क्या दोबारा सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical Strike) होगी या फिर बालाकोट एयरस्ट्राइक पार्ट 2 ( AirStrike Part-2) को अंजाम दिया जाएगा

अभिषेक भारद्वाज  |   Updated On : October 01, 2019 06:28:16 AM
प्रतीकात्‍मक चित्र

प्रतीकात्‍मक चित्र (Photo Credit : )

नई दिल्‍ली:  

क्या दोबारा सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical Strike) होगी या फिर बालाकोट एयरस्ट्राइक पार्ट 2 (Balakot Air Strike Part-2) को अंजाम दिया जाएगा. ये वो सवाल हैं जो आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत (General Bipin Rawat) की चेतावनी के बाद सामने आए.जनरल रावत (General Bipin Rawat) ने एक इंटरव्यू के दौरान साफ कर दिया कि पाकिस्तान से होने वाली आतंकी गुस्ताखियों को अब बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. अब सरहद पार से लुका छिपी का कोई खेल नहीं चलेगा. अगर हमें LoC को पार करने की जरूरत पड़ी तो हम जरूर करेंगे.सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical Strike) और बालाकोट एयरस्ट्राइक से हमने ये पैगाम दे दिया है कि LoC के मानकों को तभी माना जाएगा जब तक दूसरी तरफ से कोई हिंसक या साजिश भरी हरकत नहीं होती है.

यह भी पढ़ेंः अक्टूबर 2019 मासिक राशिफल: इन 5 राशियों की चमकेगी किस्‍मत, इनको रहना होगा सावधान

जनरल रावत (General Bipin Rawat) ने सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical Strike) और बालाकोट एयरस्ट्राइक का जिक्र कर शायद ये कहा.कि आतंकी वारदातों का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए दोनों विकल्प हमेशा तैयार हैं.यानी जमीन से और आमसान से.जैसी जरूरत पड़ेगी.वैसा एक्शन लिया जाएगा. भारतीय सेना किस तरह जनरल के इस पैगाम को अंजाम तक पहुंचा सकती है.

यह भी पढ़ेंः उत्‍तर प्रदेश विधानसभा उपचुनावः क्‍या योगी-मोदी का जादू रहेगा बरकार?

दरअसल अनुच्छेद 370 हटने से कश्मीर को नई आजादी मिली है.और जवानों का एक ही मकसद है.नई आजादी को आतंक की लपटों से दूर रखना. वहीं बालाकोट का टेरर कैंप दोबारा एक्टिवेट कर दिया गया है.250 से ज्यादा आतंकी घुसपैठ की कोशिशों में जुटे हैं.ये आतंकी लॉन्च पैड्स पर मौजूद हैं.

यह भी पढ़ेंः इज्जत के नाम पर 50 महिलाओं समेत 78 लोगों की हत्या (Honor Killing), सजा किसी को नहीं

अगर कश्मीर से आतंक को दूर रखना है तो आतंक के खिलाफ प्री एम्पटिव एक्शन लेना होगा और इस एक्शन की एक तस्वीर नजर आई शनिवार को. शनिवार को जम्मू कश्मीर में दो बड़े एनकाउंटर हुए.रामबन में जवानों ने तीन आतंकियों को ढेर कर दिया गया तो श्रीनगर के नजदीक गांदरबल में भी तीन आतंकी मारे गए.यानी एक दिन के अंदर 6 आतंकियों को मौत के घाट उतारा गया.

यह भी पढ़ेंः चीन-पाकिस्‍तान पर कहर बरपाएगी सुखोई और ब्रह्मोस की जोड़ी, एक और परीक्षण सफल

भारतीय सेना के पास हमेशा से आतंक को कुचलने के विकल्प मौजूद थे.इंतजार था तो सिर्फ मजबूत राजनीतिक इच्छाशक्ति का.जो मिली मोदी सरकार से. पाकिस्तान को अगर घुसपैठ करानी है तो आतंकियों को एलओसी के नजदीक ही रखना पड़ेगा.ऐसे में सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical Strike) ..या फिर एयरस्ट्राइक के जरिए आतंकियों को निशाना बनाया जा सकता है. इसके साथ ही साथ कोई बड़ा और तेज एक्शन भी पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए काफी है.सेना क्या कार्रवाई करती है.कब और कैसे करती है.इसका जवाब भी पाकिस्तानी करतूत ही होगी.पाकिस्तान जैसी साजिश रचेगा.उसे सजा भी उसी हिसाब से ही दी जाएगी.

First Published: Sep 30, 2019 09:29:17 PM
Post Comment (+)

Live Scorecard

न्यूज़ फीचर

वीडियो