BREAKING NEWS
  • विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने वाले पहले भारतीय बने अमित- Read More »
  • 17 साल के लड़के ने 60 साल की बुजुर्ग महिला को बनाया हवस का शिकार, मामला जान थर्रा जाएगी रूह- Read More »

आतंकी उन्हें गोली मारें जिन्होंने जम्मू-कश्मीर को लूटा, राज्यपाल सत्यपाल मलिक के बयान पर विवाद

News State Bureau  |   Updated On : July 22, 2019 10:43:27 AM
जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक.

जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक.

ख़ास बातें

  •  मलिक ने कहा-आतंकी उन लोगों को मारें जिन्होंने जम्मू कश्मीर को लूटा है.
  •  उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर घेरा था राज्यपाल सत्यपाल मलिक को.
  •  बाद में राज्यपाल मलिक ने दी सफाई और उमर पर साधा निशाना.

जम्मू.:  

जम्म-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक एक बार फिर अपने बयान को लेकर विवादों में हैं. हालांकि सोमवार को उन्होंने अपने बयान पर खेद जरूर जताया लेकिन यह जोड़ना भी नहीं भूले कि उन्होंने एक कड़वी सच्चाई बयान की है. इस बयान पर नेशनल कांफ्रेस के नेता उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर सत्यपाल मलिक को घेरने की कोशिश की, तो राज्यपाल उन्हें भी लपेटने से नहीं चूके. उन्होंने कहा कि उमर वास्तव में राजनीतिक तौर पर बच्चे ही हैं.

यह भी पढ़ेंः कर्नाटक का नाटकः बागी विधायकों को मनाने के लिए सीएम बदलने का प्रस्ताव, विश्वास मत आज

कारगिल में अपने भाषण में दिया बयान
गौरतलब है कि रविवार को करगिल में एक भाषण के दौरान आतंकियों को निशाना बनाते हुए कहा था, 'आतंकी उन लोगों को मारें जिन्होंने जम्मू कश्मीर को लूटा है. ये लड़के बंदूक लिए फिजूल में अपने लड़कों को मार रहे हैं. पीएसओज, एसजीओज को मारते हैं... क्यों मार रहे हो इनको. उनको मारो जिन्होंने तुम्हारा मुल्क को लूटा है. जिन्होंने कश्मीर की सारी दौलत लूटी है. इनमें से कोई मरा है अभी तक?' हालांकि इस बयान के आगे उन्होंने यह भी कहा था कि बंदूक के इस्तेमाल से कुछ होने वाला नहीं है.

यह भी पढ़ेंः अमेरिका दौरे पर पाकिस्तान के PM इमरान खान, भाषण के दौरान बलूच के कार्यकर्ताओं ने किया हंगामा

अनंतनाग की घटना से संबंध
सत्यपाल मलिक के इस बयान को शुक्रवार को हुई अनंतनाग की घटना से जोड़कर देखा जा रहा है. गौरतलब है कि अनंतनाग जिले में आतंकवादियों ने शुक्रवार को पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के चचेरे भाई के सुरक्षा गार्ड की गोली मारकर हत्या कर दी थी. आतंकियों ने सुरक्षा गार्ड की सर्विस राइफल से ही उस पर हमला किया गया था. इसी तरह जिले के बिजबेहरा शहर में पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के वरिष्ठ नेता सजाद मुफ्ती के निजी सुरक्षा अधिकारी (पीएसओ) कांस्टेबल फारूक अहमद पर आतंकवादियों ने गोलीबारी कर दी थी.

यह भी पढ़ेंः इस मामले में सबसे आगे निकले सीएम योगी, अखिलेश, मायावती, ममता और प्रियंका गांधी को भी पछाड़ा

सोमवार को खड़ा हो गया विवाद
बाद में राज्यपाल के इस बयान पर विवाद हो गया. नेशनल कांफ्रेंस के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर कहा था कि यदि राज्य में किसी नौकरशाह या राजनेता की हत्या होती है, तो इसके लिए राज्यपाल सत्यपाल मलिक ही जिम्मेदार होंगे. उन्होंने ट्वीट में लिखा था कि ऐसा इसलिए क्योंकि राज्यपाल ने ही सार्वजनिक मंच से भ्रष्टाचार करने वाले नेताओं और नौकरशाहों को गोली मारने के लिए कहा था.

यह भी पढ़ेंः खुशखबरी, आम आदमी को महंगाई से मिलेगी राहत, एशियाई विकास बैंक का अनुमान

उमर अब्दुल्ला को राजनीतिक तौर पर बच्चा बताया
इस पर विवाद बढ़ता देख राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने सोमवार को न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा, बतौर राज्यपाल मुझे ऐसा नहीं कहना चाहिए था. हालांकि मैंने वह बात गुस्से में कही थी, लेकिन जहां तक मेरे निजी विचारों का मसला है मैं अपनी बात को सही मानता हूं. कई नौकरशाहों और नेताओं ने राज्य में करप्शन को बढ़ावा दिया है. उमर अब्दुल्ला से जुड़ी ट्वीट पर सत्यपाल मलिक ने उमर अब्दुल्ला को राजनैतिक तौर पर अवयस्क बताया. साथ ही कहा कि उन्हें हर मसले पर ट्वीट करने की आदत सी हो गई है.

First Published: Jul 22, 2019 10:35:16 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो