Valentine Day 2019: वैलेंटाइन डे आज, जानिए कब शुरू हुआ प्यार का त्योहार
Thursday, 14 February 2019 12:08 AM

नई दिल्ली:  

आज पूरी दुनिया प्‍यार का पर्व बन चुके वैलेंटाइन डे को सेलिब्रेट कर रहा है. लोग अपने चाहने वाले को गुलाब, तोहफे, चॉकलेट और अन्य चीजों को देकर इस दिन को खास बना रहे है. सभी अपने साथी के सामने इस दिन दिल खोलकर अपने प्रेम का इजहार करते है. भारत में आम तौर पर वैलेंटाइन डे होटलों, क्लबों, पार्कों, मॉल, बाजारों, रेस्टोरेन्टों, पिकनिक स्थलों, ऐतिहासिक स्मारकों, प्रसिद्ध बाजार और अन्य सार्वजनिक स्थलों पर मनाया जाता है. हाल के वर्षों में सोशल मीडिया और परस्पर संपर्क के माध्यमों के विस्तार के चलते इस दिन की लोकप्रियता दुनियाभर में बढ़ गई है और इसे मनाने वालों की तादाद में भी भारी इजाफा हुआ है.

14 फरवरी का दिन इतिहास में प्रेम के प्रतीक के रूप में दर्ज है. लेकिन क्या आप जानते है कि हैं 14 फरवरी को ही वैलेंटाइन क्यों मनाया जाता है और ये दिन क्यों प्रेम के नाम हुआ आखिर इस दिन के पीछे का इतिहास क्‍या है? तो आइए जानते है वैलेंटाइन डे की कहानी.

रिपोर्ट्स के अनुसार 'ऑरिया ऑफ जैकोबस डी वॉराजिन' नाम की पुस्तक में वैलेंटाइन डे का जिक्र किया गया है. यह डे एक रोम के एक पादरी संत वैलेंटाइन के नाम पर मनाया जाता है.

रोम में तीसरी शताब्दी में सम्राट क्लॉडियस का शासन था, जिनके अनुसार एकल पुरुष विवाहित पुरुषों की तुलना में ज्‍यादा अच्‍छे सैनिक बन सकते हैं. उन्हें यह भी लगता था कि रोम के लोग अपनी पत्नी और परिवारों के साथ मजबूत लगाव होने की वजह से सेना में भर्ती नहीं हो रहे हैं. इस समस्या से निजात पाने के लिए क्लाउडियस ने रोम में शादी और सगाई पर रोक लगा दी.

पादरी वैलेंटाइन ने सम्राट के क्रूर आदेश का विरोध किया और उन्होंने इसका विरोध करते हुए कई अधिकारियों और सैनिकों की शादियां भी कराई. इसके बाद जब सम्राट क्लॉडियस को इस बात का पता चला तब उन्होंने पादरी वैलेंटाइन को 14 फरवरी के दिन फांसी पर चढ़ा दिया गया. इसके बाद से ही उनकी याद में वैलेंटाइन डे को 'प्यार के दिन' के रूप में मनाया जाने लगा.

और पढ़ें : Happy Promise Day 2019: 'प्रॉमिस डे' पर इन शायरियों से करें अपने पार्टनर को खुश

इसके अलावा यह भी कहा जाता है कि सेंट वेलेंटाइन ने अपनी मौत के समय जेलर की अंधी बेटी जैकोबस को अपनी आंखे दान की थी. सैंट ने जेकोबस को एक पत्र भी लिखा, जिसके आखिर में उन्होंने लिखा था 'तुम्हारा वैलेंटाइन'.

बता दें कि जब 14 फरवरी के दिन लोग वैलेंटाइन डे मना कर अपने प्यार का इजहार करते हैं तो वहीं दूसरी तरफ इसे कई जगह संस्कृति के खिलाफ मानते हुए इसको मनाने पर पाबंदी लगा दी जाती है.

और पढ़ें : Valentine Day Special: 14 के खौफ में जी रहे कई हजार युवा, इस दिन नहीं बजती कोई शहनाई, न हुई किसी बेटी की विदाई

विभिन्न संगठनों द्वारा वैलेंटाइन डे को पाश्चात्य संस्कृति का प्रतीक मानते हुए इस दिन को मना रहे युवक/युवतियों के साथ अभद्रता/ग्रीटिंग कार्डस को जलाना/ग्रीटिंग कार्डस की दुकानों में तोड़फोड़/वैलेन्टाइन डे प्रतीकात्मक पुतला दहन व जुलूस निकाल कर इसका विरोध किया जाता रहा है.

इस अवसर पर कुछ युवकों एवं असमाजिक तत्वों द्वारा अभद्र व्यवहार एवं मारपीट को लेकर विवाद होने की सम्भावना बनी रहती है. वहीं नवयुवक मोटर साइकिल/स्कूटर/चार पहिया वाहनों में बैठ कर तेज गति से सड़कों पर भ्रमण करते हैं.

2018 News Nation Network Private Limited