है।

  |   Updated On : October 18, 2016 09:22 PM
gettyimages

gettyimages

नई दिल्ली:  

इस बार कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ का पर्व मनाया जा रहा है। इस दिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए उपवास रखती हैं। घर परिवार की सभी महिलाएं मिलकर इस दिन भगवान गणेश की पूजा करती हैं और आपस में चूड़ियां और अपने सामान बदलती हैं। इस ​दिन महिलाएं ज्यादातर रेड, पिंक, ओरेंज और गोल्डन कलर की ड्रैस पहनती हैं।

ये भी पढ़ें, करवा चौथ पर महिलाएं क्यों देखती हैं चांद को छलनी से

इस बार करवा चौथ की पूजा का महूर्त इस प्रकार है।

करवा चौथ की तिथि : 18 अक्टूबर 10 बजकर 47 मिनट पर शुरू

करवा चौथ की खत्म तिथि: 19 अक्टूबर को 7 बजकर 32 मिनट तक

करवा चौथ की पूजा का समय : शाम को 5 बजकर 43 मिनट से 6 बजकर 59 तक

कुल समय: 1 घंटा 16 मिनट

चांद निकलने का समय: रात को 8 बजकर 51 मिनट पर

पति की लंबी उम्र के लिए ऐसे करें पूजा

सूरज उगने से पहले स्नान कर व्रत का संकल्प लें। इसके बाद भोर में ही सास की भेजी हुई सरगी खाएं। इसमें मिठाई, फल, सेंवई, पूड़ी और 16 श्रृंगार का सामान होता है। यह ध्यान रखें कि सरगी में प्याज और लहसुन से बना खाना न हो। सरगी खाने के बाद से ही करवा चौथ का निर्जल व्रत शुरू होता है। पूरे दिन मन में शिव, पार्वती, गणेश और कार्तिकेय का ध्यान करती रहें। दीवार पर गेरू से फलक बनाकर पिसे चावलों के घोल से करवा बनाएं। अब आठ पूरियों की अठारवीं बनाएं। 

इस मंत्र का करें जाप

करवा चौथ पूजन के लिए बालू या सफेद मिट्टी की वेदी बनाकर शिव-पार्वती, गणेश-कार्तिकेय और चंद्रमा को स्थापित करें। मां गौरी को लकड़ी के सिंहासन पर विराजमान कर लाल रंग की चुनरी पहनाएं और श्रृंगार की चीजें अर्पित करें। फिर उनके सामने जल से भरा कलश रखें। इसके ऊपर रखे ढक्कन में चीनी का बूरा (चूरा) भर दें। फिर इस पर दक्षिणा (पैसे) रखें। गौरी गणेश के स्‍वरूपों की पूजा करते हुए इस मंत्र का जाप करें-
 
'नमः शिवायै शर्वाण्यै सौभाग्यं संतति शुभाम्‌। प्रयच्छ भक्तियुक्तानां नारीणां हरवल्लभे'
 
विधि-विधान से पूजा करने के बाद करवा चौथ की कथा (कहानी) सुनें। फिर चंद्रमा को अर्घ्य देकर छलनी से अपने पति को देखें। इसके बाद पति के हाथ से पानी पीकर व्रत खोलें। इस विधान से पूजा करने पर आपके पति की आयु लंबी होती है और उनकी सेहत भी अच्छी रहती है।
 
करवा चौथ का महत्व
 
हिंदू रीति-रिवाज में करवा चौथ का खासा महत्व है। यह पर्व महिलाओं के लिए बेहद खास होता है। वे पति के प्रति प्रेम, पारिवारिक सुख-समृद्धि और सामाजिक प्रतिष्ठा के लिए यह व्रत रखती हैं। इस दिन वह 16 श्रृंगार भी करती हैं।
First Published: Tuesday, October 18, 2016 08:45 PM

RELATED TAG: Karwa Chauth 2016, Beauty, Puja Muhurt, Karwa Chauth Puja Muhurt2016,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो