BREAKING NEWS
  • Diwali 2019: दिवाली के दिन इन बातों का रखें ध्यान, बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपा- Read More »
  • UP: एंबुलेंस नहीं मिली तो घायल को ठेले पर लादकर अस्पताल ले गए पुलिसवाले- Read More »
  • नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी पर मायावती ने दिया बड़ा बयान, कही ये बात- Read More »

कर्नाटक के सियासी ड्रामे में आज दिन भर की 10 बड़ी बातें, जानिए कब क्या हुआ

Ravindra Pratap Singh  |   Updated On : July 11, 2019 10:58:46 PM
सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो) (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  जारी है कर्नाटक का सियासी ड्रामा
  •  सुप्रीम कोर्ट पहुंचे स्पीकर और बागी विधायक
  •  स्पीकर ने कहा कार्यवाही का वीडियो सुप्रीम कोर्ट को देंगे

नई दिल्ली:  

कर्नाटक सरकार का सियासी ड्रामा का अब अंतिम फैसला विधानसभा अध्यक्ष को लेना है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बागी विधायक मुंबई से सीधे बेंगलुरु पहुंचे और स्पीकर से मुलाकात की. बागी विधायकों से मुलाकात के बाद स्पीकर रमेश कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की और लोगों को इस कर्नाटक की मौजूदा स्थिति के बारे में बताया. उन्होंने कहा, मैं कोई फैसला जल्दबाजी में नहीं लूंगा. बागी विधायकों के इस्तीफों की जांच होगी. कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष केआर रमेश कुमार ने कहा, जब मेरे ऊपर आरोप लगा कि मैं बागी विधायकों की सुनवाई में देरी कर रहा हूं तो मुझे दुख हुआ. राज्यपाल ने मुझे 6 जुलाई को सूचना दी थी. मैं तब तक पद पर था और बाद में मैं निजी काम के लिए चला गया. इससे पहले किसी भी विधायक ने यह जानकारी नहीं दी कि वे मुझसे मिलने आ रहे हैं. आइए 10 प्वाइंट्स में आपको बताते हैं आज सुबह से हुए कर्नाटक के सियासी ड्रामे का हाल.

गुरुवार की सुबह सुप्रीम कोर्ट पहुंचा कर्नाटक सियासी ड्रामा
गुरुवार की सुबह कर्नाटक का सियासी ड्रामा देश की सर्वोच्च अदालत में पहुंच गया जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट विधायकों के इस्तीफे के मुद्दे पर सुनवाई हुई. इस उठापठक के बीच मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कैबिनेट की बैठक बुलाई. वहीं बुधवार को मुंबई में डीके शिवकुमार को हिरासत में लिया गया और जबरन बेंगलुरु भेज दिया गया. अभी तक कुल 16 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं, जिसकी वजह से कांग्रेस-जेडीएस सरकार पर संकट बना हुआ है.

सियासी ड्रामे को लेकर बेंगलुरु में भी हलचल तेज
शुक्रवार को कर्नाटक विधानसभा का सत्र शुरू होना है, विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी इस सेशन को अवैध बता रही है. इस बीच कर्नाटक विधानसभा के आसपास धारा 144 लगा दी गई है. वहीं, स्पीकर रमेश कुमार का कहना है कि अभी तक उन्होंने कोई इस्तीफा मंजूर नहीं किया है. इसका एक नियम है, वह उसके अनुसार ही काम करेंगे.

सिद्धारमैया ने ट्वीटर पर दी सफाई
कांग्रेस नेता ने ट्वीट कर लिखा कि मेरे संपर्क में सभी विधायक हैं उन्होंने लिखा कि ऐसा कहना गलत है कि उनके संपर्क में सिर्फ कुछ ही विधायक हैं. इस बीच एचडी कुमारस्वामी गेस्ट हाउस पहुंचे, जहां पर ये मुलाकात होनी थी. कांग्रेस की ओर से सिद्धारमैया बैठक में हिस्सा लेने पहुंचे थे. उनके अलावा केसी वेणुगोपाल,गुलाम नबी आजाद भी बैठक में हिस्सा लेने पहुंचे थे.

सुप्रीम कोर्ट ने बागी विधायकों को दिया आदेश
सुप्रीम कोर्ट ने बागी विधायकों को शाम 6 बजे स्पीकर के सामने पेश होने का आदेश दिया. सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि वह स्पीकर से मिलकर उन्हें अपने इस्तीफे का कारण बताएं. सुप्रीम कोर्ट ने स्पीकर से आज ही विधायकों के इस्तीफे पर फैसला लेने को कहा था. इस मामले की अगली सुनवाई सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार को करेगा.

दोपहर 2 बजे के बाद विधानसभा स्पीकर भी सुप्रीम कोर्ट पहुंचे
दोपहर लगभग 2 बजे कर्नाटक विधानसभा स्पीकर रमेश कुमार ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की. उन्होंने अदालत से उस फैसले को वापस लेने की अपील की है, जिसमें उन्होंने सभी बागी विधायकों को आज ही स्पीकर के सामने पेश होने को कहा था. रमेश कुमार की तरफ से इस मोहलत को बढ़ाने की अपील की गई थी. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को सुनने के लिए हामी भर दी. हालांकि, ये मामला अब शुक्रवार को ही सुना जाएगा.

दोपहर 3 बजे बेंगलुरु के लिए रवाना हुए बागी विधायक
कर्नाटक में क्या होगा इसका फैसला आज हो सकता था क्योंकि शाम 6 बजे बागी विधायक विधानसभा स्पीकर से मुलाकात करेंगे. मुंबई के रिजॉर्ट में जो बागी विधायक रुके हुए थे वो सभी मुंबई एयरपोर्ट पहुंच गए. यहां से सभी बेंगलुरु रवाना होंगे जहां उन्हें स्पीकर के सामने पेश होना होगा.

शाम 4 बजे के बाद सीएम कुमारस्वामी ने विधान सौदा की सुरक्षा का जायजा लिया
कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी, कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार समेत अन्य ने विधानसभा की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया. सुप्रीम कोर्ट ने बागी विधायकों को शाम 6 बजे तक विधानसभा के स्पीकर से मुलाकात करने और दोबारा से अपना इस्तीफा देने को कहा.

कांग्रेस ने कहा बागी विधायकों के खिलाफ दलबदल की कार्रवाई के बाद लेंगे फैसला
कर्नाटक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने कहा कि हम बागी विधायकों से संपर्क नहीं करेंगे. हालांकि विधानसभा के अध्यक्ष को यह फैसला लेने के लिए समय चाहिए कि दलबदल कानून के तहत ऐसे विधायकों को अयोग्य घोषित किया जाए या नहीं? पहले विधानसभा अध्यक्ष को इन विधायकों को अयोग्य घोषित करना चाहिए. इसके बाद कांग्रेस पार्टी मामले को देखेगी.

कांग्रेस नेताओं का आरोप बीजेपी ने हमारे विधायकों को बंधक बनाया
कांग्रेस नेता ईश्वर खड़गे ने कहा कि पार्टी ने बागी विधायकों को सब कुछ दिया है. वो पार्टी के टिकट से चुनाव भी जीते हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि हमारे विधायकों को बीजेपी ने बंधक बना लिया है. उनको बीजेपी के शीर्ष नेताओं द्वारा बंधक बनाया गया है. उनका अपहरण किया गया है. साथ ही ईश्वर खड़गे ने दावा किया कि अगर विधानसभा में फ्लोर टेस्ट होता है, तो हम जरूर विश्वास मत हासिल करेंगे.

मुकुल रोहतगी ने स्पीकर पर पक्षपातपूर्ण तरीके से काम करने का आरोप लगाया
भारत के पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष अब पक्षपात कर रहे हैं. स्पीकर के पास कोर्ट की अथॉरिटी को चैलेंज करने का अधिकार नहीं है. अगर विधायक अपना इस्तीफा देना चाहते हैं, तो आगे कुछ नहीं बचता है. कोर्ट ने सिर्फ विधायकों को सुनने के लिए स्पीकर से कहा है.

मुकुल रोहतगी के आरोप का स्पीकर ने दिया जवाब
भारत के पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी के आरोप का जवाब देते हुए स्पीकर रमेश ने कहा कि मैं जल्दबाजी में काम नहीं करता हूं. मैं सिर्फ संविधान के तहत काम करता हूं. मैं सिर्फ संविधान के तहत ही काम करने के लिए बाध्य हूं. उन्होंने कहा कि मैं स्वैच्छिक इस्तीफा लेने के लिए बाध्य हूं. मैं स्वैच्छिक इस्तीफे के बारे में नहीं बोलूंगा.दरअसल, मुकुल रोहतगी ने कहा था कि स्पीकर रणनीतिक के तहत इस्तीफा स्वीकार करने में देरी कर रहे हैं.

स्पीकर ने कहा कार्यवाही का वीडियो सुप्रीम कोर्ट को सौंपेंगे
कर्नाटक विधानसभा के स्पीकर ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का जिक्र करते हुए कहा कि मेरे पास आज की कार्यवाही की वीडियो रिकॉर्डिंग है, जिसको सुप्रीम कोर्ट को दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि विधायकों ने मुझसे बात नहीं की और राज्यपाल के पास पहुंच गए. इस पर वो क्या कर सकते हैं? क्या यह यह देश की कार्यप्रणाली का दुरुपयोग नहीं है. इसके बाद विधायक सुप्रीम कोर्ट चले गए.

First Published: Jul 11, 2019 08:58:05 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो