देर रात खाना खाने की आदत अभी बदल डालें वर्ना...

न्‍यूज स्‍टेट ब्‍यूरो  |   Updated On : November 18, 2019 01:50:33 PM
देर रात डिनर से दिल की बीमारी का खतरा

देर रात डिनर से दिल की बीमारी का खतरा (Photo Credit : studentone )

नई दिल्‍ली:  

आज देर रात डिनर एक सामान्‍य बात है. बदली हुई लाइफ स्‍टाइल की वजह से लोग देर रात खाना खाते हैं. जो लोग ऐसा करते हैं उन्‍हें अब सावधान हो जाना चाहिए. ऐसे लोग हाई ब्‍लड प्रेशर, हाई बोन मैरो डेनसिटी और ब्‍लड शुगर पर कंट्रोल नहीं कर पाते और हो जाते हैं कई गंभीर रोगों के शिकार. वहीं जो महिलाएं शाम को छह बजे के बाद रात का खाना खाती हैं, उनमें दिल की बीमारियां होने का खतरा ज्यादा होता है.

इससे पहले कई शोधों में यह साबित हो चुका है कि जो पुरुष आधी रात को चिप्स खाते हैं, उनमें दिल की बीमारियों का खतरा 55 फीसदी ज्यादा होता है. देर से खाने से स्ट्रेस हार्मोन का स्राव होता है जबकि उस समय शरीर को आराम की मुद्रा में चले जाना चाहिए.

यह भी पढ़ेंः  रोचक तथ्‍यः जब राज्यसभा के पीठासीन अधिकारी ने ही दिया था सत्तापक्ष के विरोध में वोट

यह जानकारी सामने आई है कोलंबिया यूनिवर्सिटी में हुए एक शोध में. इस शोध के तहत 112 महिलाओं पर अध्ययन किया गया. इस रिसर्च में जो रिजल्‍ट सामने आए वो चौंकाने वाले थे. रिसर्च के मुताबिक शाम को छह बजे के बाद खाना खाने से दिल का स्वास्थ्य ठीक नहीं रहता.

यह भी पढ़ेंः  कहीं आपका बच्‍चा भी बार-बार कहता है भूख लगी है, हो सकता है डायबिटीज (Diabetes)

जिन महिलाओं ने इस समय के बाद ज्यादा कैलोरी का सेवन किया उनका रक्तचाप ज्यादा था. इन महिलाओं का वजन ज्यादा था और रक्त शर्करा को ठीक तरह से नियंत्रित नहीं कर पा रही थी. यह दोनों ही दिल की बीमारियों का सबसे बड़ा कारण हैं. दिल के स्वास्थ्य को मापने के लिए अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन लाइफ ने सात कारकों का इस्तेमाल किया.

यह भी पढ़ेंः दुनिया में सबसे ज्‍यादा यहां के लोग खाते हैं टमाटर, 400 रुपये प्रति किलो के करीब पहुंचा दाम

इनमें धूम्रपान नहीं करना, सक्रिय रहना, अच्छा आहार लेना, दुबले रहना, कम कोलेस्ट्रोल, कम रक्तचाप और रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित रखना आदि शामिल हैं.

यह भी पढ़ेंः 20 लाख लोगों के लिए नरेंद्र मोदी सरकार दी बड़ी खुशखबरी, क्‍या इनमें हैं आप

जिन लोगों पर शोध किया गया उनकी औसतन उम्र 33 साल थी. शोध की शुरुआत में उन्‍हें हेल्थ स्कोर दिया गया. इसके साथ ही उन्‍हें एक फूड डायरी में रोज दर्ज करना पड़ता थ कि उन्‍होंने क्या खाया, कितना खाया और कब खाया. ऐसा उन्होंने अध्ययन शुरू होने के एक हफ्ते के अंदर और शोध खत्म होने से एक हफ्ते पहले किया.

First Published: Nov 18, 2019 01:48:11 PM

RELATED TAG: Dinner Time,

Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो