कश्‍मीर में हालात सुधरें तो चले शीशों के डिब्‍बे वाली ट्रेन, महीनों से खड़ी है बडगाम स्‍टेशन पर ट्रेन

इन कोचों को परिचालन में शामिल करने के लिए घाटी में हालात सामान्य होने का इंतजार किया जा रहा है। 40 सीटों वाले विस्टाडोम यानी शीशे के गुंबद वाले कोच की घोषणा जून में ही रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने की थी।

  |   Updated On : August 18, 2018 11:22 AM
प्रतीकात्मक फोटो

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली:  

शीशे के गुंबद वाले रेल कोच महीनों से कश्मीर के बडगाम रेलवे स्टेशन पर खड़े हैं। लेकिन इनको परिचालन में शामिल नहीं किया जा रहा है। अधिकारियों की माने शीशे के कोच के परिचालन के लिए हालात उपयुक्त नहीं है। इन कोचों को परिचालन में शामिल करने के लिए घाटी में हालात सामान्य होने का इंतजार किया जा रहा है। 40 सीटों वाले विस्टाडोम यानी शीशे के गुंबद वाले कोच की घोषणा जून में ही रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने की थी। चेन्नई स्थित इंटिग्रल कोच फैक्टरी में अनुमानित लागत चार करोड़ रुपये से ये कोच बने हैं। 

वातानुकूलित इन कोचों में लंबे शीशे की खिड़कियां और छत बनी हैं। पर्यवेक्षण-कक्ष और घुमावदार सीटों वाले इन कोचों की सेवा प्रदेश में पहली बार शुरू होने वाली है जिसका मकसद बनीहाल और बारामूला के बीच 135 किलोमीटर के सफर के दौरान यात्रियों को मनोरम नजारे का अनुभव दिलाना है। पर्यटकों को ध्यान में रखकर सीटों के साथ हवाई जहाज की तरह यात्रियों के खाने के लिए ट्रे लगाए गए हैं। यात्रा के दौरान रेलयात्री के ऑर्डर पर उनको हल्का भोजन मुहैया करवाया जा सकता है। 

यह भी देखें- आज पाकिस्तान की कमान संभालेंगे इमरान खान, जानिए कैसे पहुंचे सत्ता की बुलंदी तक

इसी साल अप्रैल में शीशे के गुंबद वाले इन कोचों को पूरे मार्ग का सफर तय करने के बाद बडगाम में विश्राम के लिए छोड़ दिया गया। इन्हें मई में परिचालन में शामिल करने की उम्मीद की जा रही थी, जिससे पर्यटकों को कश्मीर की वादियों के मनोरम नजारे का लुत्फ उठाने का मौका मिलता। नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, 'मौजूदा हालात विस्टाडोम कोच को सेवा में लाने के लिए ठीक नहीं है। हालात में सुधार होने पर भी इसका परिचालन शुरू होगा।'

पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए लिए विस्टाडोम कोच का इस्तेमाल पहली बार पिछले साल अप्रैल में विशाखापत्तन से किरनदुल में अराकू घाटी के लिए शुरू किया गया था। 

और पढ़ें- केरल में बाढ़ः खराब मौसम के कारण टला पीएम नरेंद्र मोदी का हवाई सर्वेक्षण

इसके बाद दादर और मडगांव के बीच मुंबई-गोवा रूट पर पिछले साल सितंबर में जनशताब्दी में विस्टाडोम कोच का इस्तेमाल किया गया। 

First Published: Saturday, August 18, 2018 10:54 AM

RELATED TAG: Jammu-kashmir, Budgam District, Kashmir Glass Roof Train,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो