BREAKING NEWS
  • अनोखा अभियान: वोटरों को खाने के बिल पर 50 फीसदी डिस्काउंट देगा यह रेस्टोरेंट- Read More »
  • पीएम नरेंद्र मोदी के बाद अब ममता बनर्जी की बायोपिक 'बाघिनि' का मामला चुनाव आयोग तक पहुंचा- Read More »
  • कांग्रेस प्रत्याशी के कथित पीए ने प्रकाशराज की हाथ मिलाता फोटो जारी कर उन्हें कांग्रेसी बता दिया- Read More »

General Election 2019: उत्तर प्रदेश महागठबंधन में कांग्रेस का निशाना 3 या 30

News State Bureau  | Reported By : DHIRENDRA PUNDIR |   Updated On : January 23, 2019 02:59 PM
Rahul Vs Modi

Rahul Vs Modi

नई दिल्‍ली:  

उत्तर प्रदेश महागठबंधन में कांग्रेस का निशाना तीन या तीस. किसका खेल खराब होगा, राहुल के बाहें चढ़ाने से और किस तरह से आगे की राजनीति को भी प्रभावित करेगी यूपी की कांग्रेसी बिसात. महागठबंधन की तमाम मिठाईंयां अब बंट चुकी है. यूपी में बसपा, सपा और सपा के साथ आरएलडी का गठबंधन अब उनके कार्यकर्ताओं की रगों में उत्साह बन कर दौड़ रहा है. लेकिन कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का उत्साह अलग ही दिख रहा है. कांग्रेस के नेताओं से बात हो रही थी और उनके चेहरे पर एक चमक दिख रही थी.

यह भी पढ़ेंः मां सोनिया गांधी और भाई राहुल का चुनाव प्रबंधन देख चुकीं प्रियंका ने 16 साल की उम्र में दिया था पहला सार्वजनिक भाषण

मैंने पूछा कि गठबंधन में आपको सिर्फ दो सीट है ऐसे में आप कहां है , क्या अकेले लड़ने पर आप साफ नहीं हो जाएंगे. यूपी कांग्रेस से ताल्लुक रखने वाले नेताजी ने जवाब दिया कि ऐसा पहली बार है जब पूरी की पूरी पार्टी एक साथ समझौते के न होने से खुश दिखी है. कांग्रेस में पिछले कुछ समय से उत्तरप्रदेश में गठबंधन की वकालत करने वाले नेताओं की जमात ख़ड़ी हो चुकी थी लेकिन इस बार पहली बार नेता किसी और मूड में दिख रहे और यह कार्यकर्ताओं के मूड़ को दिखा रहा है.

यह भी पढ़ेंः अभी तक पर्दे के पीछे से राजनीति करती थीं, अब मुख्‍य किरदार निभाएंगी प्रियंका गांधी

दरअसल कांग्रेसी कार्यकर्ता को लग रहा है कि इसबार भैय्या जी की लहर चल रही है लिहाजा ऐसे किसी भी गठबंधन को जनता का आशीर्वाद नहीं मिलेगा जिसमें कांग्रेस शामिल न हो. उत्तरप्रदेश में गठबंधन की जीत के दावे कर रहे विपक्षी दलों ने हमेशा की तरह इस बार भी दो सीट यानि राहुल गांधी और सोनिया गांधी के लिए छोड़ दी है और इसको अपनी सदिच्छा बताया है. राजनीति में पानी बहुत तेजी से बहता है और कई बार तो इतनी तेजी से उफनती नदी भी नहीं बहती जिस तरीके से राजनीति का पानी उलट जाता है. ऐसे दर्जनों-सैकड़ों बयान आपको याद आ सकते है जिसमें मुलायम सिंह यादव या और भी कोई नेता ने कहा है कि राहुल और सोनिया की जीत समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार खड़ा न करने के चलते हुए है.

यह भी पढ़ेंः पूर्वांचल में प्रियंका गांधी के सहारे मोदी के साथ-साथ SP-BSP-RLD गठबंधन को चुनौती देगी कांग्रेस

कई बार तो राहुल की बराबरी सपा के जिलाध्यक्ष के बराबर करने से भी नहीं चूके. लेकिन इस बार ऐसा नहीं दिख रहा है. कांग्रेस को साथ नहीं लिया लेकिन कांग्रेस को सर माथे रखने से चूक भी नहीं रहे है. मोदी को हटाने के यूपी को मंत्र के तौर पर इस्तेमाल करने के बावजूद गठबंधन के ताबीज के तौर पर कांग्रेस का इस्तेमाल करने की फिराक में है. गठबंधन के नेता के साथ बातचीत में कुछ दिन पहले तक उनका साफ तौर मानना था कि कांग्रेस गठबंधन में शामिल होने से ज्यादा गठबंधन के बाहर रहने पर बीजेपी का ज्यादा नुकसान कर सकती है और गठबंधन को फायदा पहुंचा सकती है. बीजेपी को जिस तरह से ओबीसी और दलित वोटर्स के एक बड़े हिस्से में बंटवारे से उम्मीद जगती है उसी तरह से ये बात गठबंधन के नेता भी समझते है कि बीजेपी को एक मुश्त सवर्ण वोट उनके गठबंधन को काफी नुकसान पहुंचा सकते है और पहले कई बार इस्तेमाल की गई सोशल इंजीनियरिंग की रणनीति से उलट इस बार पूरी तरह से ओबीसी और दलितों के साथ बस मुस्लिम वोटर्स को जोड़ने की रणनीति पर अमल कर रहे हैं.

यह भी पढ़ेंः प्रियंका गांधी को नई जिम्‍मेदारी देने के बाद राहुल गांधी बोले- यूपी में फ्रंटफुट पर खेलेंगे

गठबंधन के रणनीतिकार ये भी मानते है कि इस बार गठबंधन को बेहद कम संख्या में सवर्णों के वोट हासिल होंगे और अगड़े पूरी तरह से बीजेपी के पीछे गोलबंद हो सकते है ( ये बात गठबंधन के तहत किसी सीट पर सर्वण जाति के उम्मीदवार के अलावा बाकि सीटों जातिगत वोटिंग पैटर्न के आधार पर है) ऐसे में कांग्रेस अगड़ों के वोट में हिस्सेदारी करने में कामयाबी होती है तो ये बीजेपी के लिए बड़ी चोट होगी क्योंकि बीजेपी के इस ठोस समर्थन में एक छोटी सी भी दरार हो तो उससे महागठबंधन को काफी मजबूती मिल सकती है. लेकिन अगर ये दरार खुद बीजेपी विरोधी दलों के मतदाताओं में दिखाई दी तो इसका फायदा बीजेपी को मिल सकता है.

यह भी पढ़ेंः बहुत ही जल्द आने वाले हैं सवर्णों के अच्छे दिन, सरकारी संस्थानों में मोदी सरकार बढ़ाने जा रही है 3 लाख सीट

अब कांग्रेस का जो रूख दिख रहा है उसमें वो तीस सीटों पर काफी मजबूती से लड़ने की बात कर रही है और बाकि सीटों पर वह गठबंधन के साथ एक परोक्ष साझेदारी कर आसान उम्मीदवार उतारने की कवायद में है. लेकिन क्या ये रणनीति काम कर सकती है कि पूरे प्रदेश में आग उगलते हुए भाषणों के बीच मतदाताओं में इतना संयम और समझदारी दिखाई दे कि वो ऊपर और नीचे दोनों की परतों से सच निकाल कर बीजेपी को हराने वाले गठबंधन या कांग्रेस के उम्मीदवार को वोट करे. इतना आसान नहीं है लेकिन इससे नीचे कांग्रेस भी लड़ने को तैयार नहीं है क्योंकि इस वक्त देश में जिस मोदी विरोधी लहर को कांग्रेस के नेता सूंघ रहे है उसमें उत्तरप्रदेश की खुशबू मिलना जरूरी है , 2009 में यूपीए को वापस सत्ता में लाने में यूपी के 21 कांग्रेसी सांसदों की एक बड़ी भूमिका थी ऐसे में बड़े दिल के लिए कांग्रेस उत्तरप्रदेश को विपक्षियों के लिए छोड़ दे ये आसान नहीं दिखता.

यह भी पढ़ेंः प्रियंका गांधी को मिली अहम जिम्‍मेदारी तो जानें उनके पति रॉबर्ट वाड्रा ने क्‍या कहा

2004 में भी कांग्रेस को 9 सीट हासिल हुई थी ऐसे में महज दो सीटों पर लड़ना और बाकि सीटों को बड़े हित में दान करना संभव नहीं दिखता है. इस दरियादिली के लिए कांग्रेस को दिल्ली की सत्ता हासिल होने का पूरा भरोसा होना और साथी गठबंधन दलों की सरकार के प्रति सदाशयदता का भी भरोसा होना चाहिे. लेकिन कांग्रेस की दिक्कत है कि दोनों दलों से ऐसे भरोसे का कोई आधार उसके पास नहीं है. उत्तर प्रदेश देश की सत्ता का किला है भले गठबंधन के दल सरकार न बना सके लेकिन सरकार की मजबूती और कमजोरी का निर्धारण तो कर ही देते है. ऐसे में लगता नहीं है कि कांग्रेस किसी दिखावटी लड़ाई की तैयारी में है. कांग्रेस इस बार पूरी ताकत के साथ लड़ने के कोशिश करेंगी अगर कोई समझौता साफ तौर पर नहीं दिखता.

यह भी पढ़ेंः आम चुनाव से पहले कांग्रेस ने हेलीकॉप्‍टरों का रोना रोया, आनंद शर्मा बोले- BJP ने कर ली सभी चॉपरों की बुकिंग

कांग्रेसी कार्यकर्ता भी अब राहुल को प्रधानमंत्री पद के सबसे उपयुक्त उम्मीदवार के तौर पर देखता है ऐसे में यूपी का वॉक ओवर उसके मनोबल को तोड़ देगा और कार्यकर्ताओं का यही दबाव राहुल तो आगे लड़ने के लिए मजबूर कर देगा. लेकिन राजनीति में सामने दिख रही चींजे ही आखिरी स्वरूप ग्रहण नहीं करती है बल्कि कुछ न कुछ अनहोनी उसका रास्ता बनाती है . ऐसे में अभी यूपी में गठबंधन की खुशियों के बीच कांग्रेस की फांस दिख रही है हांलाकि कुएं पर बिछे पलंग पर एक खूबसूरत सी चादर थके हुए राहगीरों को बहुत शिद्दत से खींचती है.

(डिस्क्लेमर: इस लेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के अपने विचार हैं. इस लेख में दी गई किसी भी जानकारी की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति NewsState और News Nation उत्तरदायी नहीं है. इस लेख में सभी जानकारी जैसे थी वैसी ही दी गई हैं. इस लेख में दी गई कोई भी जानकारी अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार NewsState और News Nation के नहीं हैं, तथा NewsState और News Nation उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.)

First Published: Wednesday, January 23, 2019 02:57 PM

RELATED TAG: Loksabha Election 2019, General Election 2019, Priyanka Gandhi, Priyanka Vadra, Up, Uttar Pradesh, Congress General Secretary,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटरऔरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Newsstate Whatsapp

न्यूज़ फीचर

वीडियो

फोटो