BREAKING NEWS
  • रोहित शेखर मर्डर केस : कहीं पत्नी अपूर्वा ने तो नहीं किया कत्ल, जानें क्या कहती है रिपोर्ट- Read More »
  • IPL12, RCB vs CSK, Live: 161 रन पर आरसीबी ढेर, चेन्नई को जीत के लिए 162 रनों की दरकार- Read More »
  • कांग्रेस ने हरियाणा में उतारे 5 अपने उम्मीदवार, सोनीपत से भूपिंदर सिंह हुड्डा और कुरुक्षेत्र से निर्मल सिंह को मिला टिकट- Read More »

April Fool’s Day 2019: जानें क्‍यों हर साल 1 अप्रैल को मनाया जाता है 'फूल डे'

News State Bureau  |   Updated On : April 01, 2019 08:37 AM
April Fools Day 2019

April Fools Day 2019

नई दिल्‍ली:  

April Fool’s Day 2019 एक अप्रैल को मूर्ख दिवस के रूप में मनाया जाता है. इस दिन किसी को भी बेझिझक होकर बेवकूफ बना सकते हैं जिसका कोई बुरा नहीं मानता. क्‍योंकि दुनिया के कई देशों में 1 अप्रैल को मूर्ख दिवस के रूप में मनाया जाता है. अलग-अलग देशों में अलग-अलग तरीकों से इसे मनाया जाता है. आस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, साउथ अफ्रीका और ब्रिटेन में ये दोपहर तक मनाया जाता है. इसके पीछे वजह है कि यहां के अखबार केवल सुबह के अंक में मुख्य पेज पर अप्रैल फूल डे से जुड़े विचार रखते हैं. कुछ देशों- जापान, रूस, आयरलैंड, इटली और ब्राजील में पूरे दिन अप्रैल फूल डे मनाया जाता है.

यह भी पढ़ेंः FCI Recruitment 2019: फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया में आई बंपर वैकेंसी, इस लिंक से करें आवेदन

दुनिया में कई ऐसे देश भी हैं जहां अप्रैल फूल डे तो मनाया ही जाता है. साथ ही एक दूसरा दिन भी मूर्ख दिवस के रूप में होता है. डेनमार्क में 1 मई माज-काट के रूप में मनाया जाता है. डेनमार्क का माज-काट अप्रैल फूल डे के समान ही होता है. पोलैंड में अप्रैल फूल डे प्राइमा एप्रिलिस के नाम से जाना जाता है. पोलैंड में इस दिन मीडिया और सरकारी संस्थान हाक्स तैयार करते हैं.

यह भी पढ़ेंः पत्नी की अश्लील वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी दे रहा है हैवान पति, वजह जान रह जाएंगे दंग

पहली बार अप्रैल फूल डे कब मनाया गया इसके बारे में कोई पुख्‍ता जानकारी नहीं है. लेकिन कुछ लोगों का मानना है कि फ्रेंच कैलेंडर में होने वाला बदलाव भी अप्रैल फूल डे मनाने का कारण हो सकता है. वहीं कुछ लोग मानते हैं कि इंग्लैंड के राजा रिचर्ड द्वितीय की एनी से सगाई के कारण अप्रैल फूल डे मनाया जाता है. कुछ लोग इसे हिलारिया त्यौहार से भी जोड़ कर देखते हैं.

ये हैं कहानियां

पहली कहानी के अनुसार ज्यॉफ्री सॉसर्स ने पहली बार साल 1392 में इसका जिक्र अपनी किताब केंटरबरी टेल्स में किया था. कहा जाता है इंग्लैंड के राजा रिचर्ड द्वितीय और बोहेमिया की रानी एनी की सगाई की तारीख 32 मार्च, 1381 को होने की घोषणा की गई थी जिसे वहां के लोग सही मान बैठे और मूर्ख बन गए, तभी से एक अप्रैल को मूर्ख दिवस मनाया जाता है.

यह भी पढ़ेंः राहतः आधार के साथ पैन Link करने की अंतिम तिथि बढ़ी

दूसरी कहानी के अनुसार सन् 1582 में पोप ग्रेगोरी XIII ने 1 जनवरी से नए कैलेंडर की शुरुआत की. इसके साथ मार्च के आखिर में मनाए जाने वाले न्यू ईयर के सेलिब्रेशन की तारीख में बदलाव हो गया. कैलेंडर की यह तारीख पहले फ्रांस में अपनाई गई. हालांकि, यूरोप में रह रहे बहुत से लोगों ने जूलियन कैलेंडर को ही अपनाया था. इसके एवज में जिन्होंने नए कैलेंडर को अपनाया उन्होंने उन लोगों को फूल (मूर्ख) कहना शुरू कर दिया जो पुराने कैलेंडर के मुताबिक ही चल रहे थे.

यह भी पढ़ेंः 'मैं भी चौकीदार' के जरिये PM मोदी ने कही ये 10 बड़ी बातें

हिलारिया एक त्यौहार है जो प्राचीन काल में रोम में मनाया जाता था. इस त्यौहार में देवता अत्तिस की पूजा होती थी. हिलारिया त्यौहार में उत्सव का भी आयोजन किया जाता था. इस उत्सव के दौरान लोग अजीब-अजीब कपड़े पहनते थे. साथ ही मास्क लगाकर तरह-तरह के मजाक करते थे. उत्सव में होने वाली इस गतिविधि के कारण ही इतिहासकारों ने इसे अप्रैल फूल डे से जोड़ दिया.

First Published: Sunday, March 31, 2019 08:37 PM

RELATED TAG: April Fools Day 2019, History Of April Fools Day, April Fool Jokes, April Fool Image,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटरऔरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो