Navratri 2019: मां दुर्गा के 9 रूपों का करें दर्शन और जानें किस दिन किसकी होती है पूजा

Updated On : September 25, 2019 03:29 PM
29 सितंबर 2019 दिन रविवार को प्रतिपदा तिथि है. इस दिन घटस्थापना के साथ मां शैलपुत्री की पूजा होगी.
29 सितंबर 2019 दिन रविवार को प्रतिपदा तिथि है. इस दिन घटस्थापना के साथ मां शैलपुत्री की पूजा होगी.

मां शैलपुत्री को प्रसन्‍न करने के लिए उन्‍हें कुट्टू यानी शैलअन्न का भोग लगाया जाता है. शंकरजी की पत्नी एवं नव दुर्गाओं में प्रथम शैलपुत्री दुर्गा का महत्व और शक्तियां अनंत है. अगर आप बीमारी से परेशान हैं तो इस दिन मां को घी का भोग लगाएं. आपके सारे दुःख ख़त्म होते हैं.

30 सितंबर 2019 दिन सोमवार को द्वितीया तिथि है और इस दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा होगी.
30 सितंबर 2019 दिन सोमवार को द्वितीया तिथि है और इस दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा होगी.

नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी को दूध और दही का भोग लगाया जाता है. ब्रह्मचारिणी रूप की आराधना से उम्र लम्बी होती है. इसके लिए मां को शक़्कर, सफेद मिठाई एवं मिश्री का भी भोग लगाया जा सकता है.

1 अक्टूबर 2019 दिन मंगलवार को तृतीया तिथि है और इस दिन मां चंद्रघंटा की पूजा होगी.
1 अक्टूबर 2019 दिन मंगलवार को तृतीया तिथि है और इस दिन मां चंद्रघंटा की पूजा होगी.

चंद्रघंटा पर रामदाना का भोग लगाया जाता है. मां के इस रूप को दूध, मेवायुक्त खीर या फिर दूध से बनी मिठाईयों का भी भोग लगाकर मां की कृपा पा सकते हैं. इससे भक्तों को समस्त दुखों से मुक्ति मिलती हैं।

नवरात्रि के चौथे दिन 2 अक्टूबर 2019 दिन बुधवार को चतुर्थी तिथि के दिन मां कूष्मांडा की पूजा करें.
नवरात्रि के चौथे दिन 2 अक्टूबर 2019 दिन बुधवार को चतुर्थी तिथि के दिन मां कूष्मांडा की पूजा करें.

इन्हें पेठे का भोग लगाया जाता है. वहीं मालपुआ से मां कुष्मांडा बेहद प्रसन्‍न होती हैं.  मां के कुष्मांडा के इस रूप की कृपा से निर्णंय लेने की क्षमता में वृद्धि एवं मानसिक शक्ति अच्छी रहती हैं।

नवरात्रि के पांचवें दिन 3 अक्टूबर 2019 दिन गुरुवार को पंचमी तिथि है और इस दिन मां स्कंदमाता की पूजा होगी.
नवरात्रि के पांचवें दिन 3 अक्टूबर 2019 दिन गुरुवार को पंचमी तिथि है और इस दिन मां स्कंदमाता की पूजा होगी.

मां स्कन्दमाता को वैसे तो जौ-बाजरे का भोग लगाया जाता है, लेकिन शारीरिक कष्टों के निवारण के लिए माता का भोग केले का लगाएं.

नवरात्रि के छठे दिन 4 अक्टूबर 2019 दिन शुक्रवार को षष्ठी तिथि है और इस दिन मां कात्यायनी की पूजा होगी.
नवरात्रि के छठे दिन 4 अक्टूबर 2019 दिन शुक्रवार को षष्ठी तिथि है और इस दिन मां कात्यायनी की पूजा होगी.

मां कात्यायनी को लौकी का भोग लगाएं.  वैसे देवी को प्रसन्न करने के लिए शहद और मीठे पान का भी भोग लगाया जाता है.

नवरात्रि के सातवें दिन 5 अक्टूबर 2019 दिन शनिवार को सप्तमी तिथि है और इस दिन मां कालरात्रि की पूजा होगी.
नवरात्रि के सातवें दिन 5 अक्टूबर 2019 दिन शनिवार को सप्तमी तिथि है और इस दिन मां कालरात्रि की पूजा होगी.

मां कालरात्रि को काली मिर्च, कृष्णा तुलसी या काले चने का भोग लगाया जाता है. वैसे नकारात्मक शक्तियों से बचने के लिए आप गुड़ का भोग लगा सकते हैं. इसके आलावा नींबू काटकर भी मां को अर्पित कर सकते हैं.

नवरात्रि के आठवें दिन 6 अक्टूबर 2019 दिन रविवार को अष्टमी तिथि है और इस दिन महागौरी की पूजा होगी.
नवरात्रि के आठवें दिन 6 अक्टूबर 2019 दिन रविवार को अष्टमी तिथि है और इस दिन महागौरी की पूजा होगी.

 मां महागौरी को साबूदाना अर्पित किया जाता है. ये अन्न-धन को देने वाली हैं। वैसे इन्‍हें नारियल भी पसंद है। संतान सुख की प्राप्ति के लिए आप इन्‍हें नारियल का भोग लगाएं.

नवमी यानी 7 अक्टूबर 2019 दिन सोमवार को नवमी तिथि है और इस दिन सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है.
नवमी यानी 7 अक्टूबर 2019 दिन सोमवार को नवमी तिथि है और इस दिन सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है.

मां सिद्धिदात्री को आंवले का भोग लगाया जाता है. कोई भी अनहोनी से बचने के लिए इस दिन मां के भोग में अनार को शामिल किया जाता हैं.

Live Scorecard

न्यूज़ फीचर

मुख्य खबरें

वीडियो