SEE PICS: 'गदर: एक प्रेम कथा' के साथ बॉलीवुड के 10 मशहूर देशभक्ति डायलॉग्स

Updated On : August 15, 2017 12:05 AM
देशभक्ति फिल्में
देशभक्ति फिल्में
इस बार स्वतंत्रता दिवस पर एक बार फिर से पूरा देश आजादी के जश्न में डूबने जा रहा है। मंगलवार को आजादी के 70 साल पूरे हो जाएंगे। अपने देश में देशभक्ति से भरी कई फिल्मों ने दर्शकों का दिल जीता है, उन्हें भूल पाना हर किसी के लिए नामुमकिन है। आइए हम आपको बॉलीवुड की कुछ ऐसी ही फिल्मों के डायलॉग्स के बारें में बताते हैं।
'गदर: एक प्रेम कथा'
'गदर: एक प्रेम कथा'
साल 2001 में आई सनी देयोल की फिल्म 'गदर: एक प्रेम कथा' का डायलॉग हमारा हिंदुस्तान जिंदाबाद था, जिंदाबाद है और जिंदाबाद रहेगा!
सुनील शेट्टी और सनी देओल
सुनील शेट्टी और सनी देओल
बॉर्डर में कैप्टन भैरो सिंह का किरदार निभाने वाले सुनील शेट्टी का डायलॉग, शायद तुम जानते नहीं, यह मिट्टी शेर भी पैदा करती है, ऐसे शेर जो दूसरों को मिट्टी में मिलाते हैं।
शाहरुख खान
शाहरुख खान
'स्वदेस' फिल्म में मोहन भार्गव का किरदार निभाने वाले शाहरुख खान का डायलॉग्स, मैं नहीं मानता कि हमारा देश दुनिया का सबसे महान देश है, लेकिन यह जरूर मानता हूं कि हममें काबिलियत है, ताकत है, इस देश को महान बनाने की।
अरबाज खान
अरबाज खान
'मां तुझे सलाम' फिल्म में अलबख्श का किरदार निभाने वाले अभिनेता अरबाज खान का डायलॉग्स, दूध मांगोगे खीर देंगे, कश्मीर मांगोगे चीर देंगे।
सनी देओल
सनी देओल
सनी देओल की फिल्म 'द हीरो' में उनका डायलॉग, तू खेलता होगा तूफानों से हमने तो तूफान पाले है, जो डरते हैं, सो मरते हैं, हम मर कर जीने वाले हैं।
रंग दे बसंती
रंग दे बसंती
रंग दे बसंती फिल्म में फ्लाइट लेफ्टिनेंट अजय राठौर का किरदार निभाने वाले आर माधवन का डायलॉग, दूर से कॉमेंट्री देना बहुत आसान होता है। दूसरों को गाली देना और भी आसान। अगर तुम्हें इतनी प्रॉब्लम है तो तुम बदलो न देश को!
शाहरुख खान
शाहरुख खान
चक दे इंडिया फिल्म में कबीर खान का किरदार निभाने वाले शाहरुख खान का डायलॉग, मुझे स्टेट्स के नाम न सुनाई देते हैं और न दिखाई देते हैं... सिर्फ एक मुल्क का नाम सुनाई देता है।
अनिल कपूर
अनिल कपूर
'पुकार' फिल्म में मेजर जयदेव राजवंश का किरदार निभाने वाले अनिल कपूर का डायलॉग, यह वीर शिवाजी, राणा प्रताप जैसे बहादुरों की सरजमीं है, जिसे भगत सिंह, आजाद, अशफाक उल्ला खां ने अपने खून से सींचा है। हमें कोई तोड़ नहीं सकता। हम हिंदुस्तानी
मनोज कुमार
मनोज कुमार
पूरब ​और पश्चिम फिल्म का डायलॉग, अपने यहां कि मिट्टी की खूशबू है ना वो तो अजनबी लोगों की सांसों में भी संस्कार भर देती है।

Live Scorecard

न्यूज़ फीचर

मुख्य खबरें

वीडियो