BREAKING NEWS
  • रोहिंग्या शरणार्थियों की वापसी में रोड़ा अटका रहे कुछ एनजीओ, जानें कैसे- Read More »
  • PAK को भारत के साथ कारोबार बंद करना पड़ा भारी, अब इन चीजों के लिए चुकाने पड़ेंगे 35% ज्यादा दाम- Read More »
  • मुंबई के होटल ने 2 उबले अंडों के लिए वसूले 1,700 रुपये, जानिए क्या थी खासियत- Read More »

कर्ज के बोझ में दबे ऑटो ड्राइवर ने सवारी को लौटाया 10 लाख रुपयों से भरा बैग, फिर कही ऐसी बात.. जीत लिया देश का दिल

Sunil Chaurasia  |   Updated On : February 11, 2019 10:23 AM
रामुलू ने बताया कि वह ऑटो चलाकर रोजाना करीब 500 रुपये तक कमा लेते हैं.

रामुलू ने बताया कि वह ऑटो चलाकर रोजाना करीब 500 रुपये तक कमा लेते हैं.

हैदराबाद:  

लोग बेशक कहते हैं कि हम घोर कलयुग में जी रहे हैं, लेकिन यकीन मानिए इस घोर कलयुग में ईमानदारी और इंसानियत अभी भी जिंदा है. जी हां, ईमानदारी का एक बेहद ही जबरदस्त मामला सामने आया है. तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद से सामने आए इस मामले ने देशभर में गजब वाहवाही बटोरी और बटोर भी रहा है. दरअसल करीब चार दिन पहले हैदराबाद में ऑटो चलाने वाले जे.रामुलू (30) के ऑटो में दो भाई बैठे थे. दोनों घर बनवाने के सिलसिले में 10 लाख रुपये लेकर जा रहे थे. उन्हें गचिबावली उतरना था, लेकिन ऑटो से उतरते वक्त वे अपना 10 लाख रुपये से भरा बैग लेना भूल गए. के.प्रसाद और के.किशोर को गचिबावली छोड़ने के बाद रामुलू वहां से निकल गए. हैदराबाद के जुबली बस अड्डे पहुंचने पर रामुलू की नजर पीछे सीट पर पड़े बैग पर पड़ी. रामुलू ने जब बैग खोलकर देखा तो उनके पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई. रामुलू ने बताया कि रुपयों से भरा बैग देखकर वह काफी डर गए थे.

ये भी पढ़ें- सऊदी अरब में 6 साल के लड़के का 'सिर कलम', वजह जानने के बाद पैरों तले खिसक जाएगी जमीन

रामुलू को अंदाजा लग गया कि वह बैग उन्हीं दो सवारियों का होगा, जिन्हें उन्होंने गचिबावली में ड्रॉप किया था. रामुलू ने तुरंत अपना ऑटो घुमाया और सीधे गचिबावली जा पहुंचे. वहां पहुंचते ही उन्होंने देखा कि दोनों सवारी पुलिस के साथ वहां खड़े थे. रामुलू ने सवारियों के पास अपना ऑटो लेकर पहुंचे और उन्हें उनके पैसे लौटा दिए. के.प्रसाद और के.किशोर ने बताया कि वे सिद्दीपेट में किराने की दुकान चलाते हैं. कुछ समय पहले उनके पैर में गंभीर चोट आ गई थी. ऑटो से उतरते वक्त उनके पैर में काफी तेज दर्द उठा, जिसकी वजह से उनका ध्यान पैसों से हट गया था. यही वजह थी कि वे अपना पैसों से भरा बैग लेना भूल गए थे.

ये भी पढ़ें- Video: सड़क हादसे में मर चुके पिल्ले को जिंदा करने की कोशिश करती रही मां, लाश छोड़ने के लिए भी नहीं थी तैयार

वहीं दूसरी ओर रामुलू ने बताया कि वह ऑटो चलाकर रोजाना करीब 500 रुपये तक कमा लेते हैं. रामुलू की पत्नी मजदूरी का काम करती हैं. रामुलू ने बताया कि उन्होंने ऑटो खरीदने के लिए 1.5 लाख रुपये का लोन लिया था, जिसे चुकाना अभी भी बाकी है. रामुलू ने कहा कि वे इन 10 लाख रुपयों से दो साल तक मौज की जिंदगी काट सकते थे, लेकिन वे ऐसी जिंदगी नहीं जीना चाहते थे. रामुलू ने कर्ज के बोझ तले दबे होने के बावजूद सवारी के 10 लाख रुपये लौटाकर ईमानदारी की बेमिसाल मिसाल कायम कर दी है. के.प्रसाद और के.किशोर ने रामुलू की ईमानदारी से खुश होकर उन्हें 10 हजार रुपये ईनाम के तौर पर दे दिए.

First Published: Monday, February 11, 2019 10:21:10 AM
Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

RELATED TAG: Auto Driver, Ramulu, Honest Auto Driver, Hyderabad, Telangana, Honesty Stories,

डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Live Scorecard

न्यूज़ फीचर

वीडियो