BREAKING NEWS
  • मिशन चंद्रयान 2 पर विपक्ष का सवाल, मोदी सरकार के 100 दिन पूरे होने का इस अभियान से क्या संबंध था- Read More »
  • महाराष्‍ट्र में बनने वाली सरकार लूली-लंगड़ी होगी, संजय निरूपम ने कांग्रेस को किया आगाह- Read More »

जेल में ही इस बार दीपावली मनाएंगे स्वामी चिन्मयानंद, 30 अक्टूबर तक रहेंगे न्यायिक हिरासत में

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : October 16, 2019 10:07:52 PM
स्वामी चिन्मयानंद

स्वामी चिन्मयानंद (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

नई दिल्ली:  

पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद इस बार दीपावली जेल में ही मनाएंगे. वे अबत 30 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में रहेंगे. विधि की छात्रा के साथ यौन शोषण के आरोप में स्वामी चिन्मयानंद को न्यायिक हिरासत में रखा गया है. उसकी न्यायिक हिरासत बुधवार को 14 दिन और बढ़ा दी गई है. एसआईटी ने एसएस कॉलेज की छात्रा के साथ यौन शोषण के आरोपों के तहत 20 सितंबर को उसे गिरफ्तार किया था. अब इस मामले की सुनवाई 30 अक्टूबर को होगी.

यह भी पढ़ें- जम्मू-कश्मीर: आतंकी ने दो सेब विक्रेता को मारी गोली, एक की मौत, दूसरा गंभीर घायल

स्वामी चिन्मयानंद शाहजहांपुर जेल में हैं. बुधवार को हिरासत की रिमांड पूरी हो रही थी, ऐसे में शाहजहांपुर सीजेएम ओमवीर सिंह की कोर्ट ने मामले की सुनवाई की. वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिए चिन्मयानंद की जेल में पेशी हुई थी. कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत बढ़ाते हुए सुनवाई की अगली तारीख 30 अक्टूबर तय की है.

क्या है मामला

बता दें कि स्वामी शुकदेवानंद विधि महाविद्यालय में पढ़ने वाली एलएलएम की एक छात्रा ने 24 अगस्त को एक वीडियो वायरल कर स्वामी चिन्मयानंद पर शारीरिक शोषण और कई लड़कियों की जिंदगी बर्बाद करने के आरोप लगाए और उसे व उसके परिवार को जान का खतरा बताया था. वीडियो सामने आने के बाद छात्रा लापता हो गई थी. इस मामले में 25 अगस्त को पीड़िता के पिता की ओर से कोतवाली शाहजहांपुर में अपहरण और जान से मारने की धाराओं में स्वामी चिन्मयानंद के विरुद्ध मामला दर्ज कर लिया गया था. इसके बाद स्वामी चिन्मयानंद के अधिवक्ता ओम सिंह ने पांच करोड़ रुपय रंगदारी मांगने का भी मुकदमा दर्ज करा दिया था.

यह भी पढ़ें- देश को दहलाने की साजिश नाकाम, असम राइफल्स और मणिपुर पुलिस ने हथियार तस्कर को पकड़ा 

मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा और 30 अगस्त को पीड़िता को उसके एक दोस्त के साथ राजस्थान से बरामद कर लिया गया. सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर पीड़िता को कोर्ट के समक्ष पेश किया गया. सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर एसआईटी ने मामले की जांच शुरू की. 16 सितंबर को पीड़िता की ओर से दिल्ली पुलिस को दी गई शिकायत पर संज्ञान लेते हुए धारा 164 में उसका बयान दर्ज कराया गया. एसआईटी ने मोबाइल, पेन ड्राइव और गवाहों के मोबाइल सीज कर उन्हें फॉरेंसिक लैब भेजा. छात्रा ने स्वामी चिन्मयानंद पर करीब नौ माह तक यौन शोषण करने, दुष्कर्म कर उसका विडियो बनाने, नहाने का विडियो बनाने और उन्हें गायब कर साक्ष्य मिटाने जैसे गंभीर आरोप लगाए हैं.

First Published: Oct 16, 2019 10:03:45 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो