पंजाब विधानसभा चुनाव 2017: क्या प्रकाश सिंह बादल का बतौर मुख्यमंत्री आखिरी चुनाव होगा?

भारत ने जब अंग्रेजों के काले शासन से छूटकर नई सुबह में चलना शुरू किया तो उसी वर्ष पंजाब की राजनीति में एक ऐसे नेता का उदय हुआ जिसकी छटा आज भी निखर रही है। बात हो रही है देश के सबसे अधिक उम्र के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल की।

News State Bureau  |   Updated On : February 04, 2017 03:27 PM
फाइल फोटो (Image Source- Gettyimages)

फाइल फोटो (Image Source- Gettyimages)

नई दिल्ली:  

भारत ने जब अंग्रेजों के काले शासन से छूटकर नई सुबह में चलना शुरू किया तो उसी वर्ष पंजाब की राजनीति में एक ऐसे नेता का उदय हुआ जिसकी छटा आज भी निखर रही है। बात हो रही है देश के सबसे अधिक उम्र के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल की। जिनकी प्रतिष्ठा शनिवार को वोटिंग मशीन में कैद हो जाएगी। पंजाब के 117 सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं।

90 वर्षीय प्रकाश सिंह बादल लांबी विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं। जहां उन्हें कांग्रेस के मुख्यमंत्री पद के प्रत्याशी और पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह व आम आदमी पार्टी के जरनैल सिंह कड़ी चुनौती दे रहे हैं। लांबी विधानसभा की सीट बठिंडा संसदीय क्षेत्र में आती है जहां से प्रकाश सिंह बादल की बहू और सुखबीर सिंह बादल की पत्नी हरसिमरत कौर बादल सांसद हैं।

और पढ़ें: Live: गोवा और पंजाब में विधानसभा के लिए चुनाव जारी

बादल लांबी सीट से पिछले पांच बार से विधायक हैं। लेकिन उनके लिए 70 साल के राजनीतिक करियर का सबसे कठिन मुकाबला है। बादल की पार्टी शिरोमणि अकाली दल (शिअद)-बीजेपी गठबंधन पंजाब में लगातार तीसरी बार वापसी के आस में है। लेकिन पहली बार विधानसभा चुनाव में हाथ आजमा रही आम आदमी पार्टी और मुख्य विपक्षी दल गठबंधन को कड़ी चुनौती दे रही है।

विधानसभा चुनाव 2017 से जुड़ी हर खबर के लिए यहां क्लिक करें

फाइल फोटो

फाइल फोटो

देश के सबसे अधिक उम्र के मुख्यमंत्री बादल की भाग-दौड़ अभी भी देखने लायक है। उनका जन्म 8 दिसम्बर 1927 को पंजाब के गांव अबुल खुराना में हुआ था। आजादी के साल 1947 में महज 20 साल की उम्र में बाद सरपंच का चुनाव जीतकर राजनीति के मैदान में आ गए। इसके बाद 1957 और 1969 में कांग्रेस के टिकट पर विधानसभा में पहुंचे। वह पहली बार 1970-71 में पंजाब के मुख्यमंत्री बने।

कांग्रेस से राज्य की राजनीति में कदम रखने वाले बादल ने बाद में अलग राह पकड़ ली और शिरोमणि अकाली दल के साथ आ गए। 1970-71 के बाद, 1977-80, 1997-2002, 2007-12 और फिर 2012 से अभी तक मुख्यमंत्री रहे। बादल पांच बार पंजाब के सीएम बनने वाले वो इकलौते नेता है। पद्म पुरस्कार से सम्मानित बादल ज्यादा पंजाब की राजनीति में ही सक्रिय रहे। हालांकि 1977 में मोरारजी देसाई की सरकार में वो केंद्र में भी कुछ समय के लिए मंत्री रहे हैं।

फाइल फोटो

फाइल फोटो

बड़े बादल के नाम से मशहूर मुख्यमंत्री 1995 से 2008 तक शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के अध्यक्ष भी रहे। अब उनके बेटे सुखबीर सिंह बादल अध्यक्ष हैं। बताया जा रहा है कि अगर शिरोमणि अकाली दल सत्ता में आती है तो सुखबीर की बतौर मुख्यमंत्री ताजपोशी होगी। सुखबीर फिलहाल पंजाब के उप मुख्यमंत्री हैं।

दरअसल बढ़ती उम्र और पुत्र मोह में बड़े बादल छोटे बादल (सुखबीर सिंह बादल) को अपनी विरासत सौंप सकते हैं। लेकिन सुखबीर सिंह बादल के प्रति विपक्षी दलों का रूख उनके लिए रूकावट बन सकता है।

सुखबीर सिंह बादल पर भ्रष्टाचार का आरोप लगता रहा है। मोगा कांड के बाद उनके ऊपर ट्रांसपोर्ट के बिजनेस को लेकर सियासी हमले हुए थे। वहीं सुखबीर सिंह बादल के साले बिक्रम सिंह मजीठिया का ड्रग्स कनेक्शन भी विपक्षी दलों का मुख्य चुनावी मुद्दा है। कांग्रेस हो या आम आदमी पार्टी दोनो ने ड्रग्स को मुख्य मुद्दा बनाते हुए बादल सरकार के मिलीभगत के आरोप लगाये हैं। मजीठिया पंजाब सरकार में मंत्री भी है।

प्रकाश सिंह बादल ने पूरे राजनीतिक जीवन में करीब 17 साल जेल में बिताए। बादल ने पंजाब, पंजाबियत और पंजाबियों का नारा बुलंद करते हुए कई दफा सफलता के झंडे गाड़े। लेकिन सबसे बड़ा सवाल पंजाब की सियासी हवाओं में घूम रहा है कि क्या 90 साल के बुजर्ग लेकिन हौसले से जवान प्रकाश सिंह बादल को 2017 विधानसभा चुनाव में एक बार फिर पंजाब की जनता मुख्यमंत्री चुनेगी?

First Published: Saturday, February 04, 2017 03:04 PM

RELATED TAG: Punjab Elections 2017, Punjab Polls, Punjab Cm, Parkash Singh Badal, Sad, Bjp, Lambi,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो