मध्य प्रदेश : आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज को भारत रत्न प्रदान करे केंद्र सरकार : धर्मस्व मंत्री पीसी शर्मा
Thursday, 14 February 2019 02:04 PM

नई दिल्ली:  

मध्य प्रदेश के धर्मस्व एवं धार्मिक न्यास मंत्री पीसी शर्मा ने आज आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज के 50वें दीक्षा दिवस के अवसर पर आयोजित कीर्ति स्तंभ और विद्यासागर उपवन लोकार्पण समारोह में कहा कि आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज को केंद्र सरकार भारत रत्न से सम्मानित करे. धर्मस्व मंत्री पीसी शर्मा ने आज राजा भोज सेतु पर आयोजित कीर्ति स्तंभ और विद्यासागर उपवन के लोकार्पण समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि आचार्य श्री को केंद्र सरकार तत्काल भारत रत्न प्रदान करे. केंद्र सरकार इसकी घोषणा नहीं करती है तो हम केंद्र में आने के बाद आचार्य श्री को भारत रत्न से सम्मानित करेंगे. उन्होंने कहा कि सरकार धार्मिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए निरंतर कार्य कर रही है. श्री शर्मा ने कहा कि प्रत्येक ग्राम पंचायत में गौशालाओं का निर्माण किया जाएगा.

यह भी पढ़ें- फिल्म स्टार शर्मिला टैगोर, सैफ अली खान, सबा अली और सोहा अली को नोटिस, नवाब परिवार ने छुपाई जमीनों की जानकारी

नगरीय निकाय भी गौशालाओं का निर्माण करते है तो सरकार सभी आवश्यक मदद मुहैया कराएगी. शर्मा ने अपने उदबोधन में कहा कि सरकार ने मंदिरों के पुजारियों के मानदेय में 3 गुना वृद्धि की है . सरकार धर्म के प्रति पूरी तरह समर्पित है. पी सी शर्मा ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि जैन मुनियों का आशीर्वाद मिल जाए तो उसे दुनिया में आगे बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता. सरकार के द्वारा धर्मों के धार्मिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए निरंतर कार्य किया जाएगा .

यह भी पढ़ें- छत्तीसगढ़ : डॉ. रमन सिंह ने कहा, ऐसा मध्य प्रदेश-छत्तीसगढ़ के संसदीय इतिहास में पहली बार हुआ

लोकार्पण समारोह में आचार्य श्री विद्यासागर जी के दीक्षा के 50 वर्ष पूर्ण होने पर कीर्ति स्तंभ और विद्यासागर उपवन का लोकार्पण किया गया. संयम कीर्ति स्तंभ ना केवल जैन समाज को बल्कि सभी समुदायों को संयम के लिए प्रेरित करता रहेगा.

यह भी पढ़ें- मध्य प्रदेश : बीजेपी के पूर्व मंत्री लालसिंह आर्य के खिलाफ अब भोपाल कोर्ट में चलेगा हत्या का मामला

आचार्य श्री विद्यासागर जी ने देश मे लड़कियों के गायब होने पर चिंता जताई. उन्होंने कहा कि देश में अब तक 18 से 25 वर्ष आयु वर्ग की 182000 लड़कियां गायब हो चुकी है. उन्होंने कहा कि प्रशासनिक अधिकारियों को 25 वर्ष की उम्र में जिले की कमान सौंपी जाती है , निर्वाचन में सांसद और विधायक बनने के लिए 25 वर्ष उम्र निर्धारित की गई है. विवाह की उम्र भी 25 वर्ष निर्धारित की जाए ताकि इन लड़कियों को गायब होने से रोका जा सके और कन्याओं का बचाव हो सके.

2019 News Nation Network Private Limited