2014 की वो सीटें जहां सबसे कम वोटों के अंतर से तय हुई थी हार-जीत

Updated On : December 22, 2019 01:35 PM
झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए मतगणना कल
झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए मतगणना कल

झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए 23 दिसंबर यानी कल मतगणना होने वाली है. यहां 5 चरणों में कुल 81 विधानसभा सीटों पर मतदान संपन्न हो चुका है. अब सभी की नजरें आने वाले चुनाव परिणाम पर हैं. लेकिन उससे पहले हम आपको उन 5 विधानसभा सीटों के बारे में बताएंगे, जहां 2014 के चुनावों में सबसे कम वोटों से अंतर से हार जीत हुई.

फाइल फोटो
फाइल फोटो

तोरपा विधानसभा सीट

2014 के चुनाव में झारखंड के अंदर जीत-हार का सबसे कम अंतर तोरपा विधानसभा क्षेत्र में था. यहां महज 43 वोटों से हार-जीत तय हुई थी. झारखंड मुक्ति मोर्चा पौलुस सुरीन को 32,003 वोट मिले थे, जबकि भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी कोचे मुंडा के पक्ष में 31,960 वोट आए. जिससे उन्हें 43 वोट से हार का सामना करना पड़ा.

फाइल फोटो
फाइल फोटो

बड़कागांव विधानसभा सीट 

2014 में इस सीट पर कांग्रेस की निर्मला देवी ने आजसु पार्टी के रोशन लाल चौधरी को महज 411 वोटों से हराया था. कांग्रेस उम्मीदवार को 61,817 वोट मिले थे. जबकि रोशन लाल चौधरी के पक्ष में 61,406 वोट पड़े थे.

फाइल फोटो
फाइल फोटो

लोहरदगा विधानसभा सीट

यहां जीत और हार का अंतर सिर्फ 592 वोटों का था. 2014 के चुनाव में आजसु पार्टी के उम्मीदवार कमल किशोर भगत को 56,920 वोट और कांग्रेस प्रत्याशी सुखदेव भगत को 56,328 वोट मिले थे.

फाइल फोटो
फाइल फोटो

राजमहल विधानसभा सीट

2014 के चुनाव की मतगणना के दौरान बीजेपी और झामुमो उम्मीदवारों के बीच कड़ा मुकाबला रहा. आखिर में 702 वोटों से हार-जीत तय हुई. 77,481 वोटों के साथ बीजेपी के अनंत कुमार ओझा ने जीत हासिल की. जबकि 76,779 वोट पाने वाले झामुमो के मो. ताजउद्दीन को हार मिली.

फाइल फोटो
फाइल फोटो

बोरियो विधानसभा सीट

2014 के विधानसभा चुनाव में इस सीट पर भी कांटे की टक्कर रही. यहां सिर्फ 712 वोटों से हार और जीत का अंतर रहा. भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी ताला मरांडी को 57,565 वोट मिले थे. जबकि झामुमो प्रत्याशी लोबिन हेम्बरम के पक्ष में 56,853 वोट पड़े थे.

फाइल फोटो
फाइल फोटो

इस बार चुनाव में त्रिशंकु विधानसभा के आसार 

गौरतलब है कि इस बार पांच चरणों में मतदान संपन्न होने के बाद आए एक्जिट पोल के नतीजों में झारखंड के अंदर एक बार फिर त्रिशंकु विधानसभा के आसार हैं. कुछ एक्जिट पोल के अनुसार, प्रदेश में झामुमो, कांग्रेस और राजद गठबंधन की सरकार बनने की संभावना है. एक्जिट पोल से बीजेपी की नींद भी उड़ गई है. लगभग सभी एक्जिट पोल के नतीजों में बीजेपी राज्य में बहुमत से दूर है.

Live Scorecard

न्यूज़ फीचर

मुख्य खबरें

वीडियो