तस्वीरों में देखें, गुलजार साहब के शब्दों की जादूगरी

Updated On : August 18, 2017 02:49 PM
फाइल फोटो
फाइल फोटो
अद्भुत कल्पना और शब्दों की जादूगरी गुलजार ही कर सकते हैं। जानेमाने शायर गुलजार का असली नाम संपूर्ण सिंह कालरा है और 18 अगस्त को इनका जन्मदिन है। 20 बार फिल्मफेयर तो 5 राष्ट्रीय पुरस्कार अपने नाम कर चुके गुलजार साहब के शब्दों की जादूगरी कुछ ऐसी है:
फाइल फोटो
फाइल फोटो
गुलजार ने 1963 में आई फिल्म बन्दिनी का गाना 'मोरा गोरा अंग लइ ले, मोहे श्याम रंग दई दे' से अपने गीत के सफर की शुरुआत की थी।
फाइल फोटो
फाइल फोटो
गुलजार ने ‘कोई होता जिसको अपना’, ‘मुसाफिर हूं यारों’, ‘इस मोड़ से जाते है', 'हमने देखी है इन आंखों की महकती ख़ुशबू’, और ‘नाम ग़ुम जायेगा’ समेत तमाम यादगार गानें गाए हैं।
फाइल फोटो
फाइल फोटो
1971 में गुलज़ार ने फिल्म 'मेरे अपने' से निर्देशन के क्षेत्र में कदम रखा।
फाइल फोटो
फाइल फोटो
पहली फिल्म से गुलज़ार ने निर्देशक के तौर पर असरदार उपस्थिति दर्ज कराई।
फाइल फोटो
फाइल फोटो
गुलजार 20 बार फिल्मफेयर तो पांच राष्ट्रीय पुरस्कार अपने नाम कर चुके हैं।
फाइल फोटो
फाइल फोटो
गुलजार को 2010 में स्लमडॉग मिलेनेयर के गाने 'जय हो' के लिए ग्रैमी अवार्ड से भी नवाजा जा चुका है।
फाइल फोटो
फाइल फोटो
आपको यह बात नहीं पता होगी कि गुलजार अपने कॉलेज के दिनों से ही सफेद कपड़े पहन रहे हैं।
फाइल फोटो
फाइल फोटो
मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो गुलजार उर्दू में लिखना पसंद करते हैं।

Live Scorecard

न्यूज़ फीचर

मुख्य खबरें

वीडियो