तस्वीरों के जरिए जानिए देश में लश्कर-ए-तैयबा ने कब और कहां दिया सबसे बड़े 5 आतंकी हमलों को अंजाम

Updated On : July 11, 2017 12:16 PM
अमरनाथ यात्रियों में हुए हमलें में 7 लोगों की मौत, 30 से ज्यादा घायल
अमरनाथ यात्रियों में हुए हमलें में 7 लोगों की मौत, 30 से ज्यादा घायल
देश के पवित्र धार्मिक यात्राओं में से एक अरमनारथ यात्रा की सुरक्षा में लगे 40 हजार जवानों के बाद भी 10 जून की रात घात लगाए आतंकियों ने अमरनाथ यात्रियों से भरे बस पर हमला कर दिया। इस हमले में 7 लोगों की मौत हो गई जबकि 30 लोग बुरी तरह घायल हो गए। अमरनाथ यात्रा में इस भारी चूक के बाद 2007 के बाद ये दूसरा बड़ा हमला है और इस हमले को अंजाम देने का आरोप पाकिस्तानी आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा पर लगा है। लश्कर सरगना हाफिज सईद के नेतृत्व में इस आतंकी संगठन ने भारत में कई बड़े हमले किए हैं जिसमें सैकड़ों निर्दोष भारतीयों की जान चली गई है। एक नजर देश में लश्कर के पांच बड़े आतंकी हमलों पर
अमरनाथ यात्रियों पर हमला, 10 जून 2017
अमरनाथ यात्रियों पर हमला, 10 जून 2017
जम्मू कश्मीर के अनंतनाग के बटेंगू में 10 जून की रात को घात लगाए आतंकियों ने अमरनाथ यात्रियों से भरे बस पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई जिसमें 7 तीर्थयात्रियों की मौत हो गई जबकि 30 से ज्यादा बुरी तरह घायल हो गए। मरने वाले सभी यात्री गुजरात से थे और उनमें पांच महिलाएं भी शामिल हैं।
गुजरात के इसी बस पर आतंकियों ने किया हमला
गुजरात के इसी बस पर आतंकियों ने किया हमला
जिस बस पर आतंकियों ने हमला किया वो भी गुजरात के ही ओम ट्रेवेल्स का था। लेकिन ड्राइवर की सूझबूझ से बाकी लोगों की जान बच गई क्योंकि जब आतंकियों ने गोलीबारी की तो उसने तेजी से बस को भगाना शुरू कर दिया।
मुंबई में आतंकी हमला, 26 नवंबर 2008
मुंबई में आतंकी हमला, 26 नवंबर 2008
26 नवंबर 2008 की रात समुद्र के रास्ते मुंबई में घुसे लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकियों ने 72 घंटे तक मुंबई में तांडव मचाया था जिसमें 166 निर्दोष लोग मारे गए थे।
एक मात्र जिंदा आतंकी पकड़ा गया था कसाब
एक मात्र जिंदा आतंकी पकड़ा गया था कसाब
मुंबई हमले के मुख्य आरोपियों में से एक अजमल आमिर कसाब को पूछताछ और लंबी न्यायिक प्रक्रिया के बाद 21 नवंबर 2012 को फांसी दे दी गई थी। कसाब पाकिस्तान का रहने वाला नागरिक था।
दिल्ली में संसद भवन पर हमला, 13 दिसंबर 2001
दिल्ली में संसद भवन पर हमला, 13 दिसंबर 2001
13 दिसंबर 2001 को लश्कर-ए-तैयबा और जैसे मोहम्मद के पाकिस्तान से आए पांच आतंकियों ने संसद भवन पर हमला कर दिया था।
9 सुरक्षाकर्मी हुए थे शहीद
9 सुरक्षाकर्मी हुए थे शहीद
संसद में मौजूद नेताओं को बचाने और आतंकियों को संसद भवन के अंदर घुसने से रोकने में 9 सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए थे।
हमले का मास्टरमाइंड था अफजल गुरु
हमले का मास्टरमाइंड था अफजल गुरु
इस हमले में पाचों आतंकी मार गए थे जबकि हमले का मास्टरमाइंड अफजल गुरु को सुरक्षा एजेंसियों ने हमले के बाद गिरफ्तार किया था। अफजल गुरु को 9 फरवरी 2013 को फांसी की सजा दी गई थी।
दिल्ली के सरोजनी नगर बाजार में धमाका, 2005
दिल्ली के सरोजनी नगर बाजार में धमाका, 2005
साल 2006 में दिल्ली के भीड़ भाड़ वाले बाजार सरोजनी नगर में लश्कर-ऐ-तैयबा के आतंकियों ने दिवाली से ठीक पहले बड़े धमाके को अंजाम दिया था। इस बम ब्लास्ट में 60 लोग मारे गए थे जबकि 500 से ज्यादा लोग घायल हुए थे।
वाराणसी में सीरियल बम ब्लास्ट, 2006
वाराणसी में सीरियल बम ब्लास्ट, 2006
लश्कर-ए-तैयबा आतंकी संगठन ने साल 2006 में वाराणसी में सीरियल बम ब्लास्ट को अंजाम दिया था। इस हमले में 37 लोग मारे गए थे जबकि 90 से ज्यादा लोग बुरी तरह घायल हो गए थे।
लश्कर-ए-तैयबा का सरगना हाफिज सईद
लश्कर-ए-तैयबा का सरगना हाफिज सईद
लश्कर-ए-तैयबा आतंकी संगठन का सरगना हाजिफ सईद है जिसके इशारे पर आतंकी जम्मू-कश्मीर से लेकर दिल्ली तक आतंकी घटनाओं को अंजाम देते हैं।

Live Scorecard

न्यूज़ फीचर

मुख्य खबरें

वीडियो