मधु जैन की सलाह फैशन के मामले में बनें 'स्वदेशी'

फैशन एक बहुत शक्तिशाली मंच है। फैशन उद्योग में उन्होंने खादी चोगा के साथ कलमकारी, कांथा और इकत जैसे प्रयोग किए हैं।

  |   Updated On : December 18, 2016 06:04 PM
मधु जैन की सलाह फैशन के मामले में बनें 'स्वदेशी'

मधु जैन की सलाह फैशन के मामले में बनें 'स्वदेशी'

नई दिल्ली:  

जानी-मानी फैशन डिजाइनर मधु जैन का कहना है कि भारतीय डिजाइन बिरादरी और उपभोक्ताओं को 'स्वदेशी' होने का महत्व समझना चाहिए, इस संकल्पना को महात्मा गांधी ने प्रचारित किया था।

जैन ने साक्षात्कार में कहा, 'मैं स्वदेशी सोच रखती हूं। मेरे दादा स्वतंत्रता सेनानी थे। मेरे सोचने का तरीका अलग है और मैं बहुत राष्ट्रवादी हूं। मुझे लगता है कि अपनी राष्ट्रीय वेशभूषा को बनाए रखने और विलुप्त होने से बचाए रखने के लिए इसका समर्थन करना चाहिए।'

उन्होंने कहा कि साड़ी के साथ जो हुआ वह सलवार-कमीज के साथ नहीं होना चाहिए। युवतियों ने ज्यादा साड़ी पहनना शुरू कर दिया है, लेकिन अभी भी बहुत कुछ करने की जरूरत है।

ये भी पढ़ें, सनी लियोनी नहीं समझती आइटम नंबर का मतलब

जैन पारंपरिक बुनाई के तरीकों को बहाल करने की पैरवी करती हैं। उनका मानना है कि फैशन एक बहुत शक्तिशाली मंच है। फैशन उद्योग में उन्होंने खादी चोगा के साथ कलमकारी, कांथा और इकत जैसे प्रयोग किए हैं।

जैन कहती हैं कि कई देशों में लोग अपनी संस्कृति का संरक्षण करने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं, लेकिन भारत में अब यह नजर नहीं आ रहा।

जैन को लगता है कि भारतीय फैशन की मजबूती व पहचान इसके वस्त्रों में हैं। जैन कहती हैं कि वह बुनकरों के साथ काम करती हैं, जबकि 90 फीसदी डिजाइनर बाजार पहले से उपलब्ध मैटेरियल से अपने परिधान तैयार करते हैं।

First Published: Sunday, December 18, 2016 05:43 PM

RELATED TAG: Madhu Jain,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो