BREAKING NEWS
  • Petrol Rate Today 18 Nov 2019: 74 रुपये के पार पहुंच गया पेट्रोल, लगातार पांचवे दिन कीमतों में बढ़ोतरी- Read More »
  • सीएम नीतीश कुमार से मिले बिल गेट्स, बोले- बिहार ने गरीबी और बीमारी से बहुत लड़ाई लड़ीसीएम नीतीश कुमार से मिले बिल गेट्स, बोले- बिहार ने गरीबी और बीमारी से बहुत लड़ाई लड़ी- Read More »
  • Today History: आज ही के दिन WHO ने एशिया के चेचक मुक्त होने की घोषणा की थी, जानें आज का इतिहास- Read More »

बिहार में अब बाढ़ के सहारे सियासी बढ़त लेने में जुटे राजनीतिक दल

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : July 31, 2019 01:30:00 AM
बिहार में बाढ़

बिहार में बाढ़ (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

बिहार में बाढ़ का प्रकोप लगातार जारी है. बाढ़ की स्थिति का सहारा लेकर अब राजनीति दल सियासी बढ़त लेने में जुट गए हैं. बाढ़ की स्थिति के कारण नेता अब एक-दूसरे पर पर आरोप लगाने में लगे हुए हैं. वैसे, बिहार के लिए बाढ़ कोई नई बात नहीं है. बिहार में प्रतिवर्ष लाखों लोग बाढ़ की त्रासदी झेलते हैं, लेकिन नेता इस त्रासदी के बीच भी अपने सियासी शतरंज पर शह और मात का खेल जारी रखते हैं. बिहार में मुख्य विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) जहां नीतीश सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर बाढ़ के बहाने निशाना साध रहे हैं, वहीं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पूर्व उपमुख्यमंत्री और विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव पर अब तक बाढ़ प्रभावित इलाकों में नहीं जाने पर कटाक्ष कर राजद को असंवेदनशील बता रहे हैं. इस बीच हालांकि बिहार में सत्तारूढ़ भाजपा और जद (यू) भी इशारों ही इशारों में एक-दूसरे पर बाढ़ को लेकर बढ़त बनाने में लगे हैं. 

जद (यू) के प्रधान महासचिव क़े सी़ त्यागी ने कहा कि बिहार के लोग बाढ़ से त्रस्त हैं. बिहार के लोगों की इच्छा इस दुख के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बिहार आने की है. त्यागी ने नसीहत देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री को अपने मन की बात में बिहार की बाढ़ की भी चर्चा करनी चाहिए थी. त्यागी ने कहा, "प्रधानमंत्री मोदी अगर मन की बात में बिहार और असम की बाढ़ की चर्चा करते तो और बेहतर होता. मोदी को अभी भी बिहार पहुंचकर हालात की जानकारी लेनी चाहिए." त्यागी के बयान पर भाजपा के नेता शहनवाज हुसैन ने भी इशारों ही इशारों में जद (यू) को आईना दिखाते हुए कहा कि बहुत मामलों में मुख्यमंत्री को भी पहुंचना होता है, जहां वे नहीं पहुंच पाते हैं. स्वभाविक है कि बिहार के लोगों की इच्छा होती है. इधर, विपक्ष भी सत्तारूढ़ राजग पर बाढ़ को लेकर असंवेदनशील होने का आरोप लगाया है.

राजद के विधायक भाई वीरेंद्र कहते हैं कि सरकार पूरी तरह असंवेदनशील है. बाढ़ पीड़ितों को कहीं भी सुविधा नहीं दी जा रही है. लोगों के घर बह गए हैं. राहत शिविर तक बंद कर दी गई है. आखिर बाढ़ पीड़ित कहां जाएं? उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि डबल इंजन, यानी केंद्र अैर राज्य में एक ही गठबंधन की सरकार है, फिर भी बाढ़ पीड़ित परेशान हैं. बिहार भाजपा के विधायक संजीव चौरसिया ने कहा कि विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं बचा है. उन्होंने कहा कि पहली बार ऐसा हुआ कि बाढ़ पीड़ितों के खाते में बाढ़ आने के चार दिनों के अंदर छह-छह हजार रुपये पहुंचे हैं. उन्होंने कहा कि अब तक विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव अभी तक बाढ़ पीड़ितों से मिलने बाढ़ प्रभावित इलाकों में नहीं जा सके. उल्लेखनीय है कि राज्य के 13 जिलों के 111 प्रखंडों की 88 लाख 46 हजार से ज्यादा की आबादी बाढ़ से प्रभावित है. बाढ़ की चपेट में आने से अब तक 130 लोगों की मौत हो गई है. लोग अपने-अपने इलाके के ऊंचे राजमार्ग पर शरण लिए हुए हैं और राहत सामग्री की बाट जोह रहे हैं. हजारों हेक्टेयर में लगी फसलें बर्बाद हो गई हैं. सैकड़ों मवेशी मर गए हैं.

First Published: Jul 31, 2019 01:30:00 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो