BREAKING NEWS
  • रोहिंग्या शरणार्थियों की वापसी में रोड़ा अटका रहे कुछ एनजीओ, जानें कैसे- Read More »
  • PAK को भारत के साथ कारोबार बंद करना पड़ा भारी, अब इन चीजों के लिए चुकाने पड़ेंगे 35% ज्यादा दाम- Read More »
  • मुंबई के होटल ने 2 उबले अंडों के लिए वसूले 1,700 रुपये, जानिए क्या थी खासियत- Read More »

सावन के महीने में बाबा भोलेनाथ का चमत्कार, खुदाई में निकला नंदी बैल

News State Bureau  |   Updated On : July 21, 2019 10:03 AM
16वीं-17वीं सदी की हो सकती है खुदाई में मिली मूर्ति.

16वीं-17वीं सदी की हो सकती है खुदाई में मिली मूर्ति.

ख़ास बातें

  •  मैसूर की एक झील से खुदाई में निकली नंदी बैल की दो मूर्तियां.
  •  16वीं-17वीं सदी की हो सकती हैं नंदी बैल की मूर्तियां.
  •  सावन के महीने में भक्त मान रहे हैं भोलेनाथ का चमत्कार.

नई दिल्ली.:  

इन दिनों भारत वर्ष के हिंदू सावन मना रहे हैं. इस पूरे माह कांवड़ यात्रा से लेकर बाबा भोलेनाथ की ही पूजा-अर्चना होती है. ऐसा लगता है कि भगवान शिव भी इस सावन में अपने भक्तों पर मेहरबान हो गए हैं. तभी तो अपनी सवारी नंदी बैल के रूप में भक्तों को आशीर्वाद देने धरती पर आ पहुंचे. कर्नाटक के मैसूर जिले में खुदाई में निकली सैकड़ों साल पुरानी नंदी बैल की मूर्ति भक्तों की श्रद्धा का केंद्र बन गई है. प्राचीन बैल की मूर्ति की बात सुनकर पुरातत्व विभाग ने भी साइट पर अपना घेरा कस दिया है.

यह भी पढ़ेंः यहां पर महिलाएं कर सकती हैं पुरुषों का रेप, घूंघट में रहते हैं मर्द, जानिए क्या है वजह

सूखी झील से निकली मूर्ति
जानकारी के मुताबिक मैसूर में एक सूखी झील की खुदाई चल रही थी. अचानक ही मजदूरों की कुदाल किसी बड़े पत्थर से टकरा गई, जानें क्यो सोच कर मजदूर वहां की खुदाई और सावधानी से करने लगे. इस तरह उन्हें नंदी की मूर्ति के तौर पर पहले सिर दिखाई दिया. और सावधानी से खुदाई करने पर नंदी बैल की विशालकाय प्रतिमा उनके सामने आ गई. भगवान शिव की सवारी माने जाने वाले नंदी बैल की सैकड़ों साल पुरानी प्रतिमा की खबर और फोटो देखते ही देखते वायरल हो गई.

यह भी पढ़ेंः प्यार नहीं प्रेमी में टि्वस्ट, लड़के के बजाय 'भूत' से शादी कर मां बनने की इच्छा

गांव के बड़े-बुजुर्ग से सुने थे नंदी बैल के चर्चे
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मैसूर से करीब 20 किलोमीटर दूर अरासिनाकेरे में एक सूखी हुई झील की खुदाई में नंदी बैल की एक नहीं बल्कि दो मूर्ति पाई गई हैं. अरासिनाकेरे के बुजुर्ग झील में नंदी की मूर्ति होने की बात किया करते थे और जब झील में पानी कम होता था तो नंदी का सिर नजर आता था. बुजुर्गों की इन्हीं बातों पर भरोसा कर इस बार झील सूखने के बाद स्थानीय लोगों ने खुदाई शुरू कर दी ताकि सच्चाई का पता लगाया जा सके. स्थानीय रिपोर्ट के मुताबिक नंदी की इस प्रतिमा को ढूंढ़ने के लिए गांव वालों को तीन से चार दिनों तक लगातार खुदाई करनी पड़ी, खुदाई में जेसीबी मशीन की भी मदद ली गई.

यह भी पढ़ेंः कहां ऑस्ट्रेलिया..कहां ब्रिटेन... बच्चे को याद है राजकुमारी डायना से जुड़ी एक-एक बात, पुनर्जन्म है क्या!

16वीं-17वीं सदी की हो सकती हैं मूर्ति
अब नंदी बैल की इन मूर्तियों को बाहर निकाल लिया गया है. इस खबर के सोशल मीडिया पर वायरल होते ही पुरातत्व विभाग के अधिकारी भी मौके पर जांच करने पहुंचे. नंदी की प्राचीन प्रतिमाओं को लेकर दावा किया जा रहा है कि ये 16वीं या 17वीं शताब्दी की हो सकती हैं. लोग इसे सावन महीने में भगवान शिव से भी जोड़कर देख रहे हैं. यहां भक्तों का तांता लग गया है और पुरातत्व विभाग की देखरेख में नंदी बैल की मूर्तियों को संरक्षित किया जा रहा है.

First Published: Sunday, July 21, 2019 10:03:01 AM
Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

RELATED TAG: Sawan Month, Ancient, Pair Of Nandi, Dry Lake, Karnataka,

डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Live Scorecard

न्यूज़ फीचर

वीडियो