10 रुपये महीने था JNU हॉस्टल में रूम, अब हो गया इतना किराया

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : November 11, 2019 06:50:46 PM
जेएनयू के बाहर फीस बढ़ोत्तरी को लेकर प्रदर्शन करते छात्र

जेएनयू के बाहर फीस बढ़ोत्तरी को लेकर प्रदर्शन करते छात्र (Photo Credit : फाइल फोटो )

नई दिल्ली :  

दिल्ली के जवाहार लाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्र फीस बढ़ोत्तरी के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं. आखिर क्या कारण है कि छात्र उनका उग्र हो उठे हैं. दरअसल इसके पीछे मुख्य वजह हॉस्टल फीस में बढ़ोत्तरी को लेकर है. विश्वविद्यालय प्रशासन ने इसमें कई गुना की बढ़ोत्तरी कर दी है. छात्रों को डबल सीटर रूम महज 10 रुपये महीने के किराए पर दिया जा रहा था जिसे बढ़ाकर 300 रुपये महीने कर दिया गया है . 

उपराष्ट्रपति का चल रहा संबोधन
जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी में एक तरफ दीक्षांत समारोह को उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू (Venkaiah Naidu, Vice President of India) संबोधित कर रहे थे, वहीं दूसरी तरह कैंपस के बाहर के छात्रों का फीस बढ़ोत्तरी को लेकर प्रदर्शन चालू था. JNU छात्र संघ फीस बढ़ोत्तरी के विरोध में मार्च निकाल रहे थे. पुलिस और जेएनयू प्रशासन के सामने पसोपेश की स्थिति पैदा हो गई. उपराष्ट्रपति के कैंपस में मौजूद होने के दौरान छात्रों के प्रदर्शन ने विश्वविद्यालय प्रशासन के सामने परेशानी खड़ी कर दी.

यह भी पढ़ेंः JNU में दीक्षांत समारोह के बीच छात्रों का विरोध प्रदर्शन, फीस बढ़ोतरी को लेकर आक्रोश

बता दें, सोमवार को छात्रों ने विरोध मार्च निकाला है. वह वाइस चांसलर के खिलाफ जेएनयू कैंपस के बाहर उग्र प्रदर्शन कर रहे हैं. छात्र संघ की मांग है कि हॉस्टल फीस बढो़तरी को लेकर जो फैसला किया गया है उसे वापस लिया जाए. छात्रों का ये भी कहना है कि जब उन्हें सस्ती शिक्षा नहीं मिल रही तो दीक्षांत समारोह की क्या जरूरत है.

इसके अलावा छात्रों की ये भी मांग है कि हॉस्टल में कोई सर्विज चार्ज न लिया जाए और न ही कोई ड्रेस कोड बनाया जाए. इसके अलावा आने-जाने के लिए भी टाइम की पाबंदी खत्म की जाए. सोमवार को विरोध प्रदर्शन करने के दौरान एक छात्र ने कहा, पिछले 15 दिनों से हम यहां फीस बढ़ोतरी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. यहां पढ़ने वाले बच्चों में 40 फीसदी गरीब परिवार से आते हैं. वो यहां कैसे पढ़ेंगे. बता दें, इससे पहले 29 अक्टूबर को भी छात्रों ने हॉस्टल की फीस बढ़ोतरी को लेकर जमकर बवाल काटा था.

केंद्रीय मंत्री भी समारोह में मौजूद
दीक्षांत समारोह में केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक के साथ उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडु भी शामिल हुए हैं. अभी भी मुख्य अतिथि समारोह में मौजूद है. पुलिस और छात्रों के बीच कई बार भिड़ंत की स्थिति सामने आ चुकी है. इस बार जेएनयू प्रशासन ने दीक्षांत समारोह वसंत कुंज स्थित ऑल इंडिया काउंसिल ऑफ टेक्निकल एजुकेशन (All India Council of Technical Education) सभागार में रखा गया है.

यह भी पढ़ेंः अंदर उपराष्ट्रपति का भाषण, बाहर छात्रों का प्रदर्शन, जानिए क्या थी वजह

यह है छात्रों की मांगें
प्रदर्शनकारी छात्रों का कहना है कि फीस बढ़ोतरी का फैसला वापस लिया जाए.
हॉस्टल में ड्रेस कोड नहीं लागू किया जाए.
नया हॉस्टल मैन्यू पूरी तरह रद किया जाए.
हॉस्टल में छात्रों से कोई सर्विस चार्ज नहीं लिया जाए.
हॉस्टल में आने-जाने के लिए समय सीमा को खत्म किया जाए.

First Published: Nov 11, 2019 04:37:16 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो