BREAKING NEWS
  • शत्रुओं का करना चाहते हैं अगर सर्वनाश तो इस नवरात्रि करें यह जाप - Read More »
  • INX Media case: CBI ने दिल्ली HC में पी. चिदंबरम की जमानत याचिका का किया विरोध- Read More »

अब सिर्फ Pok पर होगी पाकिस्तान से बात, पंचकुला में बोले राजनाथ सिंह

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : August 18, 2019 12:36:24 PM
हरियाणा में राजनाथ सिंह (फोटो- ANI)

हरियाणा में राजनाथ सिंह (फोटो- ANI)

नई दिल्ली:  

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने साफ कहा है कि अब पाकिस्तान के साथ बात तभी होगी जब आतंकवाद को समर्थन देना बंद कर देगा. इसी के साथ उन्होंने ये भी कहा है कि, अब पाकिस्तान के साथ कोई बात होगी तो वो केवल पीओके को लेकर होगी. राजनाथ सिंह ने ये बात रविवार को हरियाणा के पंचकुला में कही. उन्होंने कहा, जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 राज्य के विकास के लिए हटाया गया है. उन्होंने कहा, हमारा पड़ोसी अतंरराष्ट्रीय समुदायों के दरवाजा खटखटा रहा है और कह रहा है कि भारत ने गलती की है. पाकिस्तान के साथ बातचीत अब तभी होगी जब वो आतंकवाद को शह देना बंद कर देगा.

यह भी पढ़ें: काम नहीं हुआ तो लोगों से कहकर धुलाई करा दूंगा, नितिन गडकरी ने दी अधिकारियों को चेतावनी

राजनाथ सिंह ने आगे कहा, कुछ दिनों पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा था कि भारत बालाकोट से भी कुछ बड़ा करने की तैयारी कर रहा है. इसका मतलब ये कि पाकिस्तान भी बालाकोट में भारत की तरफ से की गई एयरस्ट्राइक की बात को मानता है.

No First Use की नीति में परिवर्तन

इससे पहले शुक्रवार को राजस्‍थान के पोखरण में राजनाथ सिंह ने कहा था कि हमारी नीति रही है कि हम परमाणु हथियार का पहले प्रयोग नहीं करेंगे, लेकिन आगे क्या होगा यह समय, काल और परिस्थितियों पर निर्भर करेगा. ये पाकिस्तान को भारत की तरफ से अब तक की सबसे चुनौती के रूप में माना जा रहा है जिसमें भारत ने कहा है कि वह परमाणु हमले को लेकर No First Use की नीति में परिवर्तन कर सकता है. बता दें कि मई 1998 में अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्री रहते हुए पोखरण में भारत ने परमाणु परीक्षण किया था.

यह भी पढ़ें: हिरासत में उमर अब्दुल्ला खेल रहे वीडियो गेम, तो महबूबा मुफ्ती पढ़ रहीं किताबें

राजनाथ सिंह के इस बयान के बाद पाकिस्तान का बयान भी सामने आया था जिसमें उसने इस बयान को हिंसा के लिए भारत की आतुरता की एक और घातक चेतावनी. पाकिस्तान के आक्रामक कूटनीति प्रयासों के ठीक विपरीत. जैसा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने 1965 के बाद पहली बार औपचारिक रूप से भारत अधिकृत कश्मीर पर अंतर्राष्ट्रीय विवाद की स्थिति को मानने के लिए बैठक की है. इतिहास गवाह रहा है कि जंग भड़काने वाले फासीवादी देश कभी नहीं जीत सकते हैं.'

पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने इससे पहले राजनाथ सिंह की टिप्पणी को 'चौंकाने वाला और गैर जिम्मेदाराना' कहा था.

First Published: Aug 18, 2019 12:34:32 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो