BREAKING NEWS
  • Haryana Assembly Election: तो क्‍या इस बार ताऊ देवीलाल का रिकॉर्ड तोड़ देगी बीजेपी- Read More »
  • उत्तर प्रदेश: पुलिस कस्टडी में युवक की बेरहमी से पिटाई के बाद मौत, 3 पुलिस कर्मी सस्पेंड- Read More »
  • छोटा राजन का भाई उतरा महाराष्ट्र के चुनावी रण में, इस पार्टी ने दिया टिकट - Read More »

महिला दिवस: दिल्ली की 28 प्रतिशत लड़कियां रॉग कॉल और संदेशों से जूझती हैं

IANS  |   Updated On : March 07, 2019 11:13:09 PM
प्रतिकात्मक फोटो (फोटो : सोशल मीडिया)

प्रतिकात्मक फोटो (फोटो : सोशल मीडिया) (Photo Credit : )

नई दिल्ली :  

दिल्ली की 28 फीसदी महिलाओं को हर सप्ताह परेशान करने वाली कॉल व संदेशों का सामना करना पड़ता है. यह भारत में सबसे ज्यादा है. स्वीडन के कॉलर आईडेंटीफिकेशन ऐप-ट्रूकॉलर ने गुरुवार को यह जानकारी दी. ट्रूकॉलर अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस से पहले महिला उत्पीड़न के खिलाफ -हैशटैगइट्सनॉटओके (#NOTOK) अभियान शुरू किया है.

ट्रूकॉलर ने अपनी रिपोर्ट 'अंडरस्टैंडिंग इम्पैक्ट ऑफ हरैस्मेंट स्पैम कॉल्स एंड एसएमएस फॉर वुमन' में कहा कि तीन महिलाओं में से एक लगातार अनुचित कॉल व संदेश आते रहते हैं.

ट्रूकॉलर की ग्लोबल ब्रांड मैनेजर लिंडसे लामोंट ने एक बयान में कहा, 'संदेशों व कॉल से यौन उत्पीड़न दुनिया भर में मुद्दा है, जिस पर ध्यान नहीं दिया गया है. हमारे अभियान इस मुद्दे पर जागरूकता लाने के लिए है, जिससे इस पर चर्चा हो और इसका समाज पर प्रभाव पड़े कि यह व्यवहार उचित नहीं है.'

इसे भी पढ़ेंलोकसभा चुनाव 2019 के लिए कांग्रेस ने जारी की पहली लिस्ट, सोनिया गांधी रायबरेली से लड़ेंगी चुनाव

रिपोर्ट में कहा गया कि करीब 78 फीसदी महिलाओं ने परेशान करने वाली कॉलों पर गुस्सा व चिढ़चिढ़ापन जाहिर किया है, जबकि इसमें से 37 फीसदी से ज्यादा ने अपने को परेशान चिंतित व भयभीत पाया है.

करीब 52 फीसदी महिलाओं को हफ्ते में कम से कम एक बार संदेश के साथ अनुचित सामग्री व अज्ञात कॉल का सामना करना पड़ा है.

First Published: Mar 07, 2019 11:13:06 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो