अमेरिका ने दिल्‍ली में रह रहे अपने नागरिकों को चेताया, हिंसाग्रस्‍त इलाकों में जाने से बचें

News State Bureau  |   Updated On : February 27, 2020 08:14:05 AM
अमेरिका ने दिल्‍ली में रह रहे अपने नागरिकों को चेताया, हिंसाग्रस्‍त इलाकों में जाने से बचें

दिल्‍ली हिंसा को लेकर अमेरिका ने अपने नागरिकों को चेताया (Photo Credit : Twitter )

नई दिल्‍ली :  

अमेरिका ने भारत खासकर राजधानी दिल्‍ली में रह रहे अपने नागरिकों (American Citizens) को हिंसाग्रस्‍त इलाकों में न जाने की सलाह दी है. नई दिल्‍ली स्‍थित अमेरिकी दूतावास (US Embassy) की ओर से जारी सिक्‍योरिटी अलर्ट (Security Alert) में उत्तर-पूर्वी दिल्ली (North-East Delhi) में हो रहे हिंसक प्रदर्शनों (violent Demonstrations) के बारे में बताया गया है और सावधान रहने के निर्देश दिए गए हैं. दो दिन पहले ही अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप (Donald Trump) अपनी दो दिवसीय भारत यात्रा पूरी कर स्‍वदेश लौटे हैं. उसके बाद अमेरिकी दूतावास की ओर से वहां के नागरिकों के लिए एडवाइजरी जारी की गई है.

यह भी पढ़ें : मोदी सरकार और दिल्‍ली पुलिस की खिंचाई करने वाले दिल्‍ली हाई कोर्ट के जज का तबादला

कर्फ्यू और धारा 144 के बारे में जानें

अमेरिकी दूतावास की ओर से अपने नागरिकों के लिए कहा गया है- 'भारत में रह रहे अमेरिकियों को उत्तर-पूर्वी दिल्ली (North-East Delhi) में चल रहे हिंसक प्रदर्शनों को देखते हुए सावधान रहना चाहिए और उन सभी इलाकों में जाने से बचना चाहिए, जहां प्रदर्शन हो रहे हैं. आप स्थानीय मीडिया आउटलेट्स पर प्रदर्शन के बारे में छप रही जानकारियों, सड़कों और मेट्रो के बंद किए जाने की खबरों को देखते रहें.'

सिक्योरिटी अलर्ट में संभावित कर्फ्यू पर भी नजर बनाए रखने को कहा गया है. यह भी कहा गया है कि भारत सरकार ने ऐसा कानून लागू कर रखा है, जिसे धारा 144 (Section 144) कहते हैं और इसके जरिए चार या चार से ज्यादा लोगों के राजनीतिक इरादे से इकट्ठा होने पर रोक होती है.

यह भी पढ़ें : दिल्ली हिंसा के बहाने स्वरा भास्कर ने की 'गंदी बात'

अमेरिकी दूतावास ने अपने नागरिकों को यह कदम उठाने को कहा है :

  • उन इलाकों में जाने से बचें जहां ज्यादा ट्रैफिक हो या रोड बंद हो या प्रदर्शन होने की आशंका हो
  • चर्चा का विषय न बनें
  • आस-पास के माहौल को ध्‍यान में रखें
  • स्थानीय मीडिया (Local Media) पर नजर रखें
  • स्थानीय प्रशासन (Local Administration) के आदेशों का पालन करें
First Published: Feb 27, 2020 08:02:30 AM

न्यूज़ फीचर

वीडियो