BREAKING NEWS
  • IPL 12: BCCI ने जारी किया इंडियन प्रीमियर लीग का पूरा शेड्यूल, देखें यहां- Read More »
  • लड़की ने अपनी ही दोस्त को 60 फीट की ऊंचाई से दिया धक्का, दोनों फेफड़े फटे और 6 पसलियां टूटीं- Read More »
  • Holi 2019: होली में घर पर जमाएं रंग, बनाएं ये 6 तरह की गुजिया, पढ़ें रेसिपी- Read More »

राजस्थान में किसान कर्जमाफी के नाम पर सामने आया करोड़ो का घोटाला

News State Bureau  |   Updated On : January 08, 2019 10:15 AM
Rajasthan Farmers loan scam (सांकेतिक चित्र)

Rajasthan Farmers loan scam (सांकेतिक चित्र)

नई दिल्ली:  

राजस्थान सरकार ने प्रस्तावित कर्ज माफी से पहले ही राज्य में 8.30 करोड़ रुपए का कर्ज माफी घोटाला सामने आया है. मामला डूंगरपूर जिले का है यहां पर गोवाडी, जेठाना और ब्रह्मानिया की कृषि बहुउद्देशीय सहकारी समीति (large agriculture multiple co-operative society) में यह घोटाला सामने आया है. जिसके बाद अब प्रदेश की सियासत गरमाती नजर आ रही है. कांग्रेस घोटाले को बीजेपी शासन के समय का बता रही है वहीं बीजेपी इस मामले में जांच की चुनौती दे रही है.

बता दें कि 1719 किसानों के नाम से फर्जी खातों के माध्यम से 8.30 करोड़ रुपए का कर्ज लिया गया. पूर्ववर्ती भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सरकार में किसानों के सरकारी बैंकों के 50 हज़ार तक के कर्ज माफी की घोषणा के समय इस कार्य को भी करवा लिया गया. इसकी जानकारी मिलने के बाद में जोरदार हंगामा हुआ.

कर्ज माफी की पहले ही ऋण चुकता होने के कारण उनको ऋण माफी प्रमाण पत्र भी मिल चुके हैं. इसके साथ ही यह भी बताया जा रहा है कि राज्य सरकार द्वारा हाल ही में की गई ऋण माफी योजना के तहत भी चुकता करने की योजना थी. जिस किसान को बैंक में ऋण देने से इनकार कर दिया था, उन्हीं किसानों के नाम से यह कर्ज लिए गए हैं. जितनी राशि मांगी थी, उसके मुकाबले अधिक राशि जारी की गई और किसानों को इस बात का पता भी नहीं है.

ये भी पढ़ें: अशोक गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, आत्महत्या कर चुके किसानों का पूरा कर्ज होगा माफ

1719 किसानों में से अधिकांश खाड़ी देशों में नौकरी करते हैं. इनसे इनके नाम से 8.30 करोड़ रुपए का लिया गया और कर्ज माफी योजना के तहत इसे चुका भी दिया गया. इसके बाद पता चला कि इस सूची में ऐसे किसान भी शामिल है जो रोजगार की तलाश में विदेश गए हुए हैं.

इस मामले में सहकारिता रजिस्ट्रार आईएस नीरज के पवन ने सुपरवाइजर को निलंबित कर दिया गया है. इसके साथ ही 3 व्यवस्थापकों के अधिकार छीन लिए गए हैं. इसकी जांच के लिए एडिशनल रजिस्ट्रार निगरानी में एक टीम गठित की गई है. अब जांच होने के बाद ही घोटाले की वास्तविक राशि सामने आएगी.

सहकारिता मंत्री उदय लाल आंजना का कहना है कि जांच के लिए कमेटी बनाई गई है. इसके अलावा भी प्रदेश में सभी जगह जांच के लिए आदेश दे दिए गए हैं. घोटाले में शामिल सुपरवाइजर और उनके अधिकारियों की भूमिका की जांच की जा रही है. सीएम अशोक गहलोत का कहना है जांच के बाद सब साफ हो जाएगा. किसानों के साथ अन्याय नहीं होने देंगे.

दूसरी ओर बीजेपी का कहना है एक ओर जहां किसान मार्जमाफी महज थोथी घोषणा बन गया है वहीं किसानों के नाम पर फर्जीवाड़े सामने आ रहे हैं. पूर्व कैबिनेट मंत्री कालीचरण सराफ ने कहा सरकार काँग्रेस की जांच कराए जो दोषी है उसकी सजा दे.

और पढ़ें: मोदी सरकार से ज्यादा साम्प्रदायिक दंगे मनमोहन कार्यकाल के दौरान हुए, देखें आंकड़ें

गौरतलब है कि पिछली वसुंधरा राजे सरकार ने प्रदेश के उन किसानों का रुपए 50000 तक का कर्ज माफ किया था. जिन्होंने सहकारी बैंकों से कर्ज ले रखा है. इसमें 8174 करोड़ रुपए का ऋण माफ किया गया था.

वर्तमान सरकार ने की अलग-अलग कैटेगरी में किसानों का रुपए 200000 तक का ऋण माफ करने की घोषणा की है. इसके लिए अभी किसानों की पात्रता निश्चित करने के लिए कैबिनेट सब कमेटी बनाई गई है, जिसकी दूसरी बैठक 10 जनवरी को होगी.

First Published: Tuesday, January 08, 2019 10:06 AM

RELATED TAG: Farmers Loan Scam, Ashok Gehlot, Bjp, Congress, Dungarpur, Rajasthan,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटरऔरगूगल प्लस पर फॉलो करें

News State ODI Contest
Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो