BREAKING NEWS
  • मुश्ताक अहमद बोले- भारत-पाकिस्तान के बीच संबंधों को सुधारने के लिए करना चाहिए ये काम- Read More »
  • अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला मुसलमानों को स्वीकार करना चाहिए: VHP- Read More »
  • Today History: आज ही के दिन WHO ने एशिया के चेचक मुक्त होने की घोषणा की थी, जानें आज का इतिहास- Read More »

Father's Day 2019: जानिए जून के तीसरे रविवार को ही क्यों मनाया जाता है फादर्स डे, कहां से हुई इसकी शुरूआत

News State Bureau  |   Updated On : June 16, 2019 05:59:01 AM
Happy Father's Day

Happy Father's Day (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  सबसे पहले फादर्स डे पश्चिम वर्जीनिया के फेयरमोंट शहर में 5 जुलाई 1908 में मनाया गया था.
  •  पिछले दस सालों में फादर्स डे को मनाने का trend कुछ ज्यादा ही बढ़ गया है.
  •   1972 में राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने पहली बार इस दिन को सरकारी अवकाश के रूप में घोषित किया.

नई दिल्ली:  

Father's Day 2019: इस वर्ष 16 जून को फादर्स डे मनाया जाएगा. हर किसी की जिंदगी में पिता का सबसे ज्यादा योगदान होता है. इस वर्ष 16 जून को फादर्स डे मनाया जाएगा. फादर्स डे ऐसी ही योगदन के लिए अपने पिता को धन्यवाद कहने का दिन होता है. लोग जिस तरह से मदर्स डे मनाकर लोग अपनी मां का दिन खास बना देते हैं उसी तरह फादर्स डे पर भी कुछ नया और स्पेशल करके अपने पिता का दिन भी शानदार बना सकते हैं. खासकर एक बेटी के लिए पिता उसका हीरो होता है और पहला शख्स होता है जिसे वह प्यार करती है. फादर्स डे का इतिहास तो सैकड़ों साल पुराना है. आज हम इस आर्टिकल में आपको फादर्स डे की हिस्ट्री के बारे में ही बताने जा रहे है. 

कहां से हुई थी इस दिन को सेलिब्रेट करने की शुरुआत
बता दें कि सबसे पहले फादर्स डे पश्चिम वर्जीनिया के फेयरमोंट शहर में 5 जुलाई 1908 में मनाया गया था. इसके पीछे की कहानी ये है कि 6 दिसंबर 1907 में मोनोगाह में कोयले की खान में एक भयंकर दुर्घटना हुई थी जिसमें कुल 362 लोगों की जान चली गई थी. मृतक पिताओं के सम्मान में श्रृद्धांजली देने के रुप में गोल्डन क्लेटन ने विशेष दिवस का आयोजन किया. इसके बाद से ही इस दिन को मनाने की शुरूआत हो गई.

यह भी पढ़ें: साउथ इंडिया घूमने का बना है Plan तो आज ही बुक करें IRCTC का ये Tour Package
पिछले दस सालों में बढ़ा है trend
पिछले दस सालों में फादर्स डे को मनाने का trend कुछ ज्यादा ही बढ़ गया है. वैसे तो भारत में आज भी शायद ही ऐसे परिवार हैं जो इसे सेलिब्रेट नहीं करते होंगे. फादर्स डे और मदर्स डे जैसे मौकों पर बाजार भी पहले से तैयार हो चुका होता है. मार्केट में गिफ्ट्स, ग्रीटिंग कार्ड्स और अन्य सामानों की दुकानों में स्टॉक पहले से ही रख लिया जाता है. साथ ही साथ रेस्टोरेंट वगैरह भी इस दिन कुछ खास करने की कोशिश करते हैं ताकि वो अपने कस्टमर्स को कुछ नया परोस कर उनके दिन को खास बना सकें.

यह भी पढ़ें: इन घरेलू नुस्खों को अपनाकर 10 दिन में दूर करें आंखों के डार्क सर्कल

मदर्स डे से आई है इंस्पिरेशन
बता दें कि आधिकारिक रूप से पहला फादर्स डे 19 जून 1909 में अमेरिका के वाशिंगटन के स्पोकेन शहर में सोनोरा डॉड युवक ने अपने पिता की याद में मनाया था. इसी से प्रेरणा लेते हुए 1909 में मदर्स डे की शुरूआत हुई थी. इसके बाद अमेरिकी राष्ट्रपति वुडरो विल्सन ने आधिकारिक रुप से इस दिन को मनाए जाने के प्रस्ताव को स्वीकृति दी. 1924 में कहीं जाकर इस दिन को राष्ट्रीय आयोजन की पहचान मिली और अमेरिकी राष्ट्रपति लिंडन जॉनसन ने 1966 में पहली बार इसे जून के तीसरे रविवार को मनाए जाने का फैसला लिया. अंतत: 1972 में राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने पहली बार इस दिन को सरकारी अवकाश के रूप में घोषित किया.

First Published: Jun 09, 2019 02:54:00 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो