प्रज्ञा ठाकुर के पक्ष में आए BJP सांसद ने कहा- महिला को आतंकवादी कहना गांधी हत्या से ज्यादा बद्तर

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : November 29, 2019 01:28:05 PM
प्रज्ञा के पक्ष में उतरे बीजेपी सांसद

प्रज्ञा के पक्ष में उतरे बीजेपी सांसद (Photo Credit : (फाइल फोटो) )

नई दिल्ली:  

नाथूराम गोडस को देशभक्त कहने पर बीजेपी सांसद ने आज संसद में माफी मांग ली है. लेकिन इसके बाद भी संसद में विपक्षा का हंगामा और नारेबाजी जारी है. प्रज्ञा ठाकुर के माफीनामा के बाद उनके पक्ष में आए बीजेपी सांसद निशीकांत दुबे ने कहा, 'कांग्रेस नेता राहलु गांधी को प्रज्ञा ठाकुर को आतंकवादी कहने के लिए माफी मांगनी चाहिए. एक महिला को आतंकवादी कहना महात्मा गांधी की हत्या से भी बदतर है.' उन्होंने ये भी कहा कि संसद के सदस्य को आतंकवादी कहने के लिए राहुल गांधी के खिलाफ विशेषाधिकार प्रस्ताव का इस्तेमाल होना चाहिए.

ये भी पढ़ें: संसद में गोडसेगीरी नहीं चलेगी, साध्वी प्रज्ञा के बयान पर बोले ओवैसी

लोकसभा में निशिकांत दुबे ने ये भी कहा, 'महाराष्ट्र में कांग्रेस ने शिवसेना के साथ सरकार का गठन किया है जबकि शिवसेना ने अपना 'सामना' में भी नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताया था. कांग्रेस सत्ता और लालच के लिए किसी भी सीमा तक जा सकती है.'

बता दें कि बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने आज संसद की कार्यवाही के दौरान अपने बयान को लेकर माफी मांगते हुए कहा, 'लेकर बयानबाजी पर विवादों में फंसी बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने आज संसद में माफी मांग ली है. उन्होंने कहा कि सदन में किसी भी टिप्पणी से जिस किसी को भी ठेस पहुंची हो उसके लिए क्षमा चाहती हूं.'

उन्होंने ये भी कहा, 'संसद में मेरे बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है, बयान पर राजनीति हुई है जो निंदनीय है. साध्वी प्रज्ञा ने ये भी कहा, 'गांधी जी की देश के प्रति सेवा का मैं सम्मान करती हूं.'

इसी के साथ बीजेपी सांसद प्रज्ञा ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा, 'इसी सदन के एक माननीय सदस्य ने मुझे आतंकी कहा था, तत्कालीन सरकार के षड्यंत्र के बावजूद मुझपर कोई आरोप सिद्ध नही हुआ है. ये एक महिला का अपमान है उसे आतंकी कहना जो इसी सदन में मेरे ख़िलाफ़ कहा गया है.'

गोडसे पर बीजेपी सांसद के बयान के बाद कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर हमला करते हुए कहा था कि आतंकी प्रज्ञा ने आतंकी गोडसे को बताया देशभक्‍त. यह भारतीय संसद के इतिहास का सबसे दुखद दिन है.

बता दें कि साध्वी प्रज्ञा ने बुधवार को लोकसभा में चर्चा के दौरान नाथुराम गोडसे को देशभक्त बताया था, जिसके बाद जमकर हंगामा हुआ. बाद में लोकसभा की कार्यवाही से भी उनके बयान को हटा दिया गया था. वहीं दूसरी तरफ विपक्ष भी साध्वी प्रज्ञा के इस बयान को लेकर बीजेपी पर हमलावर बनी हुई थी.

प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने ये बयान बुधवार को उस समय दिया, जब एसपीजी संशोधन बिल पर बहस चल रही थी. द्रमुक सांसद ए. राजा ने बहस के दौरान महात्मा गांधी की हत्या से जुड़े नाथूराम गोडसे के बयान का हवाला दिया था. यह सुनते ही बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर खड़ीं होकर चीख पड़ीं. उन्होंने गोडसे को देशभक्त बताते हुए ए. राजा के बयान का विरोध किया था.

और पढ़ें: गोडसे विवाद पर साध्वी प्रज्ञा की सफाई, सच केवल इतना कि मैंने ऊधम सिंह अपमान नहीं सहा

गौरतलब हैं कि इससे पहले लोकसभा चुनाव जीतने के बाद भी उन्होंने नाथूराम गोडसे को लेकर कहा था कि नाथूराम गोडसे ने गांधी जी की हत्या नहीं की थी बल्कि वह देशभक्त थे. उस समय भी उनके इस बयान को लेकर विवाद छिड़ा था. पीएम मोदी ने उस वक्त कहा था कि वह कभी भी साध्वी को दिल से माफी नहीं दे पाएंगे.

First Published: Nov 29, 2019 01:10:47 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो