PICS: ओडिशा में 'फानी' ने मचाया तांडव, पश्चिम बंगाल में भी अलर्ट हुआ जारी

Updated On : May 03, 2019 10:15 PM
(फोटो-ANI)

(फोटो-ANI)

चक्रवाती तूफान फानी ने पड़ोसी राज्य पश्चिम बंगाल में दस्तक देने के पहले 200 किलोमीटर प्रतिघंटे की तेज रफ्तार से आगे बढ़ते हुए ओडिशा के पूर्वी तट जिलों में भारी तबाही मचा दी है. यह ओडिशा के कई जिलों से गुजरेगा. तूफान की वजह से शुक्रवार को ओडिशा में भूस्खलन भी हुआ. इस बीच फानी के कारण ओडिशा और पश्चिम बंगाल के हवाईअड्डों को बंद कर दिया गया है. कई उड़ानें रद्द होने की वजह से यात्रियों को भी परेशानी का सामना करना पड़ा है.
(फोटो-ANI)

(फोटो-ANI)

एक रिपोर्ट के अनुसार, पुरी में कई घरों को क्षतिग्रस्त करने के साथ ही तेज रफ्तार हवा ने हजारों पेड़ों और बिजली के खंभों को उखाड़ फेंका है. नौसेना, वायुसेना और थलसेना हालात पर कड़ी निगरानी रखे हुई हैं.
(फोटो-ANI)

(फोटो-ANI)

चक्रवात ने सामान्य जीवन को पटरी से पूरी तरह से उतार दिया है. इसके साथ ही गुरुवार रात से तटवर्ती जिलों में भारी से बहुत भारी बारिश हो रही है. तूफान ने कई जिलों में सड़क और बिजली व्यवस्था को भारी नुकसान पहुंचाया है. अस्थायी घरों के एस्बेस्टास सीटों को भी नुकसान पहुंचा है.
(फोटो-ANI)

(फोटो-ANI)

अधिकारियों ने बताया कि पुरी में समुद्र की स्थिति अशांत है. तटीय इलाकों से करीब 5 किलोमीटर दूर तक स्थान को खाली करवा दिया गया है. इसके साथ ही चांदीपुर में शांत रहने वाले समुद्र की स्थिति भी उग्र हो गई है.
(फोटो-ANI)

(फोटो-ANI)

ओडिशा में शुक्रवार को चक्रवात फानी को लेकर सावधानी के मद्देनजर बीते 24 घंटों में करीब 11 लाख लोगों को राज्य के कई जिलों से हटाया जा चुका है. अधिकारियों ने इस बात की जानकारी दी. इसमें गंजम और पुरी के जिलों से क्रमश: 3 लाख और 1.3 लाख लोग सुरक्षित स्थान पर भेजे गए. कई लोग हालांकि अपने घरों से बाहर नहीं जाना चाहते थे, जिससे निकासी के दौरान बचावकर्मियों को काफी मशक्कत का सामना करना पड़ा.
(फोटो-ANI)

(फोटो-ANI)

वहीं, पुरी, पारादीप, भुवनेश्वर, गोपालपुर में गुरुवार रात से ही हल्की बारिश हो रही है. 174 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से चल रही तेज हवा ने चिल्का क्षेत्र को नुकसान पहुंचाया है. तकरीबन 10 हजार गांव और 52 शहरी स्थानीय निकायों के चक्रवात से प्रभावित हुए हैं. राज्य सरकार ने लोगों को घर से बाहर न निकलने की सलाह दी है. वहीं एहतियाती उपाय के तौर पर 11 तटीय जिलों में सभी दुकानें, व्यापारिक प्रतिष्ठान, निजी व सरकारी दफ्तर बंद रहे.
(फोटो-ANI)

(फोटो-ANI)

वहीं भयावह चक्रवाती तूफान फानी की वजह से पश्चिम बंगाल में तेज बारिश व हवाएं चल रही हैं. इससे पूर्वी मिदनापुर जिले में 50 घर तबाह हुए हैं. एक अधिकारी ने कहा कि तूफान पश्चिम बंगाल में 90 से 100 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से मध्यरात्रि से शनिवार सुबह तक दस्तक देने की संभावना है. फानी की हवाओं के झोंके के 115 किमी प्रतिघंटा तक पहुंचने की आशंका है.
(फोटो-ANI)

(फोटो-ANI)

किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की छह टीमों को झारग्राम जिले के संकरील, पश्चिम मेदिनीपुर के नारायगढ़ ब्लॉक, पूर्व मेदिनीपुर जिले के रामनगर, दक्षिण 24 परगना के काकद्वीप में व उत्तर 24 परगना के धमाखली व हसनाबाद में तैनात किया गया है.
फानी तूफान

फानी तूफान

तूफान के मद्देनजर उड़ानें रद्द करना, ट्रेनों को रद्द करना व जल परिवहन सेवाओं को रद्द करना जैसे सभी एहतियाती उपाय उठाए गए हैं. राज्य सरकार व कोलकाता नगर निगम ने निचले इलाकों में रह रहे लोगों को सुरक्षित जगहों पर स्थानांतरित करने का फैसला किया है. मदद के लिए एक टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर 1070 साझा की गई है.
Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

मुख्य खबरें

वीडियो