टर्म प्लान क्यों है जरूरी, होल लाइफ प्लान से कैसे है अलग, जानिए पूरा गणित

Dhirendra Kumar  |   Updated On : April 12, 2019 08:16 AM
फाइल फोटो

फाइल फोटो

नई दिल्ली:  

बीते कुछ साल में लोगों में टर्म इंश्योरेंस (Term Insurance) को लेकर काफी जागरुकता देखने को मिल रही है. टर्म इंश्योरेंस में कम प्रीमियम देकर अधिकतम लाइफ कवर हासिल किया जा सकता है. टर्म प्लान एक तरह की जीवन बीमा पॉलिसी ही है. इसमें सीमित अवधि के लिए निश्चित भुगतान दर पर कवरेज मिलता है. इसके अलावा पॉलिसी होल्डर की मौत पर राशि नॉमिनी को मिलती है. किसी भी प्रकार से मौत होने पर परिवार को सुरक्षा का प्रावधान है. हालांकि पॉलिसी खत्म होने के बाद जीवित रहने पर पॉलिसी होल्डर को कोई लाभ नहीं मिलता है.

यह भी पढ़ें: जानिए क्यों है इंश्योरेंस लेना सभी के लिए बेहद जरूरी, 4 बड़ी वजह

टर्म प्लान का प्रीमियम कितना?
टर्म प्लान में प्रीमियम सबसे कम होता है. अवधि खत्म होने पर मेच्योरिटी का लाभ नहीं मिलता है. सिर्फ पॉलिसी होल्डर की मौत के बाद रकम मिलती है. 18 साल की उम्र में टर्म प्लान खरीदना सबसे अच्छा माना जाता है. उम्र बढ़ने के साथ प्रीमियम ज्यादा होता जाता है. इसलिए समय रहते टर्म प्लान खरीदना सबसे अच्छा कदम माना जाता है. आप 10-35 साल के लिए टर्म प्लान ले सकते हैं. हालांकि उम्र के मुताबिक पॉलिसी की सीमा तय होती है.

टर्म प्लान के फायदे Benifit of Term Plan
टर्म प्लान से पॉलिसी होल्डर की मौत के बाद परिवार को आर्थिक सुरक्षा मिलती है. 80C और धारा 10(10D) के तहत टैक्स में छूट का प्रावधान है. गंभीर बीमारी, एक्सीडेंट या विक्लांग्ता पर भी लाभ मिलता है. पॉलिसी अगर जल्द शुरू किए जाने पर प्रीमियम की राशि कम होती है. टर्म प्लान को प्योर लाइफ इंश्योरेंस भी कहा जाता है.

यह भी पढ़ें: सरकार ने शुरू की दुनिया की सबसेे बड़ी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी, 10 करोड़ फैमिली को सालाना 5 लाख का कवर

क्या है होल लाइफ प्लान? what is Whole Life Policies?
ये जीवन बीमा पॉलिसी होती है. होल लाइफ प्लान में पूरे जीवन का कवर मिलता है. अधिकतम 100 साल के लिए पॉलिसी ले सकते हैं. इस पॉलिसी में भी पॉलिसी होल्डर की मौत पर रकम नॉमिनी को मिलती है. वहीं कुछ पॉलिसी में रकम जीवित रहने भी मिलती है. इमरजेंसी में पॉलिसी होल्डर कंपनी से कर्ज ले सकता है. इस पॉलिसी में प्रीमियम के 3 विकल्प मौजूद हैं. पहला विकल्प एकमुश्त प्रीमियम भुगतान का विकल्प है. दूसरे विकल्प में निश्चित अवधि तक प्रीमियम भुगतान और तीसरे विकल्प में पूरी जिंदगी तक प्रीमियम भुगतान का विकल्प शामिल है. निश्चित अवधि के लिए प्रीमियम की राशि ज्यादा है. पूरी जिंदगी के लिए प्रीमियम की राशि थोड़ी कम है.

टर्म प्लान और होल लाइफ प्लान में क्या है अंतर Difference between Term and Whole Life Policies

  • टर्म प्लान में सीमित अवधि तक कवर, होल लाइफ प्लान में पूरी जिंदगी कवर की सुविधा
  • टर्म प्लान में होल्डर की मौत पर परिवार को आर्थिक सुरक्षा, होल लाइफ प्लान में पूरी जिंदगी कवर की सुविधा
  • टर्म प्लान 70-80 साल तक के लिए ले सकते हैं, होल लाइफ प्लान को 100 साल के लिए ले सकते हैं
  • टर्म प्लान की समय सीमा खत्म होने पर लाभ नहीं, निश्चित अवधि तक मैच्योरिटी बेनिफिट मिलेगा
  • टर्म प्लान खत्म होने पर होल्डर जीवित तो कोई राशि नहीं, पूरी जिंदगी के लिए इंश्योरेंस कवर मिलेगा

यह भी पढ़ें: PRADHAN MANTRI JEEVAN JYOTI BIMA YOJANA: सिर्फ 330 रुपये में 2 लाख का इंश्योरेंस, कैसे उठाएं फायदा

टर्म प्लान के नाम पर बिक रहा होल लाइफ प्लान

  • ज्यादा कमीशन की लालच में होल लाइफ प्लान की बिक्री हो रही है
  • बैंक, इंश्योरेंस कंपनियां बीमा प्रॉडेक्ट की मिस सेलिंग कर रही हैं
  • लोगों की कम जानकारी का फायदा उठा रही हैं

बाजार में इस समय टर्म इंश्योरेंस के कई विकल्प मौजूद हैं. आप टर्म इंश्योरेंस ऑनलाइन के साथ-साथ ऑफलाइन तरीके से भी इसे खरीद सकते हैं. आईसीआईसीआई प्रू, एचडीएफसी लाइफ, मैक्स लाइफ, एगॉन लाइफ और पीएनबी मेटलाइफ, भारती एक्सा और इंडिया फर्स्ट आदि विकल्प मार्केट में मौजूद हैं.

यह भी पढ़ें: Investment Mantra: स्टूडेंट्स पॉकेटमनी से करें निवेश, हो जाएंगे बड़े काम

 

First Published: Thursday, April 11, 2019 02:19 PM
Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

RELATED TAG: Term Plan, Insurance, Bima, Policy, Investment, Whole Life Plan, Tax,

डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

अन्य ख़बरें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो