BREAKING NEWS
  • कमलेश तिवारी हत्याकांड: गुजरात ATS को मिली बड़ी कामयाबी, मुख्य आरोपी अशफाक और मुईनुद्दीन गिरफ्तार- Read More »

पाकिस्तान के लिए बुरा ख्वाब साबित होगी राफेल-सुखोई की जोड़ी, वाइस चीफ एयर मार्शल ने समझाया कैसे

News State Bureau  |   Updated On : July 12, 2019 11:19:43 AM
वाइस चीफ एयर मार्शल राकेश कुमार भदौरिया (साभार एएनआई)

वाइस चीफ एयर मार्शल राकेश कुमार भदौरिया (साभार एएनआई) (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  वाइस चीफ एयर मार्शल ने फ्रांस में लड़ाकू विमान राफेल में भरी उड़ान.
  •  कहा, दुश्मन देशों के होश उड़ा देगी राफेल-सुखोई की जोड़ी.
  •  भविष्य के लिहाज से राफेल की तकनीक और हथियार उपयुक्त.

नई दिल्ली.:  

इंडियन एयरफोर्स के वाइस चीफ एयर मार्शल राकेश कुमार भदौरिया ने अत्याधुनिक राफेल विमान को 'गेमचेंजर' करार देते हुए राफेल-सुखोई की जोड़ी को दुश्मन देशों के लिए रणनीतिक तौर पर बहुत अहम करार दिया. उन्होंने यह बात गुरुवार को फ्रांस में राफेल में उड़ान भरने के बात कही. राफेल को रणनीतिक तौर पर अहम बताते हुए वाइस चीफ एयर मार्शल ने कहा कि राफेल के वायुसेना में शामिल होते ही राफेल और सुखोई की जोड़ी पाकिस्तान के लिए बहुत भारी साबित होगी.

यह भी पढ़ेंः Uttar Pradesh: खनन घोटाले में बढ़ सकती हैं 6 IAS अफसरों की मुश्किलें, पढ़िए पूरी खबर

पाकिस्तान नहीं दोहार पाएगा 27 फरवरी जैसी हरकत
उन्होंने राफेल में उड़ान भरने को सुखद अनुभव बताते हुए कहा, 'हमें सीखने को मिला कि कैसे वायुसेना के बेड़े में शामिल होने के बाद हम राफेल का बेहतर तरीके से इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके अलावा हम देखेंगे कि हमारे बेड़े के अहम हिस्से सुखोई-30 के साथ इसकी क्या उपयोगिता होगी.' उन्होंने आगे कहा कि एक बार ये दोनों फाइटर जेट एक साथ ऑपरेट करना शुरू कर दें, उसके बाद पाकिस्तान 27 फरवरी जैसी हरकत दोबारा नहीं कर पाएगा. ये दोनों विमान मिलकर पाकिस्तान का काफी नुकसान करने में सक्षम हैं.

यह भी पढ़ेंः मोदी सरकार 2.0 पर सुब्रमण्यम स्वामी का हफ्ते भर में दूसरा बड़ा हमला, कयासों का दौर शुरू

गेमचेंजर साबित होगा राफेल का भारतीय बेड़े में शामिल होना
उन्होंने यह भी कहा, 'राफेल में जिस तरह की तकनीक और हथियारों का इस्तेमाल किया गया है, वे भारत के लिए प्लानिंग के नजरिए से एक गेम चेंजर साबित होंगे. हम जिस तरह के आक्रामक मिशनों और आने वाले समय में युद्ध के लिए प्लानिंग करना चाहते हैं, उसके हिसाब से ये तकनीक और हथियार बिल्कुल उपयुक्त हैं.' गौरतलब है कि भारत और फ्रांस के बीच 23 सितंबर 2016 को 36 राफेल विमान खरीदने का सौदा हुआ था. इससे पहले कांग्रेस शासन में भी फ्रांस से राफेल विमान को लेकर एक डील हुई थी, लेकिन उस डील को रद्द कर यह नया सौदा किया गया.

First Published: Jul 12, 2019 11:19:43 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो